Profile cover photo
Profile photo
Meraj Ahmad
134 followers
134 followers
About
Posts

Post has attachment
आशा
आहा ! आज मोगरा खिला है कैसा सफेद शांत कोमल है । नन्हा पौधा रौपा था जब एक आशा भी रौपी थी साथ कल ये बड़ा मजबूत होगा हरियाली की छटा बिखरेगी हर रोज कोपलें फूटेंगी नयी हर सुबह सीचा निर्मल जल से उगते सूरज की नन्ही किरणों से दिन सप्ताह महिना फिर साल हुआ न आयी कली,...
Add a comment...

Post has attachment
अब्दुल हमीद के बहाने से...
“बावन साल पुरानी आँखें कब तक जागें? देखे अनदेखे सपनों से भागें, कब तक भागें? हर लम्हा एक रेत का जर्रा हर जर्रा है खुद एक सहरा गिनतें-गिनते हार गए हम लगता है बेकार गए हम ........।” 1         जीवन निरंतर गतिशील है। अतः समय के साथ-साथ मनुष्य के दृष्टिकोण में प...
Add a comment...

Post has attachment
अपने लाडलों कोपुकारता गांव
     गाँवों के दर्शन के बिना गाँव की बात बेमानी ही होगी । पहले गाँव का दर्शन कर ही लेते हैं ।  मेरा गांव मेरा देश मेरा ये वतन, तुझपे निसार है मेरा तन मेरा मन ।      ऐसा ही होता है गांव ! जहाँ हर आदमी के दिल में प्रेम हिलोरें मारता है । जहाँ इंसानी ज़ज़्बात ...
Add a comment...

Post has attachment
अपना घर
मीठी माँ – पापा से उसे चित्रकारी प्रतियोगिता में लखनऊ भेजने के जिद कर रही थी उसके चित्र को स्कूल लेवल प्रतियोगिता में सराहना मिली थी और अब उसे अंतर्राज्यीय प्रतियोगिता के लिए चुना गया है। मगर माँ–पापा हमेशा की तरह से उसे डांटते हुए बोले “जो करना है अपने घर ...
Add a comment...

Post has attachment
अनिल कुमार शर्मा की कविता में सत्य का स्वरुप
कविता अपने समय के सत्य को रूपायित करती है | ऐसा करते समय उसे इस बात का भय विल्कुल नहीं होता कि सामने वाला क्या सोचेगा? क्या प्रतिक्रिया देगा? संभव है कि जिस दिन कविता में भय की यह गुन्जाईस हो अथवा यह सोचने की समझ जगे उस दिन कविता सच्चे अर्थों में कविता के स...
Add a comment...

Post has attachment
अजीब-चमक
दीपावली के अगले दिन अलसुबह जब मैने दो बच्चों को अपने घर के बाहर चले हुए पटाखों के कचरे में कुछ ढूँढ़ते हुये देखा, तो मेरा माथा चकरा गया | मैंने पूछा - हे बच्चों ! तुम सुबह-सुबह यहाँ क्या कर रहे हो , वो डर कर जाने लगे | मैंने उन्हें रोका और कहा - डरो मत, बताओ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded