Profile cover photo
Profile photo
Lalit Paandit Ji
1 follower -
www.lalitpaanditji.com
www.lalitpaanditji.com

1 follower
About
Posts

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
Mata Vaishno Devi Pindi Darbar

First time in India, Now Worship Mata Rani Pindi at your home. Beautiful, Handmade, natural pindi roopi darbar

http://lalitpaanditji.com/shop/pindi-roopi-vaishno-darbar/
Pindi Roopi Vaishno Darbar
Pindi Roopi Vaishno Darbar
lalitpaanditji.com
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
Handmade Nazar Locket. Made purely from herbs, extremely powerful. http://lalitpaanditji.com/shop/handmade-nazar-locket/
Handmade Nazar Locket
Handmade Nazar Locket
lalitpaanditji.com
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
त्रिपुर सुंदरी भगवती का यह पाठ जो भी सच्ची श्रद्धा और विश्बास से करता है भगवत ऊपर प्रसन्न होती है। और तीनों पुरों को मोहित कर देती है ।जो भी उच्च पद प्राप्त करना हो या प्रतिष्ठित लोगो में प्रतिष्ठा चाहिए तो निष्काम भाव से यह त्रिपुर सुंदरी ललिता देवी का पाठ करे ।।।

।।अथ त्रिपुर सुंदरी स्तोत्रं।।

कदम्ब वन चारिणी मुनि कदम्ब कदम्ब कादम्बिनी,
नितम्ब जित भूधरा सुर नितम्बिनी सेवितां |
नवाम्बू रूह्लोचना ममि नवाम्बुदः श्यामला,
त्रिलोचन कुटुम्बिनी त्रिपुर सुंदरी माश्रये |1|

कदम्ब वन वासिनी कनक बल्लकी धारिणी,
महा मणि हारिणी मुखसमुल्ल शद्वारूणी|
दया विभव कारिणी विशद लोचनी चारिणी,
त्रिलोचन कुटुम्बिनी त्रिपुर सुंदरी माश्रये |2|

कदम्ब वन शालया कुच भशेल्ल सन्मालया,
कुचोपमित शैलया गुरुकृपाल्लश द्वेलया |
भदारुण कपोलया मधुर गीत वाचालया ,
कयापि घन नीलया कवचिता वय लीलया |3|

कदम्ब वन मध्यगा कनक मण्डलो पस्यितां,
खड़म्बु रूह वासिनी सतत शिद्ध सौदामिनिम |
विडम्तित जपारुचिं विक चन्यंद्र चूड़ामिणी,
त्रिलोचन कुटुम्बिनी त्रिपुर सुंदरी माश्रये |4|

कुचांचित विपंचिका कुटिल कुन्तला लंकृतां,
कुशेशय निवाशिनी कुटिलचित्त विद्वेशिणी |
मदरूण विलोचनां मनसिजारी सम्मोहिनिमा,
मतंग मुनिकन्यकां मधुर भाषिणी माश्रये |5|

स्मरेत्प्रथम पुष्पिणी रुधिर विन्दुनीलाम्बरा,
गृहीत माधुपत्रिका मधु विधुर्ण नेत्रान्चालां |
घनस्तन भरोन्नता पलित चुलिकां श्यामला,
त्रिलोचन कुटुम्बिनी त्रिपुर सुंदरी माश्रये |6|

सुकुंकुम विलेपनां मालक चुम्बि कस्तूरिकां,
समंद हसितेक्षणां सशरचाप पाशांकुशां |
असेष जनमोहिनी मरूण माल्य भुषाम्बरा,
जपाकुशुम भाशुरां जपविधौ स्मराम्यम्बिकाम |7|

पुरंदर पुरान्ध्रिका चिकुरबंध सौरंध्रिका,
पितामह पतिव्रतां पटुपटीर चचरितां |
मुकुंद रमणी मणि भश्दलंक्रिया कारिणी,
भजामि भुवनम्बिकां सुखधुटिका चोटिकाम |8|

इति श्रीमत परमहंश पारीब्राजकाचार्य श्री मत् शंकराचार्य विरचितं त्रिपुर सुंदरी स्तोत्रं सम्पूर्णं ||
Photo
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded