Profile cover photo
Profile photo
Manjeet Pahasouriya
4 followers
4 followers
About
Posts

Post has attachment
#बहना_ने_भाई_की_कलाई_से_प्यार_बांधा_है,
#प्यार_के_दो_तार_से_संसार_बांधा_है..!!

जय हो सुर्यकवि दादा लख्मीचन्द की
म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान संगठन की तरफ से
समस्त देशवासियों को "रक्षा बन्धन" की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बहुत बहुत बधाई।

अपील:- अगर कोई बहन मुझे राख बंधाने की इच्छूक है तो बहन का हृदय की गहराईयों से स्वागत है।

निवेदक:-
#लेखक मनजीत पहासौरिया
#कोषाध्यक्ष
#म्हारी_संस्कृति_म्हारा_स्वाभिमान_संगठन
Photo
Add a comment...

Post has attachment
सभी देशवासियों को महा-शिवरात्री की हार्दिक एवं शुभकामनाएं
जय भोलेनाथ की
https://youtu.be/WkqGF4Nl0Kk
Photo
Add a comment...

Post has attachment
जय माता दी
Photo
Add a comment...

Post has attachment
https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=2047204228825477&id=100006077599456

🚩🚩जय माता दी🚩🚩
""""''"''''''''''''''''''''''''''''''''''''"""""""""""""'''
एक माँ दुर्गा का भगत , माँ के व्रत करने के बाद माता के धाम पर जाने के लिए चलता है तो उसको गाड़ी वाले ले जाने से मना कर देते हैं तो वह भगत एक भजन के द्वारा क्या कहता है ------

तर्ज - स्पेशल करने का मेरा ब्योत नहीं गोरी

जयकारा मईया का, मनैं जोर तैं लाणा सै,
तम्ह दर पै ले चालो , मनैं दर्शन पाणा सै..!!टेक!!

तीनों लोकां में यो डंका बाज रहा,
करै शेर सवारी मां, सिर ऊपर ताज रहा,
क्यूं कर इतराज रहा , के तनै भाड़ा लगाणा सै..!!१!!

तम्ह दर पै ले चालो , मनैं दर्शन पाणा सै..!!

वा शत्रु नाशक है, दुष्टों को मार गिरावै,
भगतन की माँ प्यारी, अपणे गले लगावै,
सब दुख दर्द मिटावै, मनै भी मर्म बताणा सै..!!२!!

तम्ह दर पै ले चालो , मनैं दर्शन पाणा सै..!!

यो मैया का सिंगार, मनैं त्यार कर राख्या,
चुनरी नारियल भी, सब अलग धर राख्या,
क्यूं अपणे सिर राख्या , जो मेरै उलहाणा सै..!!३!!

तम्ह दर पै ले चालो , मनैं दर्शन पाणा सै..!!

भजन कर ले बन्दे, तूँ छोड़ जगत के काम,
यो मनजीत अर्ज करै, सच्चा उस माँ का नाम,
यो मेरा पहासौर गाम, सदा नहीं ठिकाणा सै..!!४!!
तम्ह दर पै ले चालो , मनैं दर्शन पाणा सै..!!

रचनाकार:- पं मनजीत पहासौरिया
फोन नं०:- 9467354911
Email :- pt.manjeetpahasouriya@gmail.com
Add a comment...

Post has attachment
दादा जगन्नाथ समचाणा & मनजीत पहासौरिया
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...

Post has attachment
रागनी विडियो लिंक
https://youtu.be/Rc1PiQr9gRo

लोग कहै उसने लख्मींचन्द वो लखमीचन्द भी ना था,
कहै मांगेराम हमनै पिछाणा,बीना पिछाणै कुछ ना..!!

अगर आप लख्मींचन्द के बारे में जानना चाहते हैं तो इस विडीयो को जरूरं देखे,, क्यों हमारे बूजर्गों की जुबान पर बार बार एक शब्द आता है के इसा लखमीचन्द सै यो (जाने वासत्व में क्या थे सूर्यकवि श्री लख्मीचंद)

विडियो अच्छी लगे तो लगे लाईक, व शयेर करे।।

चेतावनी:- इस चैनल को सिर्फ संस्कृति प्रेमी ही सब्सक्राइब करें, बाकि दुर रहे, क्योकि यह चैनल सिर्फ संस्कृति प्रेमीयों का है ना कि कमाई करने का अड्डा है।।।

जय हरियाणा जय हरियाणवी

म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान
🎤🎤🎤🎤🎤🎤🎤
Photo
Add a comment...

Post has attachment
https://www.facebook.com/photo.php?fbid=2039491279596772&set=a.1547030705509501.1073741826.100006077599456&type=3

नंगा नाच होवै चौगरदै, या कोड कहाणी होगी,
संग में मिलकै चालो भाइयो, संस्कृति बचाणी होगी..!! टेक!!

आपस के म्हं मेल बढ़े तैं, यो हृदय चमन खिलैगा,
वेद पुराण और उपनिषदों तै ज्ञान का दीप जलैगा,
गऊ गंगे और गायत्री का, सिद्धि हवन चलैगा,
धर्म कर्म भी बणे रहवैं , फेर पाप नहीं फलैगा
वैदिक शिक्षा मिलै जहां पै , इसी चाल बणाणी होगी..!!१!!

म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान का भवन त्यार हो,
सामवेद की भी दीक्षा मिलज्या, निपुण हर कलाकार हो,
गायन, वादन और नृत्य की शिक्षा एक सार हो,
ना रह कोए द्वेष क्लेश, आपस के म्हं प्यार हो,
सब कवियों को सम्मान मिलै, इसी रीत चलाणी होगी..!!२!!

अश्लीलता का खोज मिटै, जड़ै , ज्ञान के गंग बहवैंगे,
सेंसर बोर्ड पारित होज्या तै, एकदम भूंडे गहवैंगे,
गलत गावै और गलत लिखै जो , फंद के बीच फहवैंगे,
स्वच्छ होज्या पर्यावरण फिर, किले गन्दगी के ढहवैंगे,
जात पात की जो करै लड़ाई , वा जड़ तैं मिटाणी होगी..!!३!!

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, यो लक्ष्य संघ म्हारे का,
निर्धन की सुता ना रह क्वारी , देैंगे साथ हारे का,
कोए कवि भी छुप्या रहै ना, जै मिलै साथ भाईचारे का,
गुरु कपीन्द्र शर्मा ख्याल करो, मनजीत पाहसोरिया प्यारे का
जन - जन तक हम सन्देश पहुँचावैं, जो गुरुआँ की बाणी होगी..!!४!!

रचनाकार:- मनजीत पहासौरिया
फोन नं:- 9467354911
ईमेल:- pt.manjeetpahasouriya@gmail.com
Add a comment...

Post has attachment
https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=2039476886264878&id=100006077599456
अब चन्द्रगुप्त अपने घर हापूड़ पहूच जाता है। अपनी माता को प्रणाम करता है मां ने पूचकार कर छाती से लगा लिया और क्या कहने लगी,,,,
https://youtu.be/12J3PUa8KP0

{रागनी न०64 किस्सा सेठ ताराचन्द}

जहाज पै गया था छोरा ब्होत सा दर्द ओटा,
राम जी की जगह जाण कै माता के पायां मै लोटा..!!टेक!!

मेरा थारा राम भग्त किसा नाता, ना दिल किसे चींज नै चाहता,
चाहे जिस तरहा राखिए माता, तेरा सबतै बालक छोटा..!!१!!

ईश्वर के करदे एक छन मै, बाकी के रहरी सै तन मै,
उठै झाल भतेरी मन मै, बहूं का रंज फिकर था मोटा..!!२!!

चाहे घर चाहे बहार रहूगां, बणकै आज्ञाकार रहूगां,
जिंदगी भर ताबेदार रहूगां, मेरा सिर थारा सोटा..!!३!!

लखमीचन्द छंद नै गावै, सदा सतगुरु को शीश झुकावै,
बख्त के उपर काम आवै, खोटा बेटा पैसा खोटा..!!४!!

रचनाकार :- सुर्यकवि दादा लख्मीचन्द
प्रस्तुत कर्ता :- पं मनजीत पहासौरिया
फोन नं० :- 09467354911
Photo
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded