Profile cover photo
Profile photo
Blog Maalik
11 followers
11 followers
About
Communities and Collections
View all
Posts

Post has attachment

Post has attachment
' तो ' - चिराग़
दिल की दिल में रह गई तो, अगर बात न कह गई तो? कह कर भी न समझ पाई तो, शर्म नहीं, उबकाई तो? मेरे साथ जो चलती गई, वो न हुई, परछाई तो? वो आके पहलू में बैठ गई, ये झूठ न हो, सच्चाई तो? रात तो संग में बीत गई, जिंदगी बीत न पाई तो?              -----चिराग़ शर्मा 
Add a comment...

Post has attachment
हंगामा है क्यों बरपा - मुक्ता
देशद्रोह का जो रोना रो रहे हैं क्या वो सच्चे देश भक्त हैं ? खुलेआम दी जा रही रेप की धमकी  कहते है मेरे देश का कानून बहुत सख्त है ! लेफ्ट और राईट में उलझी है देश की राजनीति  हर बात पर सब देते है प्रतिक्रया बड़ी तीखी  बयानबाजी से अगर बदल जाती देश की स्थिति तो ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
ख़ामोशी - मुक्ता
कैसा हो गर हम सब गूँगे हो जाएं ख़ामोशी ही कहें और ख़ामोशी ही सुन पाएं क्योंकि मेरे हिसाब से ख़ामोशी लोगों को एक कर देती है , ठीक उसी तरह जैसे रात में सारे भेद मिटा देती है दूरियां ख़त्म हो जाती है और सब करीब हो जाते है , रौशनी आते ही सब को अलग - अलग कर देती है ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
अधूरा इश्क़ - मुक्ता
मैं लिखती रही,मिटाती रही अधूरे इश्क़ की ख्वाहिशें, कितने ही दिन तन्हा बीते कितनी ही रातें तन्हा जीए, दीवारों से दिल का दर्द कहे छत से करें शिकायतें , काली घनी रात आकर नींद से मेरे कहे आँख बंद कर ले ओ बावरी ! पिया तुझे तेरे भूल गए चल तुझे निन्दियाँ बुलाएँ ख्व...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
चन्द लम्हे - मुक्ता
आज टूट गया मेरे दिल का वहम ऐसा लगा जैसे सदियों के बाद नींद से जागे हो हम ख्वाबों की दूनिया जब छूटी लगा के जैसे साँसे टूटी, ये सच है कि तुम थे बेहद ख़ास लेकिन थे बस एक ख्वाब क्यों ख़्वाबों को हकीकत समझा क्यों रिश्ता तुझसे अटूट जोड़ा , ख़्वाब दिखाना नहीं था तुम्ह...
Add a comment...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded