Profile cover photo
Profile photo
Uttam Kumar
65 followers -
I believe in making World a better place 2 live
I believe in making World a better place 2 live

65 followers
About
Posts

Post has attachment
जीवन बीमा में एक से ज्यादा व्यक्तियों को नामित करने का प्रावधान होता है. अतः वहाँ बीमाधारक सारे कानूनी उत्तराधिकारियों को नामित करके उन्हें प्राप्त होने वाले हिस्से का वर्णन भी कर सकता है. सरकार को बैंकिंग रेगुलेशन अधिनियम के 45ZA(2) में संशोधन करके बैंक जमाओं में भी ऐसे कानूनी प्रावधान करने चाहिए, ताकि खाताधारक की मृत्यु के बाद उसके क़ानूनी उत्तराधिकारियों में कोई निरर्थक झगड़ा नहीं हो.
यदि ये विचार आपको अच्छे लगे तो अपने मित्रों और शुभचिंतकों में भी शेयर करें.
Add a comment...

Post has attachment
सकारात्मक विचारों वाले व्यक्तियों से मित्रता करें. धार्मिक और प्रेरक साहित्य भी नियमित रूप से  पढ़ते रहें.शनै-शनै आपके मस्तिष्क के चारों ओर सुसंस्कारों के अभेद्य किला बनना प्रारम्भ हो जायेगा।
 
सकारात्मक विचारों के लगातार प्रहार से नकारात्मक विचार निष्प्रभावी हो जाते हैं। अतः नकारात्मक विचार जब भी आक्रमण करें तो आप उन्हें निम्नलिखित शक्तिशाली  नारों से नेस्तनाबूद कर दें।
 
 
1. वर्तमान साधेंगे, ब्रह्मांड सधेगा
 
2. मीरा ने पिया विष का प्याला, विष को अमृत कर डाला।
 
3. अग्रसोची, सदा सुखी।
 
4. जो हुआ अच्छा हुआ; जो हो रहा है, अच्छा हो रहा है; जो होगा वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप मत करो, भविष्य की चिंता न करो. देखो, अभी वर्तमान चल रहा है.
 
5.  सड़े विचार जला दें.

यदि आपको अच्छा लगा है तो अपने मित्रों और शुभचिंतकों के साथ भी शेयर करें.
Add a comment...

Post has attachment
प्रत्येक दिवस ऐसे मनाएं मानो यह नये वर्ष का प्रथम दिवस हो. प्रत्येक दिन गर्मजोशी के साथ लोगों से मिलें और पूरे उत्साह के साथ उनका स्वागत करें. प्रत्येक दिन अपने पत्नी और बच्चों के साथ खुशियाँ मनायें और कम से कम एक चेहरे पर मुस्कराहट लायें. प्रत्येक दिन नये संकल्प लें, और उन्हें साकार करने के एडी-चोटी का पसीना एक कर दें. प्रत्येक रात्रि इतना थक कर विस्तर पर जायें कि अविलम्ब गाढ़ी नींद आ जाये. प्रत्येक दिन अनोखा होता है. प्रत्येक दिन को नव-वर्ष के प्रथम दिवस वाले उत्साह से सराबोर कर दें.

Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
बचपन में मैं काफी दुबला-पतला था. अतः विद्यालय के दादाओं को मैं अक्सर सुनाया करता था," हम अपनी आज़ादी को हरगिज़ मिटा सकते नहीं, सर कटा सकते हैं, लेकिन सर झुका सकते नहीं." यद्यपि कुछ वर्षों पहले सेना के एक जनरल का इंटरव्यू पढ़ा. उनका कहना था कि वे अपने दुश्मनों से बेइन्तहां प्यार करते हैं और उन्हें अविलम्ब जन्नत भेज देते हैं. जहाँ पहला विचार शहीद होने की मानसिकता को मजबूत करता है, वहीं दूसरा विचार शत्रुओं को शहीद करके विजयलक्ष्मी प्राप्त करने की ओर प्रेरित करता है. यद्यपि आम जीवन में इन विचारों का सांकेतिक उद्देश्य ही होता है.

यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रों के साथ भी शेयर कीजिये.
Add a comment...

Post has attachment
मैंने लोगों को इंसानों के बारे में अनेक उद्गार व्यक्त करते सुना है। जैसे- आप क्या चीज हो! वह एकदम गाय है। एक सांपनाथ है तो दूसरा नागनाथ। वह एकदम बोतल है। वह जलेबी की तरह टेढा है। आदि 
प्रतीत होता  है कि हमलोग  इंसानों को सामान के रूप में देखने के आदी हो गए हैं। 
Add a comment...

Post has attachment
एक बार एक मित्र से मेरा भीषण झगड़ा हो गया; मैनें भी उसे सबक सिखाने की ठान ली। मैं हमेशा योजना बनाता रहता था कि कैसे उससे बदला लूंगा ; कैसे उसको नाकों चने चबवाऊंगा आदि आदि। इस बीच मेरा ब्लड प्रेशर 120 /80 से बढ़कर 120 /95 हो गया। मैं अपने चिकित्सक से मिलने ही जा रहा था , लेकिन सौभाग्यवश इसी बीच अपने मित्र से मेरा समझौता हो गया। मुझे प्रतीत हुआ कि मेरे सिर से टनों बोझ उतर गया है और अगले दिन मेरा ब्लड प्रेशर पुनः 120 /80 हो गया।

यदि आपने इसे पसंद किया है तो अपने मित्रों के साथ भी शेयर करें।
Add a comment...

Post has attachment
एक बालक कागज की नाव पाकर चहकने लगता है, जबकि बड़े एक असली जहाज पाने के बाद दूसरे जहाज के लिए बेचैन हो जाते हैं।
बच्चे हमेशा वर्तमान में जीते हैं, जबकि बड़े भूतकाल की गलतियों और भविष्य की आशंकाओं के भारी बोझ से दबकर कराहते रहते हैं।
Add a comment...

Post has attachment
मेरे सर्वोत्तम मित्र ने नव-वर्ष पर तंज कसा,” फूलकर कुप्पा मत होइये, सिर्फ कैलेंडर बदला है. आपकी नौकरी और घरवाली वही है.”

हम नव-वर्ष पर नयी प्रतिज्ञाएँ करते हैं, जिनमें अधिकांश प्रतिज्ञाएँ कभी पूरी नहीं होती हैं, क्योकि उत्साह समाप्त होते ही हम उन प्रतिज्ञाओं को नजरअंदाज कर देते हैं और फिर नयी प्रतिज्ञाएँ करने के लिए नये वर्ष का इंतजार करते हैं.

Add a comment...

Post has attachment
कुछ करने की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के लिए इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है ।
अब्राहम लिंकन ।
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded