Profile cover photo
Profile photo
विकेश कुमार बडोला
618 followers
618 followers
About
विकेश कुमार's posts

Post has attachment

Post has attachment
मोदी के नेतृत्व में निरंतर बढ़ती भाजपा की प्रासंगिकता
जै से-जैसे
भारतीय जनता पार्टी नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भारतवर्ष में अपना लोकतांत्रिक
विस्‍तार कर रही है, उतनी तीव्रता से कांग्रेसजनित मीडिया का मोदी विरोधी दुष्‍प्रचार
पांव पसार रहा है। इस हड़बड़ाहट में तथाकथित पत्रकार, बुद्धिजीवी और विभिन्‍न
क्षेत्रों की...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
आतंकवाद उन्मूलन के लिए अमेरिकी तरीका ही सर्वश्रेष्ठ
सं पूर्ण
कल्‍याणकारी दृष्टि से जो लोग भावी सं‍ततियों के बारे में चिंतित थे, उन लोगों के
लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति के दो शासकीय नवनिर्णय निश्चित रूप से आनंद प्रदान
करनेवाले सिद्ध होंगे। आशा के अनुरूप डोनाल्‍ड ट्रंप ने विश्‍वव्‍यापी आतंकवाद की
प्रामाणिक सूत्रधा...

Post has attachment
उसे न जाने क्या हो गया
इ स
समय उसे यह तक याद नहीं कि वह एक जीव है। दो या तीन वर्ष से उसे अपने मनुष्‍य होने
पर भी संदेह हो आया। पिछले दस महीने तो उसके जीवन को पत्‍थर बनाने में लगे रहे। अब
भी यही स्थिति है। वह मनुष्‍य होने की सामान्‍य भावनाओं से भी अलग हो गया। उसके
भीतर प्रेम, संवे...

Post has attachment
विरोधियों की राजनीति पर भारी केंद्र की राजनीतिक शुचिता
अ पनी अनेक अवैध गतिविधियों के माध्‍यम से अर्थव्‍यवस्‍था को अवैध
मुद्रा संभावित क्षेत्र यानी भ्रष्‍टाचार में तब्‍दील कर कांग्रेस ने देश को
आर्थिक ही नहीं सामाजिक-राजनीतिक-सामरिक रूप से भी खोखला कर दिया था। लगातार दस
वर्षों तक गठबंधन सरकार की सर्वेसर्वा होने ...

Post has attachment
शहीदों के मेले और दुश्मान देश का वार्ता राग
विगत दिनों जम्‍मू
कश्‍मीर स्थित नगरोटा और सांबा में आतंकियों से हुई मुठभेढ़ में हमारे 7 सैनिक शहीद
हो गए। सैनिकों के शहीद होने के बारे में जानना शायद इस देश के लोगों के लिए एक
सामान्‍य खबर है। तभी तो पाकिस्‍तान की ओर से जारी आतंकी घुसपैठ के एक अघोषित
युद्ध म...

Post has attachment
ट्रंप विरोध का निरर्थक प्रलाप
अ मेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्‍मीदवार
डोनाल्‍ड ट्रंप के‍ विजयी होने का झटका यूरोपीय तथा शेष दुनिया के वामपं‍थियों को
निरंतर बेचैन किए हुए है। विगत दिनों 45वें अमेरिकी राष्‍ट्रपति के रूप में ट्रंप
की विजय-घोषणा से पूर्व तक येन-केन-प्रकारेण विश्...

Post has attachment
सोशल मीडिया की गति-दुर्गति
ज ब से
सोशल मीडिया अस्तित्‍व में आया , पारंपरिक पत्रकारिता की सच्‍चाई सामने आ गई। सोशल
मीडिया के जितने भी उपक्रम हैं , उनके निर्माण के पीछे की
भावना पहलेपहले यह बिलकुल नहीं थी कि ये आम आदमी की अभिव्‍यक्ति के लिए हैं और
इनसे दुनिया के सभी लोगों को स्‍वयं को ...
Wait while more posts are being loaded