Profile cover photo
Profile photo
Sujit Kumar Lucky
2,427 followers -
सुजीत भारद्वाज - Web Analyst, Blogger, SEM/SEO/SMO Professional , Writer, Poet
सुजीत भारद्वाज - Web Analyst, Blogger, SEM/SEO/SMO Professional , Writer, Poet

2,427 followers
About
Posts

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
लोकतंत्र के जंगल मे शेर की खाल पहन भेड़ियों का शासन है... यहाँ हर तरफ अराजकता ही अराजकता है मजदूर, छात्र, किसान, नौकरीपेशा, उद्यमी सब 70 साल से मूर्खों की मंडली की ओर आस टिकाये कब तक इस राजनैतिक दासता में रहेंगें, सड़क के गड्ढे से ले बैंक का ब्याज, आपके बच्चे के पेपर से लेके नौकरी के कागज़ तक, प्याज से लेके जहाज तक सब जगह एक सड़ान्ध है ....सिस्टम सिस्टम अब यहीं सिस्टम खोखली हँसी से दांत निपोरती बदसूरत सी नजर आती ।

ये क्रांति का झंडा बस अवसरवादी है जो अपने अपने सियार को रंगीन बनाने में कभी नीला पीला लाल हो ढीली मुट्ठी से गला फाड़ नारे निकाल सकती ।

बदलाव की शुरुवात खुद से, मन से, कर्म से नहीं तो ये पागल दुनिया ये जंगल ये रंगे हुए सियार सब लूट लेगें कुछ नहीं बचेगा ।

#SK
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
नया साल जैसे आपको ये महसूस होता की चलो एक पुराना लम्हा था खत्म हुआ ; अब एक नई उम्मीद है पुराने साल की कुछ अनचाही चीजें लगती इस साल ठीक हो जाएगी ! एक पूरा नया सजा सजाया बिना परेशानियों का सब कुछ बदल देने वाला एक नया वर्ष जैसे सामने हो और मन में दस्तक उठ रहा जो बीता उसको भूलो और आगे बढ़ो बदलो जो नहीं बदल सका ; जो ठीक नहीं हुआ उसे ठीक करो ! जो अधूरा रहा उसे पूरा करो एक पूरा वर्ष जीवन का उपहार है सामने !

आने वाले सौगातों को
बीते दिन की बातों को
तेरे कदमों को चलना होगा !

जर जो अब तक नहीं हिले
इस वर्ष भी उनमें लगना होगा
झंझावातों से कब कौन रुका
हर मौसम यूँ ही निकलना होगा !

दुर्गम पथ है ज्ञात है सबको
कदम सख्त कर बढ़ना होगा
कुछ थे जो तुझसे असहमत हुए
उन्हें फिर से तो समझाना होगा !

जो न समझे मेरी नज्मों को
फिर नए शब्दों को गढ़ना होगा
जिन रिश्तों पर कुछ ढील हुई
हाथ मजबूती से पकड़ना होगा !

नया वर्ष है नया सवेरा
कुछ तो साथी करना होगा ।

नव वर्ष की शुभकामनायें – सुजीत 🙂

Add a comment...

Post has attachment
Dushyant Kumar in Unki Nazar Unka Shahar https://youtu.be/Ct_D2S4srB0
कौन होगा जिसने दुष्यंत कुमार को नहीं पढ़ा .. राज्यसभा टीवी की बेहतरीन प्रस्तुति !

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए

श्रद्धांजलि ( 30 December 1975)
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded