Profile cover photo
Profile photo
shravan shukla
1,901 followers -
Jindagi ke safar me bas jung ladta chala ja raha hoon... zindagi ko mere nazroiye se dekhiye to JEEWAN EK SANGHARSH hai.. hamesha ladte aur jeette raho.. haarne par swatah maut sunishchit hai...
Jindagi ke safar me bas jung ladta chala ja raha hoon... zindagi ko mere nazroiye se dekhiye to JEEWAN EK SANGHARSH hai.. hamesha ladte aur jeette raho.. haarne par swatah maut sunishchit hai...

1,901 followers
About
shravan's posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
प्रेम कहानियां: प्यार तूने क्या किया...
वो कोयल की तरह कूहकती थी, पर मैना की तरह प्यारी थी। वो सरसों के खेतों में उड़ती तितली सरीखी थी। वो बगदन के पेड़ों तले मिलने वाले सुकून थी। वो एक लड़की थी। जो 11th में पढ़ती थी। वो छोटे से शहर के छोटे से गांव में रहती थी, पर मुंबई जैसे सपनों की नगरी देख चुकी...

Post has attachment
जीवन: एक संघर्ष (LiFe :A StRuGgLe) : दिल्ली में बिजली के दाम बढ़ाने के पीछे है बड़ा झोल! CAG indicts Delhi power DISSCOMS: http://jeewaneksangharsh.blogspot.com/2015/08/cag-indicts-delhi-power-disscoms.html

Post has attachment
दिल्ली में बिजली के दाम बढ़ाने के पीछे है बड़ा झोल! CAG indicts Delhi power DISSCOMS
नई दिल्ली। दिल्ली में बिजली के दाम बढ़ाने की तैयारी चल रही है। सरकार चाहती है, बिजली के दाम न बढ़ें। लेकिन बिजली कंपनियां अपने घाटे का रोना रोते हुए दाम बढ़ाना चाहती हैं। इसके पीछे क्या बिजली कंपनियां बड़ा झोल कर रही हैं? इसी झोल की पड़ताल के दौरान कई ऐसे त...

Post has attachment

Post has attachment
AAP Leader Sanjay Singh and Ashutosh Gupta's massage on Independence day for ghar sultanpur team

Post has attachment
जंतर-मंतर LIVE: महज एक किसान नहीं, ये तो समूचे परिवार की हत्या है!
नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी की रैली के दौरान एक किसान गजेंद्र सिंह ने हजारो लोगों के सामने आत्महत्या कर ली। गजेंद्र ने दिल्ली के सीएम, डिप्टी सीएम, कैबिनेट मंत्रियों समेत हजारो लोगों के सामने अपनी जान दे दी, और मीडिया समेत(उसमें मैं खुद) सभी लोग तमाशा देखते र...

Post has attachment
हिन्दयुग्म से मसाला चाय के साथ धूप के आईने में: सालभर पुरानी समीक्षा
03 मई 2014, स्थान: दिल्ली पुस्तकें हमारी जीवन का अभिन्न हिस्सा है। बचपन से लेकर अबतक हमेशा इनमें खोए रहना ही पड़ता है, फिर जब हिंदी की किस्सा-कहानियों की बात हो तो ये चर्चा और भी जरूरी हो जाती है कि मार्केट में क्या नया है, जो पढ़ने लायक होने के साथ ही खुद को...
Wait while more posts are being loaded