Profile cover photo
Profile photo
Dhruv Singh (एकलव्य)
170 followers -
"सरल संदेशों में लिपटा हूँ, मैं अनजाना राही ,चंद शब्द में, बात मैं कहता ,कालजयी कलम का सिपाही "
"सरल संदेशों में लिपटा हूँ, मैं अनजाना राही ,चंद शब्द में, बात मैं कहता ,कालजयी कलम का सिपाही "

170 followers
About
Posts

Post has attachment
Dhruv Singh (एकलव्य) commented on a post on Blogger.
आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' १७ सितंबर २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।



आवश्यक सूचना : रचनाएं लिंक करने का उद्देश्य रचनाकार की मौलिकता का हनन करना कदापि नहीं हैं बल्कि उसके ब्लॉग तक साहित्य प्रेमियों को निर्बाध पहुँचाना है ताकि उक्त लेखक और उसकी रचनाधर्मिता से पाठक स्वयं परिचित हो सके, यही हमारा प्रयास है। यह कोई व्यवसायिक कार्य नहीं है बल्कि साहित्य के प्रति हमारा समर्पण है। सादर 'एकलव्य'
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
६० ...........नटखट 'कलुआ' की कलम से
        कक्का जी आजकल बहुत ज्यादा ही व्यस्त चल रहे हैं। अरे भई ! चुनाव नज़दीक है और रचनाओं का आर्डर भी धूम-धड़ाके से मिल रहा है चलो ! अच्छा ही हुआ बहरूपियों का अनावरण तो हुआ, नहीं तो पता ही नहीं चलता कि इस ब्लॉग जगत के समंदर में कौन सत्य की खोज में है और कौन ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
प्रकृति-'प्रीत'
चन्द्रपथिक-सा, ओ प्रियवर ! हौले-हौले मंडराता है .........    निशाकलश छल-छल छलके  जब बन चकोर तू गाता है।   चन्द्रपथिक-सा, ओ प्रियवर ! हौले-हौले मंडराता है .........     भोर जा रही परदेस पिया  रथ-रश्मि चढ़ तू आता है  कुएँ पर घिरनी खींच रही  तू मंद-मंद मुस्काता...
Add a comment...

Post has attachment

निमंत्रण विशेष :

हमारे कल के ( साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक 'सोमवार' १० सितंबर २०१८ ) अतिथि रचनाकारआदरणीय "विश्वमोहन'' जी जिनकी इस विशेष रचना 'साहित्यिक-डाकजनी' के आह्वाहन पर इस वैचारिक मंथन भरे अंक का सृजन संभव हो सका।

यह वैचारिक मंथन हम सभी ब्लॉगजगत के रचनाकारों हेतु अतिआवश्यक है। मेरा आपसब से आग्रह है कि उक्त तिथि पर मंच पर आएं और अपने अनमोल विचार हिंदी साहित्य जगत के उत्थान हेतु रखें !

'लोकतंत्र' संवाद मंच साहित्य जगत के ऐसे तमाम सजग व्यक्तित्व को कोटि-कोटि नमन करता है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/
Add a comment...

Post has attachment
Dhruv Singh (एकलव्य) commented on a post on Blogger.

निमंत्रण विशेष :

हमारे कल के ( साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक 'सोमवार' १० सितंबर २०१८ ) अतिथि रचनाकारआदरणीय "विश्वमोहन'' जी जिनकी इस विशेष रचना 'साहित्यिक-डाकजनी' के आह्वाहन पर इस वैचारिक मंथन भरे अंक का सृजन संभव हो सका।

यह वैचारिक मंथन हम सभी ब्लॉगजगत के रचनाकारों हेतु अतिआवश्यक है। मेरा आपसब से आग्रह है कि उक्त तिथि पर मंच पर आएं और अपने अनमोल विचार हिंदी साहित्य जगत के उत्थान हेतु रखें !

'लोकतंत्र' संवाद मंच साहित्य जगत के ऐसे तमाम सजग व्यक्तित्व को कोटि-कोटि नमन करता है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/
दरिया का किनारा
दरिया का किनारा
purushottamjeevankalash.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
Dhruv Singh (एकलव्य) commented on a post on Blogger.

निमंत्रण विशेष :

हमारे कल के ( साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक 'सोमवार' १० सितंबर २०१८ ) अतिथि रचनाकारआदरणीय "विश्वमोहन'' जी जिनकी इस विशेष रचना 'साहित्यिक-डाकजनी' के आह्वाहन पर इस वैचारिक मंथन भरे अंक का सृजन संभव हो सका।

यह वैचारिक मंथन हम सभी ब्लॉगजगत के रचनाकारों हेतु अतिआवश्यक है। मेरा आपसब से आग्रह है कि उक्त तिथि पर मंच पर आएं और अपने अनमोल विचार हिंदी साहित्य जगत के उत्थान हेतु रखें !

'लोकतंत्र' संवाद मंच साहित्य जगत के ऐसे तमाम सजग व्यक्तित्व को कोटि-कोटि नमन करता है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded