Profile cover photo
Profile photo
Asha Joglekar
617 followers
617 followers
About
Asha's interests
View all
Asha's posts

Post has attachment
कब हमने सोचा था
कब हमने सोचा था कि ये पैर डगमगायेंगे, बेटे हमारे लिये फिर लाठी ले के आयेंगे। खाना बनाने से भी हम इतने थक जायेंगे सीढी बिना रेलिंग की कैसे हम उतर पायेंगे। लेकिन ये हुआ है तो अब मान भी हम जायेंगे जो जो सहारा लेना है लेकर उसे निभायेंगे। मन माफिक खाना पीना भी भ...

Post has attachment
फिर कविता
मेरी कविताएं नाचती हैं मेरे खयालों में। घूमती हैं गोल गोल मेरे चारों और, एक नई अनछुई कविता लेने लगती हा आकार उनके बीचोंबीच। जि सका हरियाली का लेहंगा, फूलों की चोली, चांद सितारे टंकी झीनी झीनी चूनर , उसके बादल से काजल काले गेसू। उ सके अलंकार, उपमा, उत्प्रेक्...

Post has attachment
**
घुटने की शल्यक्रिया के बाद घुटना बोलता है, जब उसे दुख  होता है साथ छूटने का, साथी जो उसके अपने थे। होता है उनको भी दुख अपने पुराने साथी से बिछडने का उसकी जगह लेने वाले नये साथी से उनकी बनती नही है अभी। नयी बहू की तरह सब की परीक्षा के घेरे में है वह। इसीसे द...

Post has attachment
जब चले आते हो,
जब चले आते हो, अंधेरे में रौशनी की तरह, हर पोर मेरा, खिलता है एक कली की तरह। ज्यूं छिटक जाये अमावस को चांदनी गोरी, जगमगाते हो, हमेशा ही तुम, दिवाली की
तरह। किसी लमहे-उदास को लगे, खुशी की नजर, मेरी उजडी सी जिंदगी , तुम गुलाली की
तरह। हमें तुम्हारी रुसवाइयाँ ...

Post has attachment
गणेश चतुर्थी
द्वारे बंदनवार, सजाई रंगोली, आईये गणपति स्वागत है। ढोल, ताशे, झांज, खूब बज रहे आनंद अपार आगमन से। पांव धोके पीऊँ, आरती उतारूं कुंकुम तिलक सुंदर सोहे। सजाया आसन, विराजे गणेश, भक्तों का उत्साह  कहूँ कैसे। आचमन,स्नान को, जल ये पवित्र, चंदन रोली अक्षत भाल सोहे।...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded