Profile cover photo
Profile photo
Vijay Kumar Sappatti
16,169 followers -
you have only one life....Spread LOVE and Humanity.
you have only one life....Spread LOVE and Humanity.

16,169 followers
About
Vijay Kumar Sappatti's interests
View all
Vijay Kumar Sappatti's posts

Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय






Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय






Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय






Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय






Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय






Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों ,
आप सभी को विजय के प्रणाम और नमस्कार !

आप सभी को मैं अपनी नई कहानी “ तान्या “ सौंप रहा हूँ !

माँ और बेटी का रिश्ता बहुत अनमोल और संवेदनशील होता है. दोनों एक दूजे में अपना अक्स देखते है.
कुछ कथाये ऐसी होती है , जिन्हें छूना ही बहुत मुश्किल होता है , लिखना तो बहुत दूर की बात है . ऐसी ही एक सच्ची घटना को , मैंने आपके सामने पेश किया है.

इस कहानी को में कई साल पहले से ही जानता था , पर इसे शब्दों का रूप देने में मुझे इतने बरस लग गए क्योंकि , जब भी इस कथा के बारे में सोचता था, मैं खुद रो पड़ता था, पिछले दिनों जब मैं काफी बीमार रहा , उसी बीमारी के उतार चढ़ाव के दौरान , मैंने इस कथा को शब्द दे दिए.

मुझे यकीन है कि आप इस कथा को बहुत बहुत दिनों तक याद रखेंगे . छोटी सी कहानी है जिसमें न समा सके ऐसी भावनाएँ है . आप पढ़िए और अपनी राय से कमेंट देकर मुझे जरूर अनुग्रहित करें.

कृपया ,कहानी के इस लिंक पर क्लिक करिए : कहानी का लिंक है :
https://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/04/blog-post.html

प्रणाम
आपका अपना
विजय







आपको और आपके परिवार को होली की ढेर सारी रंग भरी शुभकामनाये !
होली इस धरती का सबसे अच्छा त्यौहार है . ये जीवन में खुशियों के रंग बिखेरता है जिसकी आज सभी को बहुत ज्यादा जरूरत है !
मैं विजय आपको अपने परिवार की और से , अपनी और से और अपने परमात्मा के आशीर्वाद के साथ आपको और आपके परिवार और आपके मित्रों को होली की फिर से रंग , प्यार और खुशियों भरी शुभकामनाये !!!
आपका अपना
विजय


Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों,
महाशिवरात्रि के शुभावसर पर मेरी पौराणिक कथा – “एक अलौकिक प्रेमकथा - सती से पार्वती तक” आप सभी को अपनी शिवभक्ति के पुष्प के रूप में अर्पित कर रहा हूँ. कई साल पहले मन में ये विचार आया था कि सती पर एक कथा लिखी जाए .पिछले चार – पाँच महीने पहले इसे लिखना शुरू किया . और आज ये पूर्ण हुआ. ये मेरी सिर्फ एक छोटी सी कोशिश मात्र है। ये मेरी शिव भक्ति का एक रूप ही है। भगवान शिव के चरणों में मेरे शब्दों के पुष्प समर्पण ! मैं तो सिर्फ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सब कुछ तो बहुत पहले से ही पुराणों, शास्त्रों, वेदों, पौराणिक कहानियों में मौजूद है। एक वेबसाइट adhyashakti से बहुत सामग्री मिली. मूल रूप से मैंने शिव महापुराण और स्कन्ध पुराण से कुछ सामग्री ली है . मैंने तो एक रिसर्च की है हमेशा की तरह और प्रिंट और इंटरनेट में छपे हुए साहित्य को अपनी शिव भक्ति की मदद से इस अमर प्रेम कथा को बुना है। और आप सभी के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। आपसे विनती है कि इसे पढ़े और अपनी अमूल्य राय को जरूर मुझ तक पहुंचाए. कहानी का लिंक नीचे दे रहा हूँ . आप उस पर क्लिक करते ही उस तक पहुँच जायेंगे.
http://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/02/blog-post_23.html
आपका अपना
विजय
vkappatti@gmail.com
9849746500



Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों,
महाशिवरात्रि के शुभावसर पर मेरी पौराणिक कथा – “एक अलौकिक प्रेमकथा - सती से पार्वती तक” आप सभी को अपनी शिवभक्ति के पुष्प के रूप में अर्पित कर रहा हूँ. कई साल पहले मन में ये विचार आया था कि सती पर एक कथा लिखी जाए .पिछले चार – पाँच महीने पहले इसे लिखना शुरू किया . और आज ये पूर्ण हुआ. ये मेरी सिर्फ एक छोटी सी कोशिश मात्र है। ये मेरी शिव भक्ति का एक रूप ही है। भगवान शिव के चरणों में मेरे शब्दों के पुष्प समर्पण ! मैं तो सिर्फ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सब कुछ तो बहुत पहले से ही पुराणों, शास्त्रों, वेदों, पौराणिक कहानियों में मौजूद है। एक वेबसाइट adhyashakti से बहुत सामग्री मिली. मूल रूप से मैंने शिव महापुराण और स्कन्ध पुराण से कुछ सामग्री ली है . मैंने तो एक रिसर्च की है हमेशा की तरह और प्रिंट और इंटरनेट में छपे हुए साहित्य को अपनी शिव भक्ति की मदद से इस अमर प्रेम कथा को बुना है। और आप सभी के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। आपसे विनती है कि इसे पढ़े और अपनी अमूल्य राय को जरूर मुझ तक पहुंचाए. कहानी का लिंक नीचे दे रहा हूँ . आप उस पर क्लिक करते ही उस तक पहुँच जायेंगे.
http://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/02/blog-post_23.html
आपका अपना
विजय
vkappatti@gmail.com
9849746500



Post has attachment
गुरुजनों और दोस्तों,
महाशिवरात्रि के शुभावसर पर मेरी पौराणिक कथा – “एक अलौकिक प्रेमकथा - सती से पार्वती तक” आप सभी को अपनी शिवभक्ति के पुष्प के रूप में अर्पित कर रहा हूँ. कई साल पहले मन में ये विचार आया था कि सती पर एक कथा लिखी जाए .पिछले चार – पाँच महीने पहले इसे लिखना शुरू किया . और आज ये पूर्ण हुआ. ये मेरी सिर्फ एक छोटी सी कोशिश मात्र है। ये मेरी शिव भक्ति का एक रूप ही है। भगवान शिव के चरणों में मेरे शब्दों के पुष्प समर्पण ! मैं तो सिर्फ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सब कुछ तो बहुत पहले से ही पुराणों, शास्त्रों, वेदों, पौराणिक कहानियों में मौजूद है। एक वेबसाइट adhyashakti से बहुत सामग्री मिली. मूल रूप से मैंने शिव महापुराण और स्कन्ध पुराण से कुछ सामग्री ली है . मैंने तो एक रिसर्च की है हमेशा की तरह और प्रिंट और इंटरनेट में छपे हुए साहित्य को अपनी शिव भक्ति की मदद से इस अमर प्रेम कथा को बुना है। और आप सभी के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। आपसे विनती है कि इसे पढ़े और अपनी अमूल्य राय को जरूर मुझ तक पहुंचाए. कहानी का लिंक नीचे दे रहा हूँ . आप उस पर क्लिक करते ही उस तक पहुँच जायेंगे.
http://storiesbyvijay.blogspot.in/2017/02/blog-post_23.html
आपका अपना
विजय
vkappatti@gmail.com
9849746500


Wait while more posts are being loaded