Profile cover photo
Profile photo
Ankita Chauhan
About
Posts

Post has attachment
Submishmash
Submishmash
submishmash.com

Post has attachment

Post has attachment
एक आखिरी वार से पहले
एक अकेला एक लकीर से उस पार पड़ा है निर्जीव निहत्था चेहरे पर उसके भाव चीत्कार के एक आखिरी वार से पहले एक भीड़ एक झुण्ड उस  लकीर के दूसरी पार खड़ी है लेकर हथियार  चेहरे उनके निर्भाव अराजकता की सुगबुगाहट एक आखिरी वार से पहले

Post has attachment
सच कहूँ ?
सोचता हूँ, थमता हूँ, सोचता हूँ, थमता हूँ, सोच पर पहरे लगे हैं, लिखता हूँ, तो कलम रूकती है, ठिठकती है, सच लिखूं ? सच पढोगे ? सच कहूँ ? सच सुनोगे ? सच पूछूं ? सच बोलोगे ? सच तो ये है कि हम सच सुनना भूल गए, सच सफ़ेद है, या झूठ काला है जिसने गोली मारी, वो तालिबा...

Post has attachment

Post has attachment
रंग
अपनी नजर के रंग भरता हूँ दुनिया में, मैंने ख़याल अलग-अलग रंगों की शीशियों में भर रखे हैं, मैं आसमान को नीला कहता हूँ और पत्तों को हरा समझता हूँ धरती को भूरा और सूरज को उसके मिजाज के हिसाब से कभी सुनहरा कभी लाल मानता हूँ असमानता के कई रंग मेरी नजर पर पर्दा बन...

Post has attachment

Post has attachment
मैं गुजरता रहा
मैं गुजरता रहा जिंदगी आगे बढ़ गयी उसने रोकना चाहा होगा मुझे  रुक कर एक लम्हा उसकी आँखों में झाँक सकने के वास्ते मैं शायद समझ ना सका सिर्फ हाथ बढ़ा सका मैं एक दफा हवा में इस तरह अलविदा कह कर मैं गुजरता रहा ।  जिंदगी हिसाब मांगती रही हर एक मोड़ पर मैं खाली पड़ी ज...

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded