Profile cover photo
Profile photo
Punit Pandey
118 followers
118 followers
About
Posts

Post has attachment
चंद्र ग्रह की शांति के सरल उपाय! https://goo.gl/R18H6Y #ChandraGrahShanti #Upay
Photo
Add a comment...

Post has attachment
सूर्य ग्रह की शांति के सरल उपाय! https://goo.gl/kSZd2W #SuryaGrahShanti #Upay
Photo
Add a comment...

Post has attachment
मीडिया के रेंगने के साल के तौर पर 2016 क्यों याद किया जाना चाहिये !
किन्हें नाज है मीडिया पर- पार्ट-3 [अंतिम] आडवानी 35.00, खुराना 3.00, एसएस 18.94, के नाथ 7.00, एनडीटी 0.88,बूटा 7.50, एपी 5.00, एलपीएस 5,50, एस यादव 5.00, ए एम 30.00, एएन 35.00, डी लाल 50.00, वीसीएस 47.00, एनएस 8.00 .......और इसी तरह कुछ और शब्द। जिन के आगे ...
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Lal Kitab 2016 Horoscope By AstroSage.com
Lal Kitab 2016 horoscope is here by AstroSage.com. Know what your predictions say about your future and plan accordingly. Aries Financial challenges are likely to occur this year, but will end in September. You need to take safety measures while driving, to...
Add a comment...

Post has attachment
सत्ता से दो दो हाथ करते करता मीडिया कैसे सत्ता के साथ खडा हो गया
अमेरिका में रुपर्ट मर्डोक प्रधानमंत्री मोदी से मिले तो मड्रोक ने मोदी को आजादी के बाद से भारत का सबसे शानदार पीएम करार दे दिया। मड्रोक अब अमेरिकी राजनीति को भी प्रभावित कर रहे है। ओबामा पर अश्वेत प्रेसीडेंट न मानने के मड्रोक के बयान पर बवाल मचा ही हुआ है। अ...
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
किसे फ़िक्र है बीमारी और इलाज की!
दुनिया के सौ से ज्यादा देशों से इलाज की सुविधा ही नहीं, बल्कि डाक्टर और अस्पतालों के बेड भी भारत में सबसे कम है । भारत के ही छात्र सबसे ज्यादा बड़ी तादाद में दुनिया के बारह विकसित देशों में डाक्टर और इंजिनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं। भारत में स्वास्थ्य के क्षे...
Add a comment...

Post has attachment
भाषा के लिये बेचैनी होनी चाहिये
साहित्य और पत्रकारिता का तारतम्य कब कैसे टूटा और कैसे संवाद की भाषा शहरी मिजाज के साथ पत्रकारिता ने अपना ली इसके लिये कोई एक वक्त की लकीर तो खिंची नहीं जा सकती । लेकिन यह कहा जा सकता है कि 1991 के बाद जब सत्ता ने ही कल्याणकारी राज्य की जगह उपभोक्ता वादी राज...
Add a comment...

Post has attachment
क्या आपने ई-बुक "एक साल कई सवाल" पढ़ी?
यह किताब आपके हाथ में नहीं आपकी आंखों के सामने है। इस किताब को ना तो खरीदने की जरुरत है ना ही कही ऑर्डर देकर मंगाने की। आपके मोबाइल, आपके कम्यूटर पर मौजूद यह किताब आपके घर के भीतर की कोई जगह भी नहीं भरेगी। यह सिर्फ आपके दिमाग को मौजूदा सामाजिक-राजनीतिक माहौ...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded