Profile cover photo
Profile photo
अंकित कुमार हिन्दू
भूभाग नहीं शत शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय
भूभाग नहीं शत शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय
About
अंकित's posts

Post has attachment
Islam -What they do with Seculars(Kashmeer)

क्या यह बात सच है कि नकली शंकराचार्यों की भीड़ के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का हाथ है?

# आर टी आई से खुली भाजपा की पोल
# सामने आई देश के प्रधानसेवक की हकीकत
------------------------------------------------
कालाधन पर रोक लगाने के साथ सत्ता में आर्इ मोदी सरकार पर एक आरटीआर्इ में पूछे गए सवालों ने मोदी सरकार पर कई सवालियां निशान खड़े कर रही है। नोटबंदी को लेकर विपक्ष के कठघरे में खड़ी भाजपा सरकार इस खुलासे के बाद आैर घिर सकती है। आरटीआर्इ के मुताबिक *मोदी सरकार ने पिछले ढार्इ सालों के भीतर अपने प्रचार-प्रसार पर 11 अरब रुपए से ज्‍यादा खर्च किए हैं*।

आरटीआर्इ से इन्होंने मांगा था जवाब
ग्रेटर नोएडा के आरटीआई एक्टिविस्‍ट रामवीर तंवर ने 29 अगस्त 2016 को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से सूचना के अधिकार के जरिए पूछा था कि केंद्र में प्रधानमंत्री मोदी ने सरकार बनाने से लेकर अगस्‍त 2016 तक विज्ञापन पर कितना सरकारी पैसा खर्च किया है। तीन माह बाद जब आरटीआर्इ के जरिए मिले इस जवाब को देखकर आप जरूर चौंक जाएंगे। इसमें बताया गया है कि पिछले ढार्इ साल में मोदी सरकार ने विज्ञापन पर ग्यारह अरब रुपए से भी ज्यादा खर्च कर चुकी है।

आरटीआर्इ से यह मिला जवाब
आरटीआर्इ के जरिए मंत्रालय से मिले विज्ञापन की जानकारी में बताया गया कि ब्रॉडकास्‍ड, कम्‍युनिटी रेडियो, इंटरनेट, दूरदर्शन, डिजिटल सिनेमा, प्रोडक्‍शन, टेलीकास्ट, एसएमएस के अलावा अन्‍य खर्च शामिल हैं। इनमें *पिछले तीन सालों में मोदी सरकार की आेर से करीब ग्यारह अरब से भी ज्यादा रुपया खर्च किया गया है*।

प्रचार प्रसार के इन माध्यमों पर किया गया इतना खर्च

प्रचार प्रसार का माध्यम - साल - रुपये

SMS -
2014 - 9. 07 करोड़
2015 - 5.15 करोड़
अगस्त 2016 तक - 3. 86 करोड़

इंटरनेट -
2014 - 6. 61 करोड़
2015 - 14.13 करोड़
अगस्त 2016 तक - 1.99 करोड़

ब्राॅडकास्ट -
2014 - 64. 39 करोड़
2015 - 94.54 करोड़
अगस्त 2016 तक - 40.63 करोड़

कम्‍युनिटी रेडियो -
2014 - 88.40 लाख
2015 - 2.27 करोड
अगस्त 2016 तक - 81.45 लाख

डिजिटल सिनेमा
2014 -77 करोड़
2015 - 1.06 अरब
अगस्त 2016 तक - 6.23 करोड़

टेलीकास्ट -
2014 - 2.36 अरब
2015-2.45 अरब
अगस्त 2016 तक - 38.71 करोड़

प्राॅडक्शन -
2014 - 8.20 करोड़
2015 - 13.90 करोड़
अगस्त 2016 तक -1.29 करोड़

तीन साल में हर साल इतना किया खर्च

2014 - एक जून 2014 से 31 मार्च 2015 तक करीब 4.48 अरब रुपए खर्च

2015 - 1 अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2016 तक 5.42 अरब रुपए खर्च

2016 - 1 अप्रैल 2016 से 31 अगस्‍त 2016 तक 1.20 अरब रुपए खर्च

आरटीआई एक्टीविस्ट रामवीर तंवर ने कहा
इस मामले पर आरटीआई एक्टीविस्ट रामवीर तंवर ने कहा कि सुना करते थे कि मोदी चाय के पैसे भी खुद दिया करते थे। ऐसे में मन में विज्ञापन को लेकर सवाल उठने पर आरटीआई लगाई थी। अंदाजा ये था मोदी के विज्ञापनों पर 5 से 10 करोड़ रुपए का खर्चा किया होगा। लेकिन, ढाई साल में 1100 करोड़ रुपए खर्च करने का पता लगने के बाद से निराशा महसूस हुई है। उन्होंने कहा कि *जब ढाई साल में 1100 सौ करोड़ का खर्च आया है केवल विज्ञापन पर तो पूरे पांच साल में मोदी जी के विज्ञापनों पर 3000 हजार करोड़ का खर्च आ सकता है*। इसकी तुलना उन्होंने अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी की और कहा कि वहां सरकार के चुनाव प्रचार में 800 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। जबकि हमारे देश मेें एक केंद्र सरकार इतना पैसा खर्च कर दिया ये बहुत ही निंदनीय है। अगर इस पैसों को जनता के काम में लगाया जाता तो, ज्यादा बेहतर होता।

Copied from :- कौशल सिंह सोमवंशी

फतवा !

ट्रम्प की कार का पंचर
कोई नही बनाएगा....
😂😂

यूपी में भव्य रामन्दिर चाहिए तो भाजपा को पूर्ण बहुमत दिलाना पड़ेगा क्योंकि केंद्र में जो मलेशिया की लिबरेशन पार्टी की सरकार है वो सहयोग नहीं कर रही है.

भक्तो करो नागिन डांस

Post has shared content
कला, आजादी के नाम पर इतिहास से छेड़छाड़ क्यों?

एक वीर हिन्दू राजपूत महिला जो अपने आत्मसम्मान के लिए 16000 महिलाओं के साथ जौहर करती है उसे इस फिल्म में अलाउद्दीन के साथ प्रेम करते हुए दिखाया जा रहा है | हिन्दुओ के इतिहास से छेड़छाड़ अब बर्दास्त नहीं की जाएगी |

राजपूत करणी सेना के संस्थापक ने अपने संगठन द्वारा 'पद्मावती' के सेट पर हमला किए जाने का बचाव करते हुए कहा, 'राजपूतों की जमीन पर और हमारी नाक के नीचे वे हमारे पुरखों के इतिहास से खिलवाड़ कर रहे हैं।'

करणी सेना के कार्यकर्ता विक्रम सिंह‍ ने बताया, 'फिल्‍म में रानी पद्मावती के बारे में गलत जानकारी दी जा रही है। हमारा मुख्‍य प्रदर्शन फिल्‍म में तथ्‍यों के साथ छेड़छाड़ को लेकर था। इसे सहन नहीं किया जाएगा।

फिल्‍म में खिलजी और पद्मावती के लव सीन भी हैं जो गलत हैं। करणी सेना का कहना है कि पद्मावती ने खुद को खिलजी को सौंपने के बजाय जान दे दी थी। उन्‍होंने हजारों अन्‍य महिलाओं के साथ जौहर कर लिया था। सेना ने इस तरह के दृश्‍यों को फिल्‍म से हटाने की मांग की है।
Photo

Post has attachment

बॉलीवुड में भांड भरे है, नीयत सबकी काली है...
इतिहासों को बदल रहे, संजय लीला भंसाली है...

चालीस युद्ध जितने वाले को ना वीर बताया था...
संजय तुमने बाजीराव को बस आशिक़ दर्शाया था...

सहनशीलता की संजय हर बात पुरानी छोड़ चुके...
देश धर्म की खातिर हम कितनी मस्तानी छोड़ चुके...

अपराध जघन्य है तेरा, दोषी बॉलीवुड सारा है...
इसलिए 'करणी सेना' ने सेट पर जाकर मारा है...

संजय तुमको मर्द मानता, जो अजमेर भी जाते तुम...
दरगाह वाले हाजी का भी नरसंहार दिखाते तुम...

सच्चा कलमकार हूँ संजय, दर्पण तुम्हे दिखाता हूँ...
जौहर पदमा रानी का, तुमको आज बताता हूँ...

सुन्दर रूप देख रानी का बैर लिया था खिलजी ने...
चित्तौड़ दुर्ग का कोना कोना घेर लिया था खिलजी ने...

माँस नोचते गिद्धों से, लड़ते वो शाकाहारी थे...
मुट्ठी भर थे राजपूत, लेकिन मुगलो पर भारी थे...

राजपूतों की देख वीरता, खिलजी उसदिन काँप गया...
लड़कर जीत नहीं सकता वो, ये सच्चाई भांप गया...

राजा रतन सिंह से बोला, राजा इतना काम करो...
हिंसा में नुकसान सभी का अभी युद्ध विराम करो...

पैगाम हमारा जाकर रानी पद्मावती को बतला दो...
चेहरा विश्व सुंदरी का बस दर्पण में ही दिखला दो...

राजा ने रानी से बोला रानी मान गयी थी जी...
चित्तौड़ नहीं ढहने दूंगी ये रानी ठान गयी थी जी...

अगले दिन चित्तौड़ में खिलजी सेनापति के संग आया...
समकक्ष रूप चंद्रमा सा पद्मावती ने दिखलाया...

रूप देखकर रानी का खिलजी घायल सा लगता था...
दुष्ट दरिंदा पापी वो पागल पागल सा लगता था...

रतन सिंह थे भोले राजा उस खिलजी से छले गए...
कैद किया खिलजी ने उनको जेलखाने में चले गए...

खिलजी ने सन्देश दिया चित्तौड़ की शान बक्श दूंगा...
मेरी रानी बन जाओ, राजा की जान बक्श दूंगा...

रानी ने सन्देश लिखा, मैं तन मन अर्पण करती हूँ...
संग में नौ सौ दासी है और स्वयं समर्पण करती हूँ...

सभी पालकी में रानी ने बस सेना ही बिठाई थी...
सारी पालकी उस दुर्गा ने खिलजी को भिजवाई थी...

सेना भेजकर रानी ने जय जय श्री राम बोल दिया...
अग्नि कुंड तैयार किया था और साका भी खोल दिया...

मिली सुचना सारे सैनिक, मौत के घाट उतार दिए...
और दुष्ट खिलजी ने राजा रतन सिंह भी मार दिए...

मानो अग्नि कुंड की अग्नि उस दिन पानी पानी थी...
सोलह हजार नारियो के संग जलती पदमा रानी थी...

सच्चाई को दिखलाओ, हम सभी सत्य स्वीकारेंगे...
झूठ दिखाओगे संजय, तो मुम्बई आकर मारेंगे ....
मुंबई आकर मारेंगे ... !!!

साभार:- कवि अमित शर्मा

हैदर फिल्म की शूटिंग में तिरंगा लहराने और भारत माता की जय बोलने के सीन पर कश्मीरी मुस्लिमों ने भारी तादात में सेट पर भीषण हमला कर दिया था, जिसमे बड़ी मुश्किल से कलाकारों की जान बच पाई थी, बहुत खोजने पर भी उस समय आतंक के मजहब का पता नही चल सका था,
लेकिन इस बार 2 थप्पड़ मारने से ही आतंक के धर्म को डिटेक्ट कर लिया गया

अयोध्याय के राम मंदिर की भूमि का अधिग्रहण किया है केंद्र सरकार ने परन्तु राम मंदिर का मुद्दा लोकसभा चुनावों के घोषणापत्र में नहीं अपितु विधानसभा चुनावों के घोषणा पत्र में है ।
इसी को कहते है धूर्तता ....
Wait while more posts are being loaded