Profile cover photo
Profile photo
Sudha Singh
174 followers -
मेरी ज़ुबानी http://sudhaa1075.blogspot.in
मेरी ज़ुबानी http://sudhaa1075.blogspot.in

174 followers
About
Posts

Post has attachment
Sudha Singh commented on a post on Blogger.
सुंदर रचना.. दिल टूटने के बाद पुनः पूर्व स्थिति में लाना बहुत मुश्किल होता है. पर मन के संताप को दूर कर दो तो सब कुछ अच्छा लगने लगता है

Post has shared content

Post has shared content

Post has shared content

Post has attachment

Post has attachment
बेचारा बछड़ा
देख रही हूँ आजकल कुछ नए किस्म की गायों को जो अपने नवजात बछड़े की कोमल काया को अपनी खुरदुरी जीभ से चाट चाट कर लहूलुहान कर रही है! इस सोच में कि वह उन पर प्यार की बरसात कर रही है! उनपर अपनी ममता लुटा रही है उन्हें सुरक्षित महसूस करा रही है! पर इस बात से अनजान...

Post has attachment
Sudha Singh commented on a post on Blogger.
छोटा होकर भी दीपक अपनी क्षमता के अनुसार अपने कर्तव्‍य में जुटा रहता है.
सचमुच एक प्रेरक रचना.. वाह

Post has attachment
Sudha Singh commented on a post on Blogger.

घर के दरवाजे पर छोड़ देता हूं दफ्तर का भारीपन
की काफी है पत्नी के कन्धों पर
गृहस्थी ओर बच्चों के बस्ते का बोझ..
सुंदर...
हर कोई ऐसा नहीं कर पाता. हर व्यक्ति अपना frustration घर ले जाता है और जरा कुछ बात नहीं हुई कि अपनी पत्नी, अपने बच्चों पर अपने ऑफिस का गुस्सा निकाल देता है

Post has shared content
पर्यावरण दिवस विशेष _
धरती की पुकार
पाताल में समाने को बेताब है धरा। आँखों में करुणा विगलित अश्रु है भरा। हृदय से उसके निकलती एक ही धुन। हे मनुज, मेरी करुण पुकार तो सुन.. "तूने ऐसे कर्म किए! बचा नहीं कुछ भविष्य के लिए! जो कुछ मैंने तुझे दिया! गलत उसका उपयोग किया! थी मैं कभी नई दुल्हन - सी!  ह...

Post has shared content
पर्यावरण दिवस विशेष _
धरती की पुकार
पाताल में समाने को बेताब है धरा। आँखों में करुणा विगलित अश्रु है भरा। हृदय से उसके निकलती एक ही धुन। हे मनुज, मेरी करुण पुकार तो सुन.. "तूने ऐसे कर्म किए! बचा नहीं कुछ भविष्य के लिए! जो कुछ मैंने तुझे दिया! गलत उसका उपयोग किया! थी मैं कभी नई दुल्हन - सी!  ह...
Wait while more posts are being loaded