Profile

Cover photo
Neelima sharma
Lives in Dehradun, Uttarakhand, India
281 followers|85,777 views
AboutPosts

Stream

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
शादीशुदा प्रेम
तुम शादीशुदा मर्द भी कितने अजीब होते हो  प्रेम अगर  हो जाए पत्नी से  तो जमीन आसमान इक करते हो  एकाधिकार तुम्हारा हैं इस दिल पर  जानते हुए भी  बार बार झांकते हो  हर दरीचे की  हलकी सी भी दरारों से और नही छोड़ते जरा भी गुंजाईश ताका झांकी की किसी और की खाना कितन...
 ·  Translate
तुम शादीशुदा मर्द भी कितने अजीब होते हो  प्रेम अगर  हो जाए पत्नी से  तो जमीन आसमान इक करते हो  एकाधिकार तुम्हारा हैं इस दिल पर  जानते हुए भी  बार बार झांकते हो  हर दरीचे की  हलकी सी भी दरारों से और नही छोड़ते जरा भी गुंजाईश ता...
4
Anil Chadah's profile photo
 
Very true
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
सिसकिया
 ·  Translate
'अकेली होती हूँ तो आपकी यादे चारो तरफ से घेर लेती हैं , कानो में आपकी आवाज़े गूंजती हैं और मैं यहाँ इस नदी के किनारे पर आकर बैठ जाती हूँ और एक चलचित्र की तरह यादे चलती रहती हैं सामने , पर मुझे लफ्ज़ नही मिलते उन यादो को लिखने के...
3
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
" ग्रहण "
 ·  Translate
2
Biju Singh's profile photo
 
means ??
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
पत्थर तेरे सीने में भी हैं  उनके जख्म मेरी रूह पर भी  तुम कहानिया बनाना जानते  और मैं लिखना  तुम शोरमचाना जानते  और मैं मौन रहना  . . . हम साथ साथ हैं  जिन्दगी के हर मुकाम पर दोस्त बनकर ...... आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी ...
1
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
तेरे होने से यु गुलज़ार हुयी जिन्दगी  लगने लगी अब हमें खुशगवार जिन्दगी  इतने थपेड़े खाए थे हमने इस्सके पहले  कि लगने लगी थी हमें , बेज़ार जिन्दगी आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं ...
1
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
 वे  राँझेया  अज  तेरे बुल्ल्यां  ते मेरा  ना ( नाम )  हिक  फूल वर्गा  सजदा हे   ते मैं  रूई  दे फाहे  वर्गी  तेरे खोरे  जिस्म दे नाल  खुद नु समेट  रहईया।  एक गल्ल  डस  जे मैं  कंडा    हूंदी   ते तान वि  तूँ  इन्ना हि कोल रखदा...
1
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
 संस्कार और रिश्तो को निभाने की काबिलियत 
 ·  Translate
"उफ़ ! कितना काम हैं , मैं तो जैसे नौकरानी बन जाने के लिय आई हूँ इस घर में , हर कोई आता हैं हुक़म देकर चला जाता हैं यह बना दो , वोह बना दो " मीनू घर भर को समेट'ते हुए खुद से बडबडा रही थी | कल ननद जी आरही हैं अपने बेटे के लिय लड़...
1
Add a comment...
Have her in circles
281 people
bhaskar awasthi's profile photo
sanjeev sharma's profile photo
Digamber Naswa's profile photo
Anupam Chandel's profile photo
Ashok Asthana's profile photo
Rajkumar Dhar Dwivedi's profile photo
haresh Kumar's profile photo
hallocute Virendra's profile photo
rajkumar chauhan's profile photo

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
"यह बच्चा कौन हैं जो सड़क पर झाड़ू लगा रहा हैं " दोपहर में मुश्किल से आँख लगी थी कि झाडू की आवाज़ से खलल पड़ गया और मीना जोर से चिल्लाई  माँ आपने राशन से गेंहू लाने को कहे थे न , मैं वोह लेकर आ रहा था वहीँ यह बच्चा भीख मांग रहा था...
1
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
धुंधला रहे हैं किताबो में लिखे हर्फ 
कांप रहे हाथ कटोरी को थामते हुए 
लकीरे बना चुकी हैं अपना साम्राज्य 
पेशानी और आँखों के इर्द गिर्द 

यह उम्र दराज़ होना भी 
कितना दर्द देता हैं 
कभी कहा जाता हैं तुम आराम करो 
दुनिया दारी बहुत कर ली 
कभी कहा जाता हैं बहुत 
जी लिया अपने मन का 
अब हमें भी जीने दो 

उम्र के इस मोड़ पर 
जरुरत भी होती हैं 
इस गैर जरुरी देह की 

हर रिश्ते में एक पारदर्शी 
दीवार दिखती हैं 
अपनी ही जाई ओउलाद 
परायी दिखती हैं 

घर की देख रेख में 
घर को बनाने में 
एक उम्र गुजार देने वाले 
यह बूढ़े लोग 
मोहताज हो जाते हैं 
सिर्फ एक कोने के लिय 
अपने मन के कोने के लिय ..................................... नीलिमा शर्मा
 ·  Translate
धुंधला रहे हैं किताबो में लिखे हर्फ  कांप रहे हाथ कटोरी को थामते हुए  लकीरे बना चुकी हैं अपना साम्राज्य  पेशानी और आँखों के इर्द गिर्द  यह उम्र दराज़ होना भी  कितना दर्द देता हैं  कभी कहा जाता हैं तुम आराम करो  दुनिया दारी बहु...
4
Lekhika 'Pari M Shlok''s profile photo
 
मर्मस्पर्शी रचना .... उम्र का सत्य यही है जो अपने सपने फूँक देते हैं सिर्फ हमारे इच्छाओ को पूरा करने के लिए वो तरस के रह जाते हैं इक घर में कोने के लिए..मन में इक कोने के लिए ...
 ·  Translate
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
 उम्र के इस मोड़ पर   भरे पूरे परिवार  में   तीन मंजिले मकान में  बीमारियों  से भरी   फिर भी चलती फिरती  कितनी अकेली होती हैं .... हँसती  हैं आज भी   ठहाका लागाकर   बात - बेबात पर   भीतर के दर्द को छिपाकर  और अन्द...
1
Rajkumar Dhar Dwivedi's profile photoManoj Kumar's profile photo
2 comments
 
Hi
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
गलती और गुनाह फ़र्क़ होता हैं दोनों में जिसे तुम गलती भी नही कहते कई बार गुनाह होता हैं दूसरो की नजर में और कई बार गुनाह भी छिप जाते हैं गलतियों की आड़ लेकर अहंकार अभिमान और क्रोध अहंब्रह्मास्मि जैसी सोच करदेती हैं रिश्ते को तार...
1
Add a comment...

Neelima sharma

Shared publicly  - 
 
MUST READ
 ·  Translate
"साडा चिड़िया डा चंबा वे बाबल अस्सा उड़ जाना ".. गीत की धुन बज रही थी मस्तिष्क में और रमेश की आँखों से अविरल आन्स्सुओ की धारा बह रही थी , क्यों भेज दिया उसने परदेस अपनी चिड़िया सी बेटी को ब्याह कर ,जहाँ उसे एक दिन भी पत्नी का सु...
1
Add a comment...
People
Have her in circles
281 people
bhaskar awasthi's profile photo
sanjeev sharma's profile photo
Digamber Naswa's profile photo
Anupam Chandel's profile photo
Ashok Asthana's profile photo
Rajkumar Dhar Dwivedi's profile photo
haresh Kumar's profile photo
hallocute Virendra's profile photo
rajkumar chauhan's profile photo
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Dehradun, Uttarakhand, India
Previously
Muzaffarnagar,Kotdwar
Links
Story
Tagline
Mujhe gumaan tha ke main misra hun tumhaare khyalaat ka / tumne gazal kahkar mujhe mukammaaal kar diye ...written by Neelima
Basic Information
Gender
Female
Relationship
Married
Other names
Nivia