Profile cover photo
Profile photo
Mahesh Barmate (माही)
2,834 followers
2,834 followers
About
Posts

Post has attachment

Post has attachment
कुछ तो है... (Kuch toh hai...)
कुछ अंदर दबा हुआ
सा है चुभता है ठूंठ
सा अपनी आवाज को भी
नहीं सुनता मैं चीखता हूँ गूँज
सा। एक तरफ तन्हाइयों
का शोर है दूजी तरफ ग़मों
का सन्नाटा पसरा हुआ है किस तरफ रखूँ कदम
अपने फर्श पे मेरा मैं
बिखरा हुआ है। अपनी लाश पे चलके निकल जाना है ऐ दुनिया! तुझसे
मेरा...
Add a comment...

Post has attachment
अंतहीन सी डोर
एक अंतहीन सी डोर है क्या अदृश्य कोई छोर है..? थामे हुए है मुझे और तुम्हें मिलन की आस है कैसी ये होड़ है..? दूर हो के भी पास हैं हमें एक दूजे का एहसास हैं हरदम मिलन की आस है कैसी ये प्यास है..? चाहत और हकीक़त में छोटा सा फर्क है गर समझ गए तो जन्नत वरना गर्द है...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
मेरी दुल्हन
रूठने लगती है रूह मेरी मुझसे  जब जब तेरे चेहरे पे शिकन देखता हूँ  के अश्क़ो  को तो तुम छुपा जाते हो अक्सर  पर मैं तो आँखों में तेरे  दर्द का समंदर देखता हूँ। तू लाख छुपा ले दर्द अपने  पर तुझको अक्सर मैं अपने अंदर देखता हूँ।  तेरी कहानी सरताज नहीं मैं  पर ये ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded