Profile cover photo
Profile photo
HUM SAMVET
54 followers
54 followers
About
Posts

Post has attachment
हबीबगंज जंक्शन प्राइवेट लिमिटेड जावेद अनीस सरकार हमारे रेलवे स्टेशनों को एअरपोर्ट के तर्ज पर विकसित करना चाहती है. हाल ही में वित्त मंत्रालय ने रेलवे स्टेशनों को इंफ्रास्ट्रक्चर का दर्जा देने की स्वीकृति दी है जिसके तहत रेलवे स्टेशनों का व्यावसायिक व…
Add a comment...

Post has attachment
लकड़ी जलाओ ! प्रदूषण भगाओ !! सेक्युलर मुल्क में धर्मग्रंथों को वरीयता प्रदान करने का सिलसिला कब तक ? सुभाष गाताडे दिल्ली से बमुश्किल सत्तर किलोमीटर दूर मेरठ के एक मैदान में इस माह के तीसरे सप्ताह के अन्त में एक अलग किस्म का आयोजन होगा, जहां वैदिक…
Add a comment...

Post has attachment
आज भी मानवाधिकार की प्रतीक्षा में हैं किन्नर डाॅ0गीता गुप्त समूचे विश्व में स्त्री और पुरुष से परे एक अन्य मानव वर्ग भी है, जिसे ट्रांसजेण्डर, तृतीय लिंगी, हिजड़ा, खोजवा, मौगा, ख़्वाज़ासरा, अरावनी, नपुंसक, छक्का, जोगप्पा, शिव-शक्ति, मंगलामुखी, किन्नर आदि कई…
Add a comment...

Post has attachment
इतिहास का पुनर्लेखन और संकीर्ण राष्ट्रवाद राम पुनियानी हिन्दू राष्ट्रवादी भाजपा के सत्ता में आने के बाद से, पाकिस्तान की तरह, भारत में भी इतिहास का पुनर्लेखन किया जा रहा है। अब तक हम मध्यकालीन इतिहास के साम्प्रदायिक संस्करण के बारे में सुनते रहे हैं। हमें…
Add a comment...

Post has attachment
आम आदमी पार्टी का संकट ; पारदर्शिता का सवाल वीरेन्द्र जैन धुर वामपंथ और धुर दक्षिणपंथ को ना पसन्द करने वाले देश में मध्यममार्गी दलों को ही सत्ता सौंपने की परम्परा रही है इनमें से ही एक केन्द्र से कुछ वाम दिखने की कोशिश करता रहा है तो दूसरा केन्द्र से कुछ…
Add a comment...

Post has attachment
अब तक 44 : एनकाउंटर के नाम पर हत्याएं जारी… मसीहुद्दीन संजरी उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के पदभार संभालनें के बाद 20 मार्च 2017 से फरवरी 2018 करीब 11 महीने में लगभग साढ़े ग्यारह सौ इनकाउंटर हो चुके हैं जिनमें 44 कथित अपराधी मारे गए और डेढ़ हज़ार के करीब…
Add a comment...

Post has attachment
‘मेरी हवाओं में रहेगी, ख़यालों की बिजली, यह मुश्त-ए-ख़ाक है फ़ानी, रहे रहे न रहे।’ शैलेन्द्र चौहान  इतिहास का एक गौरवशाली अध्याय भगतसिंह के साहस, शौर्य, दृढ़ सकंल्प और बलिदान की कहानियों से भरा पड़ा है। 23 मार्च 1931 को शाम में करीब 7 बजकर 33 मिनट पर भगत…
Add a comment...

Post has attachment
पर्यावरण और इंसान की दोस्त है गौरैया प्रभुनाथ शुक्ल गौरैया हमारी प्राकृतिक सहचरी है। कभी वह नीम के पेड़ के नीचे फूदकती और बिखेरे गए चावल या अनाज के दाने को चुगती। कभी प्यारी गौरैया घर की दीवार पर लगे आइने पर अपनी हमशक्ल पर चोंच मारती दिख जाती है। लेकिन…
Add a comment...

Post has attachment
उत्तरपूर्वी राज्यों में भाजपा का उदय और अल्पसंख्यक-विरोधी एजेंडा राम पुनियानी पिछले कुछ दशकों से पर्चों, पोस्टरों और अन्य तरीकों से अनवरत यह प्रचार किया जा रहा है कि ईसाई मिशनारियां बड़े पैमाने पर लोगों को ईसाई बना रहीं हैं। और इस सिलसिले में अधिकांश…
Add a comment...

Post has attachment
हादिया को मिली अपने सपने पूरे करने की आजादी जाहिद खान सर्वोच्च न्यायालय ने केरल हाई कोर्ट के उस फैसले को खारिज कर दिया है, जिसमें शफीन जहां नाम के मुस्लिम नौजवान से अखिला अशोकन उर्फ हादिया की शादी को ‘लव जिहाद’ का मामला बताकर रद्द कर दिया गया था। प्रधान…
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded