Profile cover photo
Profile photo
dr neelam Mahendra
42 followers -
सोच बदलेगी तो समाज बदलेगा
सोच बदलेगी तो समाज बदलेगा

42 followers
About
Posts

Post has attachment

Post has attachment
क्या यह दबी चिंगारी को हवा देने की कोशिश है?
क्या यह दबी चिंगारी को हवा देने
की कोशिश है? अभी
ज्यादा दिन नहीं हुए थे जब सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने एक कार्यक्रम के दौरान
पंजाब में खालिस्तान लहर के दोबारा उभरने के संकेत दिए थे। उनका यह बयान बेवजह
नहीं था क्योंकि अगर हम पंजाब में अभी कुछ ही महीनों मे...
Add a comment...

Post has attachment
क्या इस कीमत पर विकास सोचा था आपने?
क्या इस कीमत पर विकास सोचा था आपने?                आज जब दिल्ली की हवा में प्रदूषण
के स्तर ने विश्व के सभी रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए तो इस बात को समझ लेने का समय आ
गया है कि यह   आज
एक समस्या भर नहीं रह गई है। आज जब एयर प्यूरीफायर की मार्किट लगातार बढ़ती जा रही
...
Add a comment...

Post has attachment
समानता के नाम पर परम्पराओं पर प्रहार की कोशिश
समानता के नाम पर परम्पराओं पर
प्रहार की कोशिश आजकल   कुछ बुद्धिजीवियों द्वारा समानता के नाम पर देश के   कुछ मंदिरों की परंपराओं पर प्रहार
करने की लगातार कोशिशें की जा रही हैं। इसके लिए न्यायालय का सहारा भी लिया गया। लेकिन अपनी संस्कृति के प्रति   आस्था के च...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
“राष्ट्रवाद एक विवाद”
डॉ नीलम महेंद्र कृत
“राष्ट्रवाद एक विवाद” में राष्ट्रवाद की सीमाओं का विश्लेषण   डॉ नीलम महेंद्र कृत राष्ट्रवाद एक विवाद निश्चित ही
एक महत्वपूर्ण कृति है कम से कम पठनीय एवं विचारणीय तो अवश्य ही है। इस
चिंतन पटक कृति के आवरण पर पुस्तक के शीर्षक के साथ ही उसक...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
केवल पुरुषों को दोष देने से काम नहीं चलेगा।
केवल पुरुषों को दोष देने से काम नहीं चलेगा। पुरानी
यादें हमेशा हसीन और खूबसूरत नहीं होती। मी टू कैम्पेन के जरिए आज जब देश में कुछ
महिलाएं अपनी जिंदगी के पुराने अनुभव साझा कर रही हैं तो यह पल निश्चित ही कुछ
पुरुषों के लिए उनकी नींदें उड़ाने वाले साबित हो रहे ...
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
महिला होना कुछ खास होता है।
महिला होना कुछ खास होता है। अभी
हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो जिसका शीर्षक था, " रन लाइक अ गर्ल " अर्थात एक लड़की
की तरह दौड़ो, काफी सराहा गया जिसमें 16- 28 साल तक की लड़कियों या फिर इसी उम्र के
लड़कों से जब " लड़कियों की तरह " दौड़ने के लिए कहा गया तो लड़के...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded