Profile cover photo
Profile photo
Annapurna Bajpai
3,032 followers -
पथ पर निरंतर अग्रणी रहने की कामना
पथ पर निरंतर अग्रणी रहने की कामना

3,032 followers
About
Posts

Post has attachment
वनिता विमर्श - आलेख पवन प्रवाह साप्ताहिक समाचार पत्र में
स्त्रीविमर्श या स्त्रीवादी विचार क्या है? उसका समग्र रूप क्या है ? प्रश्न यह उठता है कि क्या स्त्री विमर्श के माध्यम से आप और हम जिस स्त्री पर चर्चा करना चाहते हैं उसे हृदय की उतनी गहराई से जानते हैं? उसकी जिन समस्याओं पर विचार कर समाधान बतलाए जा रहे है क्य...

Post has attachment
**
समीक्षा-- डॉ पवन विजय कृत "बोलो गंगा पुत्र !" पुराकाल
से ही हम यह देखते आ रहे हैं कि सत्य कह पाने की क्षमता हर एक में नहीं होती । कोई
ही विलक्षण प्रतिभा सम्पन्न होता है जो सत्य कह पाने की क्षमता रखता है । वरन
अधिकतर लोग कहीं न कहीं , किसी न किसी रूप में झूठ...
नूतन ( उद्गार)
नूतन ( उद्गार)
neelanchalknp.blogspot.com

Post has attachment

Post has attachment
बेटियाँ
बेटियाँ घर आँगन की
रौनक   जिस प्रकार एक उपवन बिना
चिड़ियों की चहचहाहट के अधूरा और सूना-सूना लगता है उसी प्रकार बेटियों के बिना घर
का उपवन , आँगन भी अधूरा और सूना लगता है। इसका दर्द वही समझ पाता है जिस
घर में बेटी नहीं होती। सोच कर देखिये । इतिहास उठा
कर देखे...
बेटियाँ
बेटियाँ
neelanchalknp.blogspot.com

Post has attachment
पर्यावरण प्रहरी
पर्यावरण प्रदूषण – वायु
प्रदूषण या धुंये का राक्षस ------------------------------------------------------------- पृथ्वी का वातावरण स्तरीय है। पृथ्वी के नजदीक
लगभग 50 km ऊँचाई
पर स्ट्रेटोस्फीयर है जिसमें ओजोन स्तर होता है। यह स्तर सूर्यप्रकाश की पारबैंगनी
( ...

Post has attachment
पर्यावरण में महिलाओं की भूमिका
पर्यावरण में महिलाओं की
भूमिका ---------------------------------------------- सर्वप्रथम हम अपनी संस्कृति पर
दृष्टिपात करें और सामाजिक प्रथाओं और रीति-रिवाजों को देखें तो यह पता चलता है कि
प्राचीन काल से ही महिलाएँ पर्यावरण-संरक्षण के प्रति जागरुक रही हैं , ...

Post has attachment
भारतीय नारी के सपने कितने आजाद ??
“ भारतीय
नारी कभी भी कृपा की पात्र नहीं थी , वह सदैव से समानता की अधिकारी रही हैं। ” - भारत कोकिला सरोजिनी नायडू । अल्टेकर के अनुसार प्राचीन भारत में वैदिक काल
में स्त्रियों की स्थिति समाज और परिवार में उच्च थी , परन्तु
पश्चातवर्ती काल में कई कारणों से उसकी...

Post has attachment
भारतीय नारी के सपने कितने आजाद ??
“ भारतीय
नारी कभी भी कृपा की पात्र नहीं थी , वह सदैव से समानता की अधिकारी रही हैं। ” - भारत कोकिला सरोजिनी नायडू । अल्टेकर के अनुसार प्राचीन भारत में वैदिक काल
में स्त्रियों की स्थिति समाज और परिवार में उच्च थी , परन्तु
पश्चातवर्ती काल में कई कारणों से उसकी...

Post has attachment
भारतीय नारी के सपने कितने आजाद ??
“ भारतीय
नारी कभी भी कृपा की पात्र नहीं थी , वह सदैव से समानता की अधिकारी रही हैं। ” - भारत कोकिला सरोजिनी नायडू । अल्टेकर के अनुसार प्राचीन भारत में वैदिक काल
में स्त्रियों की स्थिति समाज और परिवार में उच्च थी , परन्तु
पश्चातवर्ती काल में कई कारणों से उसकी...

Post has attachment
Annapurna Bajpai commented on a post on Blogger.
मैंने आज पहली बार इस को पढ़ा है , बहुत ही अच्छी लगी । हरमिंदर सिंह चाहल.जी को हार्दिक शुभकामनायें , 
Wait while more posts are being loaded