Profile cover photo
Profile photo
विकास नैनवाल
134 followers
134 followers
About
Posts

Post has attachment
अनिल मोहन जी का उपन्यास खून का रिश्ता पढ़ीअनिल मोहन जी का उपन्यास खून का रिश्ता पढ़ी।
उपन्यास के विषय में आखिर में यही कहूँगा कि उपन्यास रोमांचक है। कथानक पाठक को बांधे रखता है और तेजी से भागता है।
उपन्यास के प्रति मेरे विस्तृत विचार आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
Add a comment...

Post has attachment
फ़िल्टर के माध्यम से अपने इनबॉक्स में मौजूद ई मेल्स को कैसे व्यवस्थित करें? इसके विषय में आप निम्न लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं:
Add a comment...

Post has attachment
जी मेल में फ़िल्टर के माध्यम से अपनी मेल्स व्यवस्थित कैसे करें?
एक ज़माना हुआ करता था जब मेरे जीमेल में इतने मेल हुआ करते थे कि इनबॉक्स भर जाया करता था। मेल्स की बाड़ सी आ जाया करती थी और इसका परिणाम ये होता कि काम के ईमेल मैं पढ़ नहीं पाता क्योंकि वो दूसरे मेल्स के बीच में कहीं दफन हो जाते थे। लेकिन अब हालात काफी जुदा हैं...
Add a comment...

Post has attachment
विकास नैनवाल commented on a post on Blogger.
हैदराबाद जाना एक ही बार हुआ है लेकिन उस वक्त घूम फिर नहीं पाया था। दो एक जगह खाना खाया था तो ये बात मैंने भी नोट की थी कि खाना वाकई सस्ता मिलता है।
Add a comment...

Post has attachment
अभी हाल में यह बाल लघु उपन्यास पढ़ा....मेरी पूरी राय आप निम्न लिंक पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं....
Add a comment...

Post has attachment
Doctor Who and the Auton Invasion - Terrance Dicks
Doctor Who and the Auton Invasion - Terrance Dicks
vikasbookjournalchildrenlit.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
कल ही ये उपन्यास पढ़ना खत्म किया। उपन्यास मुझे पसंद आया। उपन्यास के प्रति मेरी विस्तृत राय आप निम्न लिंक पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं:
Add a comment...

Post has attachment
विकास नैनवाल commented on a post on Blogger.
मुँह में पानी आ गया घेवर देखकर। इधर गुरुग्राम में मेरे आसपास फीका घेवर नहीं मिल रहा था। लगता है ढूँढ़कर लाना पड़ेगा। सुस्वादु पोस्ट।
Add a comment...

Post has attachment
कहानियों से मुझे हमेशा से प्यार रहा है और कहानियों को दादी नानी के बाद जो अपने में समेट कर रखता है वो पुस्तकें हैं। दादी नानी को तो हम झोले में नहीं डाल सकते लेकिन पुस्तकों को डाल सकते हैं और इसलिए मेरी घुमक्कड़ी में पुस्तकों का विशेष स्थान होता है। इसलिए जब पुस्तक मेला आता है तो मैं ललायित हो जाता हूँ। ये मेला मुझे कई ऐसी पुस्तकों से मिलवाता है जिनके अस्तित्व से ये अंजान अब तक अनजान था। ऐसी ही पुस्तक मेले की घुमक्कड़ी मैंने इस साल जनवरी में की।

जनवरी में नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले में गया और अपने संकलन में कई दोस्तों को जोड़ा। तो देर किस बात की आप भी चलिए मेरे साथ इस किताबी घुमक्कड़ी में। बस नीचे दिये लिंक को क्लिक कीजिये:
Add a comment...

Post has attachment
नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2018 - एक किताबी घुमक्कड़ी
नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2018 निपटे हुए काफी वक्त हो गया है। मेला जनवरी 7-14 को प्रगति मैदान में आयोजित किया गया था। मैं जबसे गुडगाँव आया हूँ तब से ये कोशिश करता हूँ कि दिल्ली और आस पास में होने वाले पुस्तक मेले में शिरकत कर सकूँ। इस बार भी मैं दिल्ली पु...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded