Profile

Cover photo
Ashwini Jha
Attended MBA
Lives in New Delhi
353 followers|93,467 views
AboutPostsCollections

Stream

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
 
Abb phir line lagne ke liye taiyar ho jaiye.
 ·  Translate
नई दिल्ली: रिलायंस जियो की एंट्री के साथ ही मोबाइल डाटा प्राइसवार तेज हो गया है। कई कंपनियां बाजार में अपनी मौजूदगी बरकरार रखने के लिए कई ऑफर दे रही हैं। मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस जियो इंफोकॉम को टक्कर देने उनके ही छोटे भाई अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कॉम आ गई है।
1
Add a comment...

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
 
B  A  N  D  E    M  A  T  A  R  A  M
McGraw-Hill
(Technical)
1
1
Mahavir Uttranchali's profile photo
 
Nice ... 15 August Aapko Bhi Mubark Ho.
Add a comment...

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

Ashwini Jha
owner

Thought  - 
1
Add a comment...

Ashwini Jha
owner

Thought  - 
 
 
धयान से पढ़ना आँखों में पानी आ जाएगा.


बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..

इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया
मैं आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा ...

जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है .....
आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था .... जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे ...

मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ....
पता तो चले कितना माल छुपाया है .....
माँ से भी ...

इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..

जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ....
मैंने जूता निकाल कर देखा .....
मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था ...
जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..

और मुझे जाना ही था घर छोड़कर ...

जैसे ही कुछ दूर चला ....
मुझे पांवो में गिला गिला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ....
पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था .....

जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी .....

मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ....

मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..
लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए
पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?

दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था
उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ......
ओह....अच्छे जुते पहनना ???
पर उनके जुते तो ...........!!!!

माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो ...
और वे हर बार कहते "अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे .."
मैं अब समझा कितने चलेंगे

......तीसरी पर्ची ..........
पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये ...
पढ़ते ही दिमाग घूम गया.....
पापा का स्कूटर .............
ओह्ह्ह्ह

मैं घर की और भागा........
अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ....

मैं घर पहुंचा .....
न पापा थे न स्कूटर ..............
ओह्ह्ह नही
मैं समझ गया कहाँ गए ....

मैं दौड़ा .....
और
एजेंसी पर पहुंचा......
पापा वहीँ थे ...............

मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया ..

.....नहीं...पापा नहीं........ मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल...

बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..

वो भी आपके तरीके से ...।।

"माँ" एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है...

और

"पापा" एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है....
Always Love Your Parents💕
अगर दिल के किसी कोने को छू जाये तो फोरवर्ड जरूर करना
 ·  Translate
1 comment on original post
1
1
Add a comment...

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
 
BANDE MATARAM
 ·  Translate
1
Mukesh Shrama's profile photoAshwini Jha's profile photo
2 comments
 
Hind desh ke niwasi,
Sabhi jan eak hain
Rang, roop, bhesh, bhaksha
Chahe anek hain
Add a comment...

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
 
 
धयान से पढ़ना आँखों में पानी आ जाएगा.


बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..

इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया
मैं आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा ...

जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है .....
आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था .... जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे ...

मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ....
पता तो चले कितना माल छुपाया है .....
माँ से भी ...

इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..

जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ....
मैंने जूता निकाल कर देखा .....
मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था ...
जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..

और मुझे जाना ही था घर छोड़कर ...

जैसे ही कुछ दूर चला ....
मुझे पांवो में गिला गिला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ....
पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था .....

जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी .....

मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ....

मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..
लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए
पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?

दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था
उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ......
ओह....अच्छे जुते पहनना ???
पर उनके जुते तो ...........!!!!

माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो ...
और वे हर बार कहते "अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे .."
मैं अब समझा कितने चलेंगे

......तीसरी पर्ची ..........
पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये ...
पढ़ते ही दिमाग घूम गया.....
पापा का स्कूटर .............
ओह्ह्ह्ह

मैं घर की और भागा........
अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ....

मैं घर पहुंचा .....
न पापा थे न स्कूटर ..............
ओह्ह्ह नही
मैं समझ गया कहाँ गए ....

मैं दौड़ा .....
और
एजेंसी पर पहुंचा......
पापा वहीँ थे ...............

मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया ..

.....नहीं...पापा नहीं........ मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल...

बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..

वो भी आपके तरीके से ...।।

"माँ" एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है...

और

"पापा" एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है....
Always Love Your Parents💕
अगर दिल के किसी कोने को छू जाये तो फोरवर्ड जरूर करना
 ·  Translate
1 comment on original post
1
Add a comment...

Ashwini Jha

Shared publicly  - 
 
 
धयान से पढ़ना आँखों में पानी आ जाएगा.


बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..

इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया
मैं आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा ...

जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है .....
आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था .... जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे ...

मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ....
पता तो चले कितना माल छुपाया है .....
माँ से भी ...

इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..

जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ....
मैंने जूता निकाल कर देखा .....
मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था ...
जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..

और मुझे जाना ही था घर छोड़कर ...

जैसे ही कुछ दूर चला ....
मुझे पांवो में गिला गिला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ....
पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था .....

जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी .....

मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ....

मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..
लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए
पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?

दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था
उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ......
ओह....अच्छे जुते पहनना ???
पर उनके जुते तो ...........!!!!

माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो ...
और वे हर बार कहते "अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे .."
मैं अब समझा कितने चलेंगे

......तीसरी पर्ची ..........
पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये ...
पढ़ते ही दिमाग घूम गया.....
पापा का स्कूटर .............
ओह्ह्ह्ह

मैं घर की और भागा........
अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ....

मैं घर पहुंचा .....
न पापा थे न स्कूटर ..............
ओह्ह्ह नही
मैं समझ गया कहाँ गए ....

मैं दौड़ा .....
और
एजेंसी पर पहुंचा......
पापा वहीँ थे ...............

मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया ..

.....नहीं...पापा नहीं........ मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल...

बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..

वो भी आपके तरीके से ...।।

"माँ" एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है...

और

"पापा" एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है....
Always Love Your Parents💕
अगर दिल के किसी कोने को छू जाये तो फोरवर्ड जरूर करना
 ·  Translate
1 comment on original post
1
Add a comment...

Ashwini Jha
owner

Thought  - 
 
 
बिना पढ़े मत छोड़ना _ पत्ता गोभी के फायदे
पत्तागोभी जूस पीने के ये फायदे आपको हैरत में डाल देंगे.....
पत्तागोभी का इस्तेमाल मुख्य रूप से सब्जी, सूप और गार्निशिंग के लिए किया जाता है. अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो पत्तागोभी का इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. इसके इस्तेमाल से त्वचा पर निखार आता है और बालों को भी पोषण मिलता है.
पत्तागोभी में मौजूद विटामिन और लवण सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. इसमें पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं. जो सेहतमंद बनाने के साथ ही त्वचा को पोषित करने का भी काम करते हैं. पत्तागोभी के नियमित इस्तेमाल से ढ़लती उम्र के लक्षण जल्दी हावी नहीं होने पाते हैं.
पत्तागोभी में मौजूद लैक्ट‍िक एसिड नेचुरल कीटाणुनाशक की तरह काम करता है. इसके नियमित सेवन से पाचन क्रिया भी बेहतर बनती है, शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और अल्सर होने का खतरा भी कम हो जाता है.
पत्तागोभी का जूस पीने के फायदे:
1. पत्तागोभी के जूस का सेवन करने से अल्सर होने का खतरा कम हो जाता है. इससे आंतों में गंदगी जमने नहीं पाती और पेट की अंदरुनी परत मजबूत होती है.
2. पत्तागोभी सल्फोराफेन से भरपूर होता है. ये तत्व कैंसर कोशिकाओं को विकसित होने से रोकता है. जिससे कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है.
3. पत्तागोभी का जूस मोतियाबिंद से सुरक्षा देने का काम करता है. मोतियाबिंद आंखों से जुड़ी एक सामान्य समस्या है. यूं तो इसका ऑपरेशन करके इसे दूर किया जा सकता है लेकिन समस्या गंभीर हो जाने पर आंखों की रोशनी भी जा सकती है.
4. पत्तागोभी एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर सब्जी है. ये त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है. त्वचा से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के निदान के लिए भी इसका इस्तेमाल करना अच्छा रहता है. इसमें मौजूद विटामिन सी विभिन्न प्रकार के संक्रमण से भी सुरक्षा प्रदान करने का काम करता है.
5. पत्तागोभी उन सब्जियों में से एक है जो इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करती हैं. कई शोधों में ये बात साबित हो चुकी है कि नियमित रूप से पत्तागोभी का जूस पीने वालों में बीमारियों से लड़ने की क्षमता, नहीं पीने वालों की तुलना में कहीं ज्यादा होती है.
 ·  Translate
View original post
1
Add a comment...
Ashwini's Collections
Collections Ashwini is following
View all
Work
Occupation
Computer Professional
Skills
MBA
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
New Delhi
Previously
New Delhi
Links
Story
Introduction
Ashwini Kumar Jha
Education
  • MBA
    Operation
  • Sikkim Manipal University
Basic Information
Gender
Male