Profile

Cover photo
Ninad Kochkar
Works at Tata Consultancy Services
Lives in Mumbai
307 followers|217,827 views
AboutPostsPhotosVideosReviews

Stream

Ninad Kochkar

General Discussion  - 
3
3
Rajkumar Zaparde's profile photoYash Sinha's profile photo
Add a comment...

Ninad Kochkar

General Discussion  - 
10
1
Ninad Kochkar's profile photoArin Basu's profile photoUtkarsh Phirke's profile photoAnita Rawat's profile photo
8 comments
 
vote for a criminal and criminal rules.......sorry just for fun
Add a comment...

Ninad Kochkar

Shared publicly  - 
 
दिल्ली के चुनाव के बाद जब आम आदमी को 28सीट्स मिली तो उन्होंने सरकार बनाने सर मन कर दिया ,,बीजेपी को 32 सीट्स मिली लेकिन वो सब से बड़ी राजनितिक पार्टी होते हुए भी जिम्मेदारी से भाग गई ,,,फिर सभी न्यूज़ चैनेल के मद्धम से ये फैलाया गया की आप दिल्ली में दुबारा चुनाव करवाना चाहती हैं इसलिए जिम्मेदारी से भाग रही हैं उसको अपनी जिम्मेदारी समझते हुए सरकार बनाने के लिए प्रयास करना चाहिए,,क्यों की जनमत इसी ओर इशारा कर रहा हैं ,,बीजेपी जो आज कल इस मुद्दे पर उलजलूल आरोप लगा रही हैं वो गला फाड़ फाड़ कर चिल्ला रही थी की सरकार बन्ने से बच रहे हैं केजरीवाल जबकि लोगो ने उन्हें मौका दिया हैं,,,जिस पार्टी को सारा मीडिया 2 से 4 सीटो पर सिमटा मान रहा था उसने 28 सेट्स निकली और 15 सीट्स पर हार 100-200 से भी कम का रहा ,ऐसे में यही लगा की जनता चाहती हैं केजरीवाल सरकार बनाये ,,,जब जन्सभो द्वारा जनता से राय ली गई तब भी जनता ने कहा की आप को सरकार बननी चाहिए ...दोस्तों इसका एक मोविज्ञानिक कारण भी था दिल्ली की जनता कांगेस और शीला दीक्षित ,,बीजेपी की नगर पालिका में व्याप भ्रष्टाचार से इनती दुखी और हताश हो चुकी थी की उसे मुक्ति चाहिए थी,,,वो इतनी बेचें थी ,त्रस्त थी की किसी भी सूरत में अरविन्द जी को मुख्यमंत्री देखना देखना चाहती थी ,,केजीरिवल खुद नहीं चाहते थे 28 सीट्स पर सरकार बनाना क्युकी वो जानते थे की कांग्रेस बीजेपी काम नहीं करने देंगे लेकिन जनता की मनोदशा को भापते हुए उन्होंने मजबूरी में हाँ करी लेकिन 18 मुद्दों के साथ,,और उन्होंने किसी से नहीं कहा की समर्थन दो ,,बीजेपी कांग्रेस दोनों को चिट्ठी लिखी थी,,,दोस्तों हम किसी भी काम की आलोचना कर सकते हैं ,,लेकिन वो काम किन परिस्थितियों में हुआ और किन की भावनाओ के सम्मान के लिए हुआ ये समझना भी ज़रूरी हैं ,,,हाँ गलत होता अगर अरविन्द जी cm बने रहने के लिए अपनी विचारधारा से समझोता करते लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया , जो किया जनता से पूछ कर ,,और आज अगर दिल्ली में लोगो को केजरीवाल जी से नारजगी नहीं ,,कुछ दिन रही और वो भी इसलिए की उन्हें लगा की आप पार्टी ने , अरविन्द जी ने इस्तीफे का इतना बड़ा फैसला उनसे पूछे बिना किया....दोस्तों क्या आपको इसमें एक नई राजनीति की हवा नहीं दिखती जंहा जनता केवल वोट देने की मशीन नहीं वरन सरकार बनाने में भी उसकी भूमिका नज़र आती हैं ,,और सरकार छोड़े या रहे इस पर भी जनता की भूमिका अब रहेगी ऐसा आप का मानना हैं ,,,दोस्तों आप पार्टी केवल वो पार्टी हैं जो सत्ता जनता के हाथो में देना चाहती हैं,बाकि सब जनता का इस्तेमाल करते हैं ,,बाकि फैसला आप का हैं ,,जय हिन्द
 ·  Translate
1
Add a comment...
In his circles
352 people
Have him in circles
307 people
Shailendra Malik's profile photo
 
Sting operation of Narendra Modi's Delhi Rally-Pa…: http://youtu.be/IYod2DztADU
1
1
Rajkumar Zaparde's profile photo
Add a comment...

Ninad Kochkar

General Discussion  - 
 
 
Choice is yours...
3
3
krishna v. shukla's profile photoNilay M Kapasi's profile photo
Add a comment...

Ninad Kochkar

General Discussion  - 
 
दिल्ली के चुनाव के बाद जब आम आदमी को 28सीट्स मिली तो उन्होंने सरकार बनाने सर मन कर दिया ,,बीजेपी को 32 सीट्स मिली लेकिन वो सब से बड़ी राजनितिक पार्टी होते हुए भी जिम्मेदारी से भाग गई ,,,फिर सभी न्यूज़ चैनेल के मद्धम से ये फैलाया गया की आप दिल्ली में दुबारा चुनाव करवाना चाहती हैं इसलिए जिम्मेदारी से भाग रही हैं उसको अपनी जिम्मेदारी समझते हुए सरकार बनाने के लिए प्रयास करना चाहिए,,क्यों की जनमत इसी ओर इशारा कर रहा हैं ,,बीजेपी जो आज कल इस मुद्दे पर उलजलूल आरोप लगा रही हैं वो गला फाड़ फाड़ कर चिल्ला रही थी की सरकार बन्ने से बच रहे हैं केजरीवाल जबकि लोगो ने उन्हें मौका दिया हैं,,,जिस पार्टी को सारा मीडिया 2 से 4 सीटो पर सिमटा मान रहा था उसने 28 सेट्स निकली और 15 सीट्स पर हार 100-200 से भी कम का रहा ,ऐसे में यही लगा की जनता चाहती हैं केजरीवाल सरकार बनाये ,,,जब जन्सभो द्वारा जनता से राय ली गई तब भी जनता ने कहा की आप को सरकार बननी चाहिए ...दोस्तों इसका एक मोविज्ञानिक कारण भी था दिल्ली की जनता कांगेस और शीला दीक्षित ,,बीजेपी की नगर पालिका में व्याप भ्रष्टाचार से इनती दुखी और हताश हो चुकी थी की उसे मुक्ति चाहिए थी,,,वो इतनी बेचें थी ,त्रस्त थी की किसी भी सूरत में अरविन्द जी को मुख्यमंत्री देखना देखना चाहती थी ,,केजीरिवल खुद नहीं चाहते थे 28 सीट्स पर सरकार बनाना क्युकी वो जानते थे की कांग्रेस बीजेपी काम नहीं करने देंगे लेकिन जनता की मनोदशा को भापते हुए उन्होंने मजबूरी में हाँ करी लेकिन 18 मुद्दों के साथ,,और उन्होंने किसी से नहीं कहा की समर्थन दो ,,बीजेपी कांग्रेस दोनों को चिट्ठी लिखी थी,,,दोस्तों हम किसी भी काम की आलोचना कर सकते हैं ,,लेकिन वो काम किन परिस्थितियों में हुआ और किन की भावनाओ के सम्मान के लिए हुआ ये समझना भी ज़रूरी हैं ,,,हाँ गलत होता अगर अरविन्द जी cm बने रहने के लिए अपनी विचारधारा से समझोता करते लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया , जो किया जनता से पूछ कर ,,और आज अगर दिल्ली में लोगो को केजरीवाल जी से नारजगी नहीं ,,कुछ दिन रही और वो भी इसलिए की उन्हें लगा की आप पार्टी ने , अरविन्द जी ने इस्तीफे का इतना बड़ा फैसला उनसे पूछे बिना किया....दोस्तों क्या आपको इसमें एक नई राजनीति की हवा नहीं दिखती जंहा जनता केवल वोट देने की मशीन नहीं वरन सरकार बनाने में भी उसकी भूमिका नज़र आती हैं ,,और सरकार छोड़े या रहे इस पर भी जनता की भूमिका अब रहेगी ऐसा आप का मानना हैं ,,,दोस्तों आप पार्टी केवल वो पार्टी हैं जो सत्ता जनता के हाथो में देना चाहती हैं,बाकि सब जनता का इस्तेमाल करते हैं ,,बाकि फैसला आप का हैं ,,जय हिन्द
 ·  Translate
1
Add a comment...
People
In his circles
352 people
Have him in circles
307 people
Shailendra Malik's profile photo
Work
Occupation
Software Engineer
Employment
  • Tata Consultancy Services
    CRM Consultant, present
  • Patni Computer Systems
    Software Engineer
Basic Information
Gender
Male
Story
Introduction

Well...a simple person, Software Engineer. What else ?

Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Mumbai
Previously
Sydney - Bhopal - Bangalore - Chennai - Pune - Khandwa - Riyadh
I stayed there for a month. Nice, approachable place
Public - a year ago
reviewed a year ago
It was a really nice stay at Mantra. Good place to live
Quality: GoodFacilities: Very goodService: Very good
Public - a year ago
reviewed a year ago
2 reviews
Map
Map
Map