Profile cover photo
Profile photo
Roshan Yadaw
“You might have a story hidden somewhere, or a character, a place, a poem, a moment in time. When you find it, you will write it. Word after word after word after word.” Come along with me in this journey
“You might have a story hidden somewhere, or a character, a place, a poem, a moment in time. When you find it, you will write it. Word after word after word after word.” Come along with me in this journey
About
Posts

Post has attachment
"इक ख़त - तुम्हारे लिए"
ये दिल, इक ख़त, कई बार जलाना चाहता हैं स्याही और लब्जो से, कुछ बताना चाहता हैं । इक उम्र बाकी है अभी हाँ, ख़्वाहिशों के शोर में, फिर से, मेरा नादा दिल, तुम्हें गले लगाना चाहता हैं । कही किसी राह पर,  तुम्हारे साथ मुस्कुराना चाहता हैं । हाँ, अब कैद महसूस करती ...

Post has attachment
Roshan Yadaw commented on a post on Blogger.
We all have

Post has attachment
अंतहीन सफ़र
अंतहीन सफ़र में इक परिंदा क्या चाहता है क्या मिलता हैं चलते-चलते कुछ ऎसे ही सवाल कांधे पर लेके वो परिंदा कुछ दूर तक चलना चाहता हैं । पुछता हैं लोग इश्क़ क़रतें क्यूँ हैं?? क्या हर कोई इस दुनियाँ में जलना चाहता है?? उसे क्या मालूम आसमाँ का रंग  किसी की मुस्कराह...

Post has attachment
तुम तक...इक राही का सफर
ज़िन्दगी इक सफर हैं राही का जो उसे अंधेरों तक ले जायेगा मालूम था उसको की इक दिन कोई तुमसा नजर आयेगा और एक ख़्वाब-ए- इश्क़ उसके रास्तों की रोशनी बन जायेगा । जिंदगी ख्वाबों की इक दुनियाँ हैं जहा अक्सर घूमने जाता हूँ मै वहा सिर्फ़ तुम नजर आते हों मेरी मुहब्बत, मेर...

Post has attachment
मंजिल
मेरें तन्हा मन की आँखों में मिल जाओ तुम कभी नमी, कभी रौशनी बनकर, मुझसे मिलने आओं तुम । हर पल, मेरी आँखों में निशाँ हों  तेरी मुस्कुराहट का, मेरी यादों में जब आओ तुम मेरी बनकर आओ तुम । क़ोई सरहद, कोई मंजिल  जो दूर तुझे ले जाये, बागों में मेरे, फुलों की तरह मि...

Post has attachment
इज़हार
कितना मुश्किल हैं इंतजार तेरा कि तुझसे मिलना  रोशनी में घुल जाने जैसा है तुझे क्या मालूम कितना नादाँ है इजहार मेरा । कहाँ मुमकिन है खुशियों का ताउम्र साथ रह जाना ये 'वो' जिंदगी है जहा तुझसे मिल जाना भी  एक ख्वाब हैं मेरा । न जानें  किन किन रास्तों पे  ले जा...

Post has attachment
Latest poetry on the blog

Post has attachment
ख़्वाब
अधूरेपन की दहलीजों पर  तेरी बातें अक्सर आती हैँ खामोश पड़े इक राही को चलने को उकसाती हैं । मेरा जहाँ इक कमरा हैं  जहा अंधियारें रोशन रहते हैं और कमरे के चौखट पे तेरी बातें दीप नये जलातीं है । खिड़की से वो राहें दिखतीं हैं जो तुझे मुझसे दूर ले जाती हैं। कभी-कभ...

Post has attachment
दिया
जब मै जिन्दगी के गहरे अंधेरों से देखता हू, तो दूर कही, एक मुकाम पर वो मुझे जलते दिए की तरह दिखती हैं । अंधेरों की शह पे बढती  रूह मेरी चलती जाती हैं तू है एक मिट्टी का दिया  मंजिल की तरह दिखती है  और दिल में कही जलती रहती है । क्यूँ न कहे दिल अपना तुझे मेरे...

Post has attachment
एहसास - एक राही का सफ़र
इक दिल हो जो मेरा हो इक दर्द मुहब्बत जैसा हो इक ख्वाब तुम्हारे जैसा हो  दिल के आईने में यादों की बारिश हो  हर आवाज तुम्हारी हो, हर तस्वीर तुम्हारे जैसी हो जब थामू मैं हाथ कोई,  फिर से आँखे बंद करके वो अहसास तुम्हारे जैसा हो बस यूँ लगे कि क़ोई हो,  तो तुम्हार...
Wait while more posts are being loaded