Profile cover photo
Profile photo
Saliha Mansoori
33 followers
33 followers
About
Posts

Post has attachment
मेरी दुनियां हो
मेरी दुनियां हो मेरी मंजिल हो मेरी ज़िन्दगी हो तुम हाँ ! मेरा सब कुछ हो तुम ... - सालिहा मंसूरी 20.02.16      02.45 pm
Add a comment...

Post has attachment
जो अटल है ,अमर है
जो अटल है ,अमर है वो है ध्रुव तारा और इक है मेरा ब्विश्वास ...... - सलिहा मंसूरी 17.02.16      11.45 pm
Add a comment...

Post has attachment
**
मिल जाओगे इक दिन मुझे तुम होगा मेरा फिर सवेरा राहों से राहें जुदा न हों किसी से खो जाये बस ये अँधेरा मिल जाये तेरी नज़रों को  मंजिल ख़ुशी की बस ! इतना सा ख्वाब है मेरा  - सालिहा मंसूरी 17.02.16      09.00
pm
Add a comment...

Post has attachment
जब तुम मुझे मिल जाओगे
ये सदियों से भी लम्बा इंतज़ार इक दिन ख़त्म हो जाएगा जब तुम मुझे मिल जाओगे ये बेनाम सा दर्द भी इक दिन ठहर जाएगा जब तुम मुझे मिल जाओगे .. .. - सलिहा मंसूरी 19.02.16        09.14 pm
Add a comment...

Post has attachment
तक़दीर
अब इन स्याह रातों से  मुँह मोड़ना कैसा ये तो तकदीर हैं मेरी जिंदगी की जो चलेंगी उम्र भर  यूं ही साथ मेरे कभी तड़पेंगी कभी तरसेंगी  सुनहरी धूप की खातिर पर जानती हूँ मैं,    इन स्याह रातों का कोई सवेरा नहीं  - सालिहा मंसूरी 11.02.15
Add a comment...

Post has attachment
तक़दीर
अब इन स्याह रातों से  मुँह मोड़ना कैसा ये तो तकदीर है  मेरी जिंदगी की जो चलेगी उम्र भर  यूं ही साथ मेरे कभी तड़पेगी कभी तरसेगी  सुनहरी धूप की खातिर पर जानती हूँ मैं,    इन स्याह रातों का कोई सवेरा नहीं  - सालिहा मंसूरी 11.02.15
Add a comment...

Post has attachment
Flowers always for seeing don't touch...
Flowers always for seeing don't touch...
photographybysaliha.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
तुम बिन जाऊँ कहाँ के दुनियां में आके
कुछ न फिर चाहा सनम तुमको चाह के

Happy Birthday Rafi Sahab
Photo
Add a comment...

Post has attachment
आज फिर तन्हा हूँ मैं
आज फिर तन्हा हूँ मैं तुमसे बिछड़कर लेकिन कुछ पल जैसे आज भी जिन्दा हैं कुछ लम्हें  जैसे आज भी ठहरे हैं .... - सालिहा मंसूरी 14.02.16 
Add a comment...

Post has attachment
हर रात के साथ – साथ
हर रात के साथ – साथ ये दिन भी ढल जाएंगे हवाओं के साथ – साथ ये ग़म भी खो जाएंगे वक़्त के साथ – साथ ये ज़ख्म भी भर जाएंगे ... . - सालिहा मंसूरी 09.02.16       08.30 pm
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded