Profile cover photo
Profile photo
Democracy Festival - लोकतंत्र उत्सव
1 follower -
जनता का उत्सव
जनता का उत्सव

1 follower
About
Posts

जनता का उत्सव. लोकतंत्र उत्सव में आपका स्वागत है. Welcome आईये “जयपुर को लोकतंत्र का स्वर्ग बनाये” सत्य, अहिंसा, धरना, प्रर्दशन, हड़ताल से एक कदम आगे का रास्ता है लोकतन्त्र उत्सव। हमने एक लंबा सफर तय कर लिया है मनुष्यता के विकास का। इसी विकास के सफर की अगली कड़ी है ये उत्सव।

ये किसी ऑडिटोरियम में मनाया जाने वाला समारोह नहीं है दोस्तों, ये जनता का उत्सव है, हम सब का, हम जो भी हैं जहां भी हैं और बेहतर हों। ये उत्सव है लोकतन्त्र की पढ़ाई का, विकास का, खुशियों सेलिब्रेट करने का, दिलों को दिलों से जोड़ने का, जनता और सरकार के मैंनेजमेंट का। ये ही लोकतन्त्र है। ये ही है लोकतन्त्र उत्सव।

हम चाहे जीतने व्यस्त रहें चाहे जितना धन कमा ले, हमारे पास आस पास कितने भी दुख: दर्द क्यों ना हो, हमारे पास कितनी भी लग्जरी चीजें क्यूँ ना हो। सब बेकार हैं। यदि हमने इस गाड़ी और दिमाग का सही इस्तेमाल नहीं किया। हकीकत में हम आज ऐसा नहीं कर रहे हैं। शायद हम सब इस बारे में बहुत कम जानते हों। सार ये है हम और हमारी मनुष्यता गिरावट के सभी तरह के मूल्यों में, सबसे निंदनीय दौर से गुजर रही है।

अहम पहलू, क्या आपने सोचा है बिना लोकतन्त्र के हमारा देश आज जहां है शायद वहाँ नहीं होता। पर ये भी दुखद है की बढ़ता करप्शन और गिरती राजनीति और प्रशासनिक साख हम सब के लिए सोचानिये और चिंतनिय है। जानते हैं आज हम सब पर सबसे ज्यादा असर राजनीति और प्रशासनिक मूल्यों का पड़ रहा है और ये सड़ गए हैं। इन्हें बेहतर और बेहतर बनाना ही होगा। हम सब के जीवन पर इनका असर हर पल है। हम एक पल भी कायराना नहीं होने देंगे।

अब मैं आपको मेरी सोच के नजदीक लाकर बैठाता हूँ। दोस्तों लोकतन्त्र उत्सव के तहत जयपुर को चुना गया है। मेरी सोच है की एक स्थल को यदि सबसे बेहतर बना दिया जाये तो, बाकी पर अनुकरण का सिद्दांत देर सवेर लागू हो ही जाता है। ये मनुष्यता की बड़ी आदत है। पूरी दुनियाँ का इतिहास इसका ग्वाह है।

इसके तहत जयपुर के हर राजनैतिक और राजनीतिक, प्रशासनिक, सामाजिक ताने बाने को सबसे उन्न्त और विकास की सबसे सुंदर तस्वीर और जयपुर को दुनियाँ की एक ऐसी जगह बनाने का प्रयास है की जयपुर विश्व की सबसे बेहतर जगह बने। हर क्षेत्र में। दुनियाँ का हर नागरिक जयपुर की चर्चा करे। जयपुर का मॉडल पूरे संसार के लिए अनुकरणीय हो। ये मॉडल एक विकसित इंसानियत का मॉडल है जिसके नियम कायदे, कामकाज के तरीके, प्रबंधन प्रणाली और स्पष्ट और सराहनिय होंगे।

इसके लिए हम सब मिलकर एकल और सांझा प्रयास करें जहां भी हैं। हर उस ताकत और बुराई से लड़ें जो इस बीच में बाधा बन सकती है और बनेगी। कुछ लोग विरोध करेंगे। करें। कुछ चुप रहेंगे। रहें। कुछ साथ हो लेंगे। स्वागत। बस फिर क्या। हम तो हवा हैं, रोशनी हैं। नकारो या स्विकारो। हम हैं और रहेंगे।

एक बड़ा हथियार है। इस उत्सव को सफल बानाने के लिए। "एंटी डवलेपमेंट" मॉडल को अपनाना होगा। इसका सीधा सा अर्थ है। सब कुछ सरकार के पाले में नहीं डाल दिया जावे। सभी जिम्मेदारियाँ केवल सरकार की नहीं समझी जावे। नाव तो देखी होगी लहरों के विपरीत चलती है, ये ही है ये मॉडल। इसका विस्तार से उल्लेख अलग से किया जावेगा।

अब यहाँ कुछ सवाल और बातें है जिनका संबंध इस मिशन और आपसे है। उम्मीद है आप इसके अंग बनाकर काम करने की हिम्मत जुटा सकेंगे। ये बिलकुल ही महत्वपूर्ण नहीं है और रहेगा की आज और अभी आप किस विचार या सरकार और पार्टी के साथ जुड़े हैं।

आपसे कुछ भी नहीं मांगा जा रहा है, बस आप कभी कभी कुछ पल ऊपर लिखी बातों पर सोच विचार के लिए निकाले। जब कभी समय मिले तो इसकी गतिविधियों का हिस्सा बनने की कौशीश करें। आप जहां भी हैं एक दीपक एक केंडल अकेले, दोस्तों के साथ या परिवार के साथ मिलकर जलायें। यकीन मानिये इस लौ की रोशनी और इस रोशनी का उजाला इतनी दूर तक जाएगा जिसकी कल्पना शायद अभी हमने नहीं की है। कभी सुना या पढ़ा होगा समंदर में भटक चुका जहाज दूर कहीं जलती आग की चिनगारी देखर अपना मार्ग ढूंढ लेता है। हम बस ये ही तो करने जा रहे हैं। जहाज अपना काम करेगा। जहाज का कप्तान अपना। महसूस करो अपनी जलाई एक केंडल या दीपक उस चिंगारी की तरह काम करेगी, उस चिंगारी की तरह। यकीन मानिये, करेगी। ऐसा होगा। इसका असर आपके जीवन पर सबसे ज्यादा पड़ेगा। शायद आपने सोचा ना हो।

आप केंडल या दीपक जलाने की एक फोटो या सेल्फी लेकर सोसियल मीडिया पर पर शेयर करें। लिखे #लोकतंत्र_ उत्सव #Democracy_Festival

यकीन मानिये बेहतरी और बदलाव का दौर शुरू हो जाएगा। उसी पल से। बड़े बदलाव छोटी सी चीज या छोटी सी बात और तिनके भर सहयोग से होते आयें हैं। तिनका। कितना सा होता है। आँख में गिरा तो। पानी में गिरा तो।

मौका मिले तो लोकतन्त्र को आगे बढ़ाने वाली कहानियाँ, कवितायें, गाने गुनगुनाओ औरों को सुनाओं। रिकार्ड करके सोसियल मीडिया फेसबुक आदि पर शेयर करो। यकीन मानिए आपके चारों तरफ एक सकारात्मक माहौल होगा।

बाकी जंग के लिए आपका दोस्त हनु रोज है ही। मुझ पर छोड़ दो। भरोसा करो। बेहतरी का भरोसा इतिहास में कभी कमजोर नहीं पड़ा। आप अपना दैनिक कामकाज रोज की तरह बेहतरी के साथ करते रहो। उम्मीदों की उम्मीद ... सपनों का सपना... सपने हकीकत के लिए ... मेरा प्रयास सबके लिए आपकी दुआएं मेरे लिए...

जल्दी ही एक व्यापक प्रोग्राम चायपान, जलपान, मिलते जाने की कहानियाँ शुरू की जावेगी। हर चाय की चुस्की लाखों करोड़ों लोगों के दिलों में बस जाएगी।

मैं आप सभी का स्वागत करता हूँ "लोकतन्त्र उत्सव" और “जयपुर को लोकतंत्र का स्वर्ग बनाये” विचार के बारे में आपने पढ़ा। यहाँ एक गूगल सर्वे है जिसमें कुछ सवाल हैं जिनके जवाब चुन कर मुझे इस विचार के बारे में सही दिशा में आगे बढ्ने की ऊर्जा से लबालब कर सकेंगे।

संविधान में समाहित, सरकारी दफ्तरों में, फ़ाईलों में रेंगते जंनतंत्र को जनता के बीच तो आना ही है। लेकर कौन आयेगा मेरे साथी। मैं या आप। नहीं। "हम"।

आज लोकतन्त्र मुट्टी भर लोगों की तानाशाही, लूट और चालाकी का अडड़ा बन गया है। इसलिए लोकतन्त्र उत्सव आम जन को जगाने और जाग जाने का लोकतांत्रिक युद्द है।

ये मात्र एक लेख, शब्द या ड्राफ्ट नहीं है। ये भाषण नहीं है। ये आज है। कल है। हमारा आने वाला फ्यूचर है। जयपुर है। जयपुर से सारा जहां है।

धरती के एक टुकड़े को इतना बेहतर बना दें। धरती खुद पुकार उठे......। – हनु रोज

http://loktantrautsav.org/index.php
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded