Profile cover photo
Profile photo
rakesh mutha
About
rakesh's interests
View all
rakesh's posts

Post has attachment
उसकी ही याद में
वीणा का हर तार बजने लगा मौसिम जो ऐसा था और मुझ पर प्रेम की नज़र भी डाली थी उसने मुझसे निसरी थी राग बिन बांसुरी स्वरलहरियां नृत्य करने लगी और बज उठा हर तार वीणा का स्पंदन प्रेम का झंकृत कर गया समय को इतनी ऊर्जा और उल्लास दे गया कि आज  भी उसकी  ही याद में रचित...

Post has attachment
हां ,प्यार ही है जीवन का अर्थ
 क्या है अर्थ इन हवाओं का इन हरे पेड़ों का इस बहती नदी का चहचहाती चिड़िया का खुद मेरा मेरे जीवन का क्या  है अर्थ कहा है ,कैसे है बर्गलाओं मत तुम्हे कसम है मेरे प्रश्न को यूँ हवा में उछालो मत हल ढूंढो मैं क्यों जी रहा हूँ क्या करने जी रहा हूँ मेरे न जीने से क्...

Post has attachment
बारिश --1
बारिश --1 बादल है छाये  उमस भी है  हवा भी है ठहरी हुई  बिजली भी चमकी है  मोरे बोले है और नाचे है  मगर बरसात कहा  याद है  झरती हुई आँख से  तुम बिन बारिशें  हो रही यूही कई बरसों से .........राकेश मूथा

Post has attachment
बारिश --2
बारिश --2 -------------------------------------------------------------------------------- सुबह से ही आलस मरोड़ रहे है बादल यहाँ मेरे शहर में आकर  बतला रहे है कि रात खूब बरसाया मैंने पानी उसके गावं  थक गया हूँ जरा सो लेने दो  फिर जग कर जाऊँगा  भर लाऊंगा तुम्...

Post has attachment
ईदी
ईदी =================================== रमजान के सारे रोजे तुम्हारे  नाम करता हूँ आज ईद के दिन  ये ईदी  तेरे सरापे में सितारों की तरह लगाता हूँ रमजान की सारी नमाज़ें सारी दुवाएं तुम्हे देकर अब मैं वज्जू करता हूँ नयी नमाज के लिए .........राकेश मूथा (ईद मुबारक...

Post has attachment
बदल रहा है समय
समय हंस रहा है पल पल भर में छूटते जाते है दर्द बिछुड़ने का हंसी के पार्श्व में बजते संगीत सा  नयी संवेदनाओ से भर समय को बदल रहा है समय .................................राकेश मूथा 

Post has attachment
rakesh mutha had a hangout named any woman . {url}John MapleWood and Ava Quiznos
Wait while more posts are being loaded