Profile cover photo
Profile photo
Kavita Pustak
5 followers
5 followers
About
Posts

Post has attachment
Gairat - Dr. Pawan Kr. Bharti
गैरत  _____________________ _____________________ डा. पवन कुमार भारती
Kavitapustak.com
Kavitapustak.com
kavitapustak.com
Add a comment...

Post has attachment
Aag jalana avi baaki hai - Dr. Pawan Kr Bharti
आग लगाना अभी बाकी है  ___________________________ ___________________________ डा. पवन कुमार भारती
Kavitapustak.com
Kavitapustak.com
kavitapustak.com
Add a comment...

Post has attachment
Mahfuz - Pallav
महफूज __________________________ माँ ! मैं बहुत खुश हूँ यहाँ तुम्हारे अंदर... सुखी,सुरक्षित,निर्भीक और स्वतन्त्र भी. ले सकती हूँ अपनी मर्जी की साँसें यहाँ मेरे लिए कोई बंदिश भी नहीं है फैला सकती हूँ पंखें उड़ सकती हूँ निर्बाध. दूर-दूर तक नहीं है यहाँ घृणित...
Add a comment...

Post has attachment
Matdan - Mamta Sharma
"मतदान " ____________________________ अपनी ढपली , अपना राग , बेसुरी धुन व बेसुरी तान,  फिर से वही गवैये आये, फिर  मतदान के दिन हैं आये।  जगह -जगह बरसाती मेंढक , निकल आये मेढ़ों पर चढ़ कर , जाने कैसे गीत ये गायें , फिर मतदान के दिन हैं आये।  वही  पुरानी चित ...
Add a comment...

Post has attachment
Jise tum samajhte ho abhishaap - Mamta Sharma
जिसे तुम समझे हो अभिशाप  ______________________________ जिसे तुम समझे हो अभिशाप  मृत्यु ही जीवन का संदेस।  अगर दुःख न होगा तो सुनो ! सुखों कि आग जलेगा गेह।   जहाँ पर भरी निराशा सुनो ! चलेगी आशा की गाड़ी , अगर है सुख ही सुख गर जो , बिछड़ जाएँगी वे सारी। बनाय...
Add a comment...

Post has attachment
Prayatn - Sumit Jain
प्रयत्न __________________________ मनुष्य का जीवन सफलता और असफलता के बिच घिरा हुआ है मानो इस का कारण प्रयत्न ही तो है किसी को थोडा तो किसी को ज्यादा और किसी को कुछ भी नहीं प्रत्येक प्रयत्न सफल होता है आज नहीं तो कल होता है व्यक्ति हर पल प्रयत्न करता है कभ...
Add a comment...

Post has attachment
Mujhe Sangharshrat rehne do - Sanjay Kirar
मुझे संघर्षरत रहने दो _______________________ मुझे संघर्षरत रहने दो अभी हवाओ की डोर थामी है मौसमों से कहने दो मुझे संघर्षरत रहने दो ... तलवों ने अभी रेत चूमी जिज्ञासा अभी इर्द हिर्द घूमी है अंगड़ाई लेकर रूह जागी अभी इसे प्रातः की पहली किरण छूने दो मुझे संघ...
Add a comment...

Post has attachment
Chitran - Adarsh Tiwary
_____________________________ चित्रण  _____________________________ चौकोर सफ़ेद पन्ने सा जीवन चरित्र था मेरा कोई दाग नहीं , कुछ भी नहीं , अंत किनारा गहरा जब बरस पड़े कुछ रंग , लाल हरे नीले से सारे चित्र बना वो ऐसा , सुनहरे चमक मे इंद्रधनुष उखर पड़ा हो जैसे...
Add a comment...

Post has attachment
Ek anjana dar - Pravin gola
_____________________________________ एक अनजाना डर _____________________________________ एक अनजाना डर मुँह बाए खड़ा ….. हर पल मुझे तिरस्कृत कर रहा , सोचा है क्या तुमने कभी? क्या होगा जो तेरे पाँव के बिछ्वे को, वक़्त से पहले ही ऊँगली से जुदा होना पड़े । ...
Add a comment...

Post has attachment
Prasang - Adarsh Tiwary
______________________________________     प्रसंग ______________________________________ लफ़्ज़ों में इज़हार करना चाह रहा था जिन बातों को, उस जज़्बात के मायने मेरे लिए बड़े ख़ास थे, इशारे काफी थे समझाने को, पर सुनने वो लफ्ज़ तुम वही मेरे साथ थे। धीमी धी...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded