Profile cover photo
Profile photo
ई. प्रदीप कुमार साहनी (दीपक)
798 followers -
पेशे से अभियंता और दिल से कवि हूँ |
पेशे से अभियंता और दिल से कवि हूँ |

798 followers
About
Posts

Post has attachment
पानी की बूँदें
पानी की बूँदे भी, मशहूर हो गई । कल तक जो यूँही, बहती थी बेमतलब, महत्वहीन सी यहाँ वहाँ, फेंकी थी जाती, समझते थे सब जिसके, मामूली सी ही बूँदें, आज वो पहुँच से, दूर हो गई । पानी की बूँदें भी, मशहूर हो गई । महत्व नहीं थे देते, कोई भी इसको, न जाने कहाँ कहाँ, बेक...
Add a comment...

Post has attachment
शहीद दिवस पर नमन
भारत माता के लाल थे वे, आजादी की थी चाह बड़ी, भारत माता के शान में बस, चल निकले मुश्किल राह बड़ी । स्वाधीनता के दीवाने थे, गौरों का दम जो निकाला था, नस नस में थी आग दौड़ती, खुद को आँधी में पाला था । इंकलाब की आग देश में, खुद जलकर भी लगाया था, मूँद कर आँखें ...
Add a comment...

Post has attachment
ढपोरशंख
 भाषणबाजी में अव्वल, करने धरने में शून्य अंक, आज के नेता हो चले हैं, जैसे कि ढपोरशंख । रोज नए नए वादे होते, करने के न इरादे होते, जनता को भी लिए लपेटे, इनके कई कई प्यादे होते । राजनीति एक दल दल जैसी, ये खुद ही बन गए पंक, निरे निखट्टू आज के नेता, जैसे कि ढपो...
Add a comment...

Post has attachment
ढपोरशंख
 भाषणबाजी में अव्वल, करने धरने में शून्य अंक, आज के नेता हो चले हैं, जैसे कि ढपोरशंख । रोज नए नए वादे होते, करने के न इरादे होते, जनता को भी लिए लपेटे, इनके कई कई प्यादे होते । राजनीति एक दल दल जैसी, ये खुद ही बन गए पंक, निरे निखट्टू आज के नेता, जैसे कि ढपो...
Add a comment...

Post has attachment
**
बड़ी-बड़ी हम बातें करते, पर कुछ करने से हैं डरते, राह को थोड़ा कर दें चौड़ा, आओ बदल लें खुद को थोड़ा । ख्वाब ये रखते देश बदल दें, चाहत है परिवेश बदल दें, पर औरों की बात से पहले, क्यों न अपना भेष बदल दें । चोला झूठ का फेंक दे आओ, सत्य की रोटी सेंक ले आओ, दौड...
काव्य संसार
काव्य संसार
kavyasansaar.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
अजब गजब संसार
अजब गजब संसार है भैया, अजब गजब हैं लोग, रहे भागते जीवन भर, क्या न किये प्रयोग । पैसों पर ही ध्यान है सबका, नहीं कहीं है चैन, दिन को तो सुकून ही नहीं, नींद नहीं है रैन । रिश्ते नाते भूल गए सब, हुआ ये जीवन व्यर्थ, स्वार्थ सिद्धि ही जीवन हो गया, रहा नहीं कोई अ...
Add a comment...

Post has attachment
है इनपे धिक्कार
सियासती ये लोग चंद, है इनपे धिक्कार । भारत में रहकर करे, पाक की जय जय कार ।। पाक की जय जय कार, लगे विरोधी नारे । पुलिस महकमा शांत क्यों, देशद्रोही ये सारे ।। हो उचित कार्रवाई जल्द, जेल में इनको डालो । देश रक्षा पर राजनीति, छोड़ सियासत वालो ।। कश्मीर की आजाद...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
है इनपे धिक्कार
सियासती ये लोग चंद, है इनपे धिक्कार । भारत में रहकर करे, पाक की जय जय कार ।। पाक की जय जय कार, लगे विरोधी नारे । पुलिस महकमा शांत क्यों, देशद्रोही ये सारे ।। हो उचित कार्रवाई जल्द, जेल में इनको डालो । देश रक्षा पर राजनीति, छोड़ सियासत वालो ।। कश्मीर की आजाद...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded