Profile

Cover photo
rajendra tela
Attended St'Anselms School ,Ajmer
Lives in Ajmer
1,258 followers|65,786 views
AboutPostsPhotosVideos+1's

Stream

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
Keeping people happy
It is easier to Ignite fire On the peak of A snow clad mountain With Fiery wind blowing All around Than keeping People happy Who for no Rhyme or reason Get angry At any time Remain unpredictable Throughout their lives Causing misery to Themselves And Others...
It is easier to Ignite fire On the peak of A snow clad mountain With Fiery wind blowing All around Than keeping People happy Who for no Rhyme or reason Get angry At any time Remain unpredictable Througho...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
She loves me the way I am
She is The biggest asset I ever had She loved me When I had nothing She loved me When I had everything She loves me When I have Stopped earning She loved me  The way
I was She loves me The way I am Money was always Secondary to love For me For her  © Dr.Raj...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
She is The biggest asset I ever had She loved me When I had nothing She loved me When I had everything She loves me When I have Stopped earning She loved me  The way I was She loves me The way I am Money w...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
कहने को भले ही यादें हो
कहने को भले ही यादें हो मन में अब भी ताज़ा हैं वो बातें वो लोग  अब भी हृदय में जीवंत हैं वो भूल गए जग छोड़ गए मैं उन्हें कैसे भूल सकता हूँ जिन्होंने पौछे थे आसूं रखा था कंधे पर हाथ दिए थे ख़ुशी के पल उन्हें हृदय से नमन उन्हें हृदय से नमन © डा.राजेंद्र
तेला,निर...
 ·  Translate
कहने को भले ही यादें हो मन में अब भी ताज़ा हैं वो बातें वो लोग  अब भी हृदय में जीवंत हैं वो भूल गए जग छोड़ गए मैं उन्हें कैसे भूल सकता हूँ जिन्होंने पौछे थे आसूं रखा था कंधे पर हाथ दिए थे ख़ुशी के पल उन्हें...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
निपुणता और अहंकार
मैं कविता लेखन
की विधा में निपुण
हूँ एक दिन में तीन
कविता एक कहानी लिखता
हूँ वो कहानी लेखन
में निपुण हैं एक दिन में तीन
कहानी एक कविता लिखते
हैं स्वयं को मुझसे श्रेष्ठ
बताते हैं पता नहीं क्यों इर्ष्या
में जीते हैं निपुणता को मनुष्य
की श्रेष्ठता से
जोड़ते हैं...
 ·  Translate
मैं कविता लेखन की विधा में निपुण हूँ एक दिन में तीन कविता एक कहानी लिखता हूँ वो कहानी लेखन में निपुण हैं एक दिन में तीन कहानी एक कविता लिखते हैं स्वयं को मुझसे श्रेष्ठ बताते हैं पता नहीं क्यों इर्ष्या में जीते हैं...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
सामर्थ्य से अधिक
रात के अँधेरे
को उजाले से ढकने
का प्रयास करता
रहा दिन के उजाले
में बढ़ते अँधेरे
से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेरे
से बचा पाया सामर्थ्य से
अधिक करने का प्रयास तो निष्फल गया चैन से भी हाथ धोना पडा © डा.राजेंद्र
तेला,निरंतर 427-38-1...
 ·  Translate
रात के अँधेरे को उजाले से ढकने का प्रयास करता रहा दिन के उजाले में बढ़ते अँधेरे से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेरे से बचा पाया सामर्थ्य से अधिक करने का प्रयास तो निष्फल गया चैन से भी हा...
1
Add a comment...
Have him in circles
1,258 people

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
She is The biggest asset I ever had She loved me When I had nothing She loved me When I had everything She loves me When I have Stopped earning She loved me  The way I was She loves me The way I am Money w...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
It is easier to Ignite fire On the peak of A snow clad mountain With Fiery wind blowing All around Than keeping People happy Who for no Rhyme or reason Get angry At any time Remain unpredictable Througho...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
कहने को भले ही यादें हो मन में अब भी ताज़ा हैं वो लोग वो बातें  हृदय में जीवंत हैं वो भूल गए जग छोड़ गए मैं उन्हें कैसे भूल सकता हूँ जिन्होंने पौछे थे आसूं रखा था कंधे पर हाथ दिए थे ख़ुशी के पल उन्हें हृदय से...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
मैं कविता लेखन की विधा में निपुण हूँ एक दिन में तीन कविता एक कहानी लिखता हूँ वो कहानी लेखन में निपुण हैं एक दिन में तीन कहानी एक कविता लिखते हैं स्वयं को मुझसे श्रेष्ठ बताते हैं पता नहीं क्यों इर्ष्या में जीते हैं...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
रात के अँधेरे को उजाले से ढकने का प्रयास करता रहा दिन के उजाले में बढ़ते अँधेरे से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेरे से बचा पाया सामर्थ्य से अधिक करने का प्रयास तो  निष्फल रहा ही  चैन से ...
1
Add a comment...

rajendra tela

Shared publicly  - 
 
सामर्थ्य से अधिक
रात के अँधेरे
को उजाले से ढकने
का प्रयास करता
रहा दिन के उजाले
में बढ़ते अँधेरे
से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेरे
से बचा पाया सामर्थ्य से
अधिक करने का प्रयास  तो  निष्फल  रहा ही  चैन से भी हाथ धोना पडा © डा.राजेंद्र
तेला,निरंतर 4...
 ·  Translate
रात के अँधेरे को उजाले से ढकने का प्रयास करता रहा दिन के उजाले में बढ़ते अँधेरे से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेरे से बचा पाया सामर्थ्य से अधिक करने का प्रयास तो  निष्फल रहा ही  चैन से ...
1
Add a comment...
Story
Tagline
Dentist,Poet,writer,philanthropist,sports administrator ,love gardening,reading,photography, games & sports,nature and current affairs
Introduction
डा.राजेंद्र तेला"निरंतर""   पेशे से दन्त चिकत्सक ,चेयरमैन राजस्थान टेबल टेनिस असोसी एशन,कॉमन कॉज सोसाइटी,अजमेर का संस्थापक अध्यक्ष(राजस्थान में पोलीथीन पर प्रतिबंध लगवाने एवम अजमेर के आनासागर झील के सरंक्षण के लिए प्रसिद्द ),राजस्थान राज्य डेंटल काऊंसिल का सदस्य ,ऑल इंडिया किचिन गार्डन असोसिएशन,अजमेर का संस्थापक अध्यक्ष.एवम कई अन्य संस्थाओं से जुडा हुआ हूँ समाज और व्यक्तियों में व्याप्त दोहरेपन ने हमेशा से कचोटा है,अपने विचारों, अनुभवों और जीवन को करीब से देखने से उत्पन्न मिश्रण को कलम द्वारा कागज़ पर उकेरने का प्रयास कर रहा हूँ, अगस्त २०१० से लिखना प्रारम्भ किया ,भावनाओं और अभिव्यक्ती की  यात्रा में अब तक 5000 रचनाएँ हिंदी,उर्दू मिश्रित हिंदी एवं अंग्रेज़ी भाषा में लिख चुका हूँ  Dr.Rajendra Tela,"Nirantar  A Dental Surgeon by profession,IWritten more than 5000 poems ,articles,stories in Hindi,English and Urdu languages.Involved various activities like,social work,writing,games,photography and gardening..rajtela1@gmail.com
Education
  • St'Anselms School ,Ajmer
Basic Information
Gender
Male
Other names
Nirantar
rajendra tela's +1's are the things they like, agree with, or want to recommend.
She loves me the way I am
www.rajendratelanirantar.com

She is The biggest asset I ever had She loved me When I had nothing She loved me When I had everything She loves me When I have Stopped earn

कहने को भले ही यादें हो
www.rajendratelanirantar.com

कहने को भले ही यादें हो मन में अब भी ताज़ा हैं वो लोग वो बातें हृदय में जीवंत हैं वो भूल गए जग छोड़ गए मैं उन्हें कैसे भूल सकता हूँ जिन्होंने

निपुणता और अहंकार
www.rajendratelanirantar.com

मैं कविता लेखन की विधा में निपुण हूँ एक दिन में तीन कविता एक कहानी लिखता हूँ वो कहानी लेखन में निपुण हैं एक दिन में तीन कहानी एक कविता लिखते

सामर्थ्य से अधिक
www.rajendratelanirantar.com

रात के अँधेरे को उजाले से ढकने का प्रयास करता रहा दिन के उजाले में बढ़ते अँधेरे से बेखबर जीता रहा ना रात का अँधेरा कम कर पाया ना दिन को अँधेर

गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य पर -गुरु से सीखा गुरु से जाना
www.rajendratelanirantar.com

(गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य पर ) गुरु से सीखा गुरु से जाना गुरु ने समझाया गुरु ने बताया ज्ञान रखने से नहीं बांटने से बढ़ता है सार्थक ज्ञान ही

गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य में-जिससे भी ज्ञान प्राप्त हो उसे ही गुरु मान ...
www.rajendratelanirantar.com

(गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य में) जिससे भी ज्ञान प्राप्त हो उसे ही गुरु मान लो भाई ना चेहरा ना आकार ना भाषा ना परिभाषा ना आयु ना अनुभव ना शिक्

Let god do what he wants to
www.rajendratelanirantar.com

Hearing Voices of No No No From all the Directions All the corners Dreams Started drying Desires Started melting Ambitions Started dying Hop

Let god do what he wants to
nirantarajmer.blogspot.com

Hearing Voices of No No No From all the Directions All the corners Dreams Started drying Desires Started melting Ambitions Started dying Hop

Dark tunnel of depression
www.rajendratelanirantar.com

Depression Is an Endless Dark tunnel Without light Without air The deeper You go inside More difficult It becomes To survive Life looks No l

शक की अग्नि
www.rajendratelanirantar.com

शक की अग्नि विध्वंशक होती है लग जाए एक बार द्वेष के विष को जन्म देती है चाल चरित्र सच्चाई पर वार करती है जीवन को बेचैन संबंधों को जला कर ख़ाक

दिल अगर यूँ ही सताता रहेगा
www.rajendratelanirantar.com

दिल अगर यूँ ही सताता रहेगा ज़िंदगी का ना पता ना ठिकाना होगा मुसाफिर बन कर भटकता रहूँगा राख के ढेर में चिंगारी ढूंढता रहूँगा एक दिन खुद राख बन

गिरगिट
www.rajendratelanirantar.com

गिरगिट मुझे गिरगिट बहुत अच्छे लगते हैं चेहरे पर चेहरा चढ़ाए लोगों से लाख गुना बेहतर हैं कोई लाग लपेट नहीं कोई सच झूठ का चक्कर नहीं जैसे हैं व

हँसते चेहरे का दुःख
www.rajendratelanirantar.com

क्यों समझते हो हँसते चेहरे को कोई दुःख नहीं होता होंसला बढ़ाने वाले का होंसला कभी नहीं टूटता जानना है तो मेरे हृदय से पूछो कैसे दुःख दबा कर र

अगाध प्रेम
www.rajendratelanirantar.com

चंद्रमा से मिलन असंभव है जानते हुए भी चंद्रमा के प्रेम में भाव विव्हल चकोर दिन भर मन में मिलन की आशाएं संजोये धैर्य से सांझ ढले तक चन्द्र दर

One who feels I am always right
www.rajendratelanirantar.com

One who feels I am always right Is obsessed Eccentric And Out of mind It’s the beginning of Destruction of attitude And Human mind Most of t

समय के साथ
www.rajendratelanirantar.com

बर्फ पिघलने के बाद भी कुछ समय तक उसकी ठंडक बनी रहती सूरज ढलने के बाद भी कुछ समय तक उसकी गर्मी बनी रहती समय के साथ स्थिति बदल जाती मनुष्य के

शौक से सहता हूँ
www.rajendratelanirantar.com

कागज़ का टुकडा नहीं हूँ लिख कर फाड़ दिया धडकते दिल का मालिक हूँ हसरतें रखता हूँ निरंतर मोहब्बत को तरसता हूँ मोहब्बत में जीता हूँ जिसका हो गया

दुश्मन ही बहुत हैं फ़िक्र में जीने के लिए
www.rajendratelanirantar.com

दुश्मन ही बहुत हैं फ़िक्र में जीने के लिए हर दिन कोसने के लिए रातों को जागने के लिए हर लम्हा याद कर बद्दुआ देने के लिए वक़्त बर्बाद करने के लि

ज़िंदगी में नया साथ ढूंढ लिया
www.rajendratelanirantar.com

ज़िंदगी में नया साथ ढूंढ लिया अब लफ़्ज़ों को हमसफ़र बना लिया लफ़्ज़ों को हमसफ़र बना लिया ना रूठने का डर ना मनाने का झंझट कभी ग़ज़ल कभी नज़्म लिख कर खु

दिल तो यूँ ही इतराता रहेगा
www.rajendratelanirantar.com

दिल का क्या दिल तो यूँ ही कभी मचलेगा कभी बहकेगा कभी उछलेगा कभी कूदेगा कभी रोयेगा कभी हँसेगा कभी रूठ कर बैठ जाएगा कभी ज़िद पर अड़ जाएगा मनाओगे