Profile cover photo
Profile photo
All in One
4 followers -
Pandit ashutosh bhatt
Pandit ashutosh bhatt

4 followers
About
Communities and Collections
View all
Posts

Post has attachment
श्री हनुमान बाहुक सत्तारहवाँ श्लोक हिंदी रूपांतरित
प्राणदायी हनुमान बाहुक हिंदी में श्री हनुमान चालीसा तेरे थपे उथपै न महेस,     थपै थिरको कपि जे घर घाले। तेरे निवाजे गरीबनिवाज,     बिराजत बैरिनके उर साले।। संकट सोच सबै तुलसी लिए,     नाम फटै मकरीके - से जले । बूढ़ भये ,बलि , मेरिहि बार,     कि हारि परे बहुत...
Add a comment...

Post has attachment
श्री हनुमान बाहुक सोलहवाँ श्लोक
श्री हनुमान बाहुक हिंदी रूपांतरित गरुण पुराण लोकप्रिय हिन्दू तथ्य श्री हनुमान चालीसा जानसिरोमनी   हौ     हनुमान        सदा, जनके मन बास तिहारो। ढारो बिगारो मैं काको कहा ,     केहि कारन खीझत हौं तो तिहारो।। साहेब सेवक नाते ते हातो,      कियो सो तहाँ तुलसी को...
Add a comment...

Post has attachment
श्री हनुमान बाहुक पंद्रहवाँ श्लोक
श्री हनुमान बाहुक चौदहवाँ श्लोक हिंदी में जीवन प्रदाता हनुमान बाहुक पढे हिंदी में  श्री हनुमान चालीसा मन को अगम , तन सुगम किये कपीस, काज महराज के समाज साज साजे है । देव -बंदीछोर    रनरोर  केसरी  किसोर, जुग - जुग जग  तेरे   बिरद  बिराजे हैं।। बीर बरजोर , घटि...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
श्री हनुमान बाहुक चौदहवाँ श्लोक हिंदी रुपान्तरित
श्री हनुमान बाहुक श्लोक हिंदी रूपांतरित करुना निधान , बलबुद्धि के निधान , मोद महिमानिधान , गन - ज्ञान के निधन हौ। बामदेव - रूप , भूप राम के सनेही , नाम , लेत  - देत अर्थ - धर्म काम निरबान हौ ।। आपने प्रभाव, सीतानाथ के सुभाव सील,  लोक - बेद - बिधि के बिदुष  ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
श्री हनुमान बाहुक तेरहवां श्लोक हिंदी रूपांतरित
श्री हनुमान बाहुक हिंदी रूपांतरित सानुग  सगौरि   सानुकूल  सूलपानि  ताहि,  लोकपाल  सकल लखन     राम  जानकी। लोक परलोक ते बिसोक सो तिलोक ताहि, तुलसी   तमाइ  कहा काहू   बीर आनकी।। केसरी किसोर   बंदीछोरको   नेवाजे सब , कीरति   बिमल    कपि  करुणानिधि की । बालकज्य...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded