Profile cover photo
Profile photo
Samay Patrika
5 followers -
किताब पढ़, कुछ अलग कर
किताब पढ़, कुछ अलग कर

5 followers
About
Communities and Collections
Posts

Post has attachment
नामवर सिंह की 'द्वाभा' और निर्मला जैन की 'अनुवाद मीमांसा'
दोनों पुस्तकें पाठकों को अलग तरह का अहसास करायेंगी. राजकमल प्रकाशन ने हाल में दो किताबें प्रकाशित की हैं. नामवर सिंह की 'द्वाभा' और निर्मला जैन की 'अनुवाद मीमांसा'.  पढ़ें इन पुस्तकों के बारें में - द्वाभा : नामवर सिंह अब एक विशिष्ट शख्सियत की देहरी लाँघकर ए...
Add a comment...

Post has attachment
'मैं जब तक आयी बाहर' : ये कविताएँ प्रार्थना के नये से शिल्प में प्रतिरोध की कविताएँ हैं
कविता इतिहास अर्थात समय का काव्यान्तरण सम्भव करने की ओर उन्मुख होती है. 'मैं क्यों कहूँगी तुम से  अब और नहीं सहा जाता मेरे ईश्वर' गगन गिल की ये काव्य-पंक्तियाँ किसी निजी पीड़ा की ही अभिव्यक्ति हैं या हमारे समय के दर्द का अहसास भी? और जब यह पीड़ा अपने पाठक क...
Add a comment...

Post has attachment
दामोदर खड़से की 'खिड़कियाँ' अलग संसार में खुलती हैं
जब व्यक्ति अपनी इच्छा से अकेलापन चुनता है, तब वह 'एकान्त' पा जाता है. कई बार हम ऐसे हालातों में खुद को जूझता हुआ पाते हैं, जिनसे निकलना आसानी से मुमकिन नहीं हो पाता। कभी-कभी लगता है कि खुद में इतना डूब जायें कि बाहरी दुनिया से किनारा कर लें। यह एकान्त की स्...
Add a comment...

Post has attachment
फोटो अंकल : बेहतरीन कहानियाँ जो 'जी उठती' हैं
कुशल संपादक की बेहतरीन कहानियाँ जिन्हें पढ़ना सुकून देता है. सरल कुछ भी नहीं, शब्द तो बिल्कुल नहीं। यकीनन उनकी दुनिया बड़ी विचित्र है -पल भर में इतना भारी असर कर जाते हैं कि छाप लंबे वक़्त तक रहती है। यह भी सच है शब्द वे प्रभाव हैं जो मन को दूसरी दुनिया की सैर...
Add a comment...

Post has attachment
'the ज़िंदगी' : कहानियाँ और ज़िन्दगी
पुस्तक दो हिस्सों में है. पहले भाग में किस्से-कहानियाँ हैं और दूसरे में लघुकथाएँ. कहानियाँ ज़िन्दगी के हिस्सों से बनी होती हैं। हिस्से कई बार नाज़ुक होते हैं, कई बार इतने नर्म की मामूली ठसक से बिखर जाएँ; कुछ ऐसे हिस्से भी हैं, जो बाहर से सख़्त और अंदर से मुलाय...
Add a comment...

Post has attachment
‘घाचर-घोचर’ : कन्नड़ जीवन शैली का सजीव चित्रण
‘घाचर-घोचर’ न्यूयॉर्क टाइम्स और द गार्डियन द्वारा सर्वश्रेष्ठ दस पुस्तकों में शामिल किया गया है. कन्नड़ लेखक विवेक शानभाग के उपन्यास ‘घाचर-घोचर’ का हिन्दी अनुवाद वाणी प्रकाशन ने पाठकों को उपलब्ध कराया है। अनुवादक संजय कुमार सिंह ने सफलता के साथ काम किया है। ...
Add a comment...

Post has attachment
देवताओं को चुनौती देने वाले नायक की कहानी -‘विश्वामित्र’
विश्वामित्र के संघर्ष, साहस, आचरण तथा व्यावहारिक बदलाव का वर्णन रोचक भाषा-शैली में किया है. क्षत्रियकुल में उत्पन्न राजा से ऋषि और ऋषि से ब्रह्मऋषि की पदवी पाने वाले महामानव विश्वामित्र के पौराणिक जीवन चरित्र को आधुनिक परिप्रेक्ष्य में रोचक एवं सारगर्भित ले...
Add a comment...

Post has attachment
विजय तेंडुलकर के नाटक : वे मुद्दे जिनका हमसे सरोकार है
तेंडुलकर को पढ़ना बहुत शानदार अनुभव है. पात्र हर किसी के जाने-पहचाने-समझे पात्र हैं. विजय तेंडुलकर ने करीब तीस नाटकों तथा दो दर्जन एकांकियों की रचना की है, जिनमें से अनेक आधुनिक भारतीय रंगमंच की क्लासिक कृतियों के रूप में शुमार होते हैं। वाणी प्रकाशन ने उनके...
Add a comment...

Post has attachment
‘हिट रिफ्रेश’: विचार, संवेदना और तकनीक के भविष्य की बात
माइक्रोसॉफ्ट के मर्म की तलाश में एक यात्रा, सबके लिए बेहतर भविष्य की कल्पना करते हुए. माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला की पुस्तक ‘हिट रिफ्रेश’ तकनीक से होने वाले हमारे जीवन में बदलाव पर आधारित है। F-5 बटन से रिफ्रेश किया जा सकता है। यह पुस्तक बताती है कि माइ...
Add a comment...

Post has attachment
'छू लो आसमान' : प्रेरणादायक कहानियाँ जो ज़िन्दगी बदल देंगी
महिलाएं बढ़ रही हैं,आसमान की ओर चल पड़ी हैं. रोक सको तो रोक लो! प्रेरणाएँ कहीं से भी आ सकती हैं और किसी भी जगह से। उसके लिए जगह, वजह की भी जरुरत नहीं होती। अकसर प्रेरणाएँ ज़िन्दगी को निखारने का काम करती हैं। ज़िन्दगी को ज़िन्दादिली से जीने को उत्साहित करने का का...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded