Profile cover photo
Profile photo
4to40 - Kids Website For Parents
117 followers -
Idea of 4to40 was born out of the recognition that education itself is not enough.
Idea of 4to40 was born out of the recognition that education itself is not enough.

117 followers
About
Posts

Post has attachment
Rao Tula Ram Biography For Students - Born: 9 December 1825, Rewari, Haryana, India Died: 23 September 1863, Kabul, Afghanistan Reign: 1838 -1857 Mother: Rani Gyan Kaur Father: Rao Puran Singh Most people familiar with India’s capital, Delhi, will likely have used the nation’s main international airport, Indira Gandhi International. En route from the airport to the centre of Delhi is a long and famous road... https://goo.gl/ftP5hy
Add a comment...

Post has attachment
Ayushman Bharat Yojana: Pradhan Mantri Jan Aarogya Yojana - Ayushman Bharat is National Health Protection Scheme, which will cover over 10 crore poor and vulnerable families (approximately 50 crore beneficiaries) providing coverage upto 5 lakh rupees per family per year for secondary and tertiary care hospitalization. Ayushman Bharat – National Health Protection Mission will subsume the on-going centrally sponsored schemes – Rashtriya Swasthya Bima Yojana (RSBY) and the Senior … https://goo.gl/33kxxd
Add a comment...

Post has attachment
मेरा रंग दे बसंती चोला: प्रेम धवन का देश-भक्ति गीत - ‘रंग दे बसंती चोला’ अत्यंत लोकप्रिय देश-भक्ति गीत है। यह गीत किसने रचा? इसके बारे में बहुत से लोगों की जिज्ञासा है और वे समय-समय पर यह प्रश्न पूछते रहते हैं। ‘यह गीत किसने लिखा?’ इसका उत्तर जानने के लिए हमें इसका इतिहास खंगालना होगा। इस गीत के दो संस्करण है। जिस गीत से अधिकतर लोग परिचित हैं वह गीत 1965 की … https://goo.gl/AM9aTA
Add a comment...

Post has attachment
भगत सिंह के अनमोल वचन विद्यार्थियों के लिए - अमर शहीद सरदार भगत सिंह (जन्म: 28 सितंबर, 1907, लायलपुर, पंजाब – मृत्यु: 23 मार्च, 1931, लाहौर, पंजाब) का नाम विश्व में 20वीं शताब्दी के अमर शहीदों में बहुत ऊँचा है। भगत सिंह ने देश की आज़ादी के लिए जिस साहस के साथ शक्तिशाली ब्रिटिश सरकार का मुक़ाबला किया, वह आज के युवकों के लिए एक बहुत बड़ा आदर्श है। https://goo.gl/K6pykc
Add a comment...

Post has attachment
Bhagat Singh Biography For Students & Children - Born: September 28, 1907, Punjab, India 1930: Threw bombs in Central Assembly Hall, protesting on imposing severe measures like the Trades Disputes Bill by the Britishers. 1930: Went on hunger strike to protest the inhuman treatment of fellow-political prisoners by jail authorities. 1930: Sukh Dev and Raj Guru, he was awarded the death sentence. Cremated on the bank of the … https://goo.gl/P7UGQT
Add a comment...

Post has attachment
Man Mocked For Shaving On Train Gets Money, Job Offers & Dignity Back - Within several days, Anthony Torres went from being a homeless man who was a laughingstock to having more than $37,000 in donations and the roaring support of the Internet. Anthony Torres, the man who was mocked across the Internet for lathering up and shaving on a New Jersey train, says he has gotten several offers for job interviews – including, … https://goo.gl/86joj3
Add a comment...

Post has attachment
Adorable Police Puppies: Real Stars Of Chile’s Military Parade - Police puppies stole the show at Chile’s annual military parade Adorable golden retriever puppies – who will grow up to serve as police dogs – stole the show at Chile’s annual military parade on Wednesday. The puppies took part in the military parade to celebrate Chile’s 208th Independence Day, reports Evening Standard. Adorable pictures and videos that have now gone … https://goo.gl/bYS1Yt
Add a comment...

Post has attachment
सआदत हसन मंटो की विवादास्पद कहानी: खोल दो - अमृतसर से स्पेशल ट्रेन दोपहर दो बजे चली और आठ घंटों के बाद मुगलपुरा पहुंची। रास्ते में कई आदमी मारे गए। अनेक जख्मी हुए और कुछ इधर-उधर भटक गए। सुबह दस बजे कैंप की ठंडी जमीन पर जब सिराजुद्दीन ने आंखें खोलीं और अपने चारों तरफ मर्दों, औरतों और बच्चों का एक उमड़ता समुद्र देखा तो उसकी सोचने-समझने की शक्तियां … https://goo.gl/UGBsVj
Add a comment...

Post has attachment
सआदत हसन मंटो की लोकप्रिय कहानी हिंदी में: लाइसेंस - अब्बू कोचवान बड़ा छैल-छबीला था। उसका तांगा-घोड़ा भी शहर में नंबर वन था। वह कभी मामूली सवारी नहीं बिठाता था। उसके लगे-बंधे गाहक थे, जिनसे उसको रोजाना 10-15 रुपए वसूल हो जाते थे, जो उसके लिए काफ़ी थे। दूसरे कोचवानों की तरह उसे नशा-पानी की आदत नहीं थी, लेकिन साफ़-सुथरे कपड़े पहनने और हर वक़्त बांका बने रहने का उसे … https://goo.gl/yQEw7q
Add a comment...

Post has attachment
हिंदूवादी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वीर रस कविता

गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त नरेन्द्र मोदी विकास पुरुष के नाम से जाने जाते हैं और वर्तमान समय में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से हैं। माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) पर भी वे सबसे ज्यादा फॉलोअर वाले भारतीय नेता हैं। उन्हें ‘नमो’ नाम से भी जाना जाता है। TIME पत्रिका ने मोदी को पर्सन ऑफ़ द ईयर 2013 के 42 उम्मीदवारों की सूची में शामिल किया है।

मोदी की चिंता मत करो, अपनी और अपनी आने वाली पिढीयौ की चिंता करो, ये आखिरी मौका है, फिर कोई “नरेन्द्र मोदी जेसा हिंदुवादी शासक” नहीं मिलेगा।

http://www.4to40.com/poems-for-kids/poems-in-hindi/narendra-modi/

मन की हल्दीघाटी में,
राणा के भाले डोले हैं,
यूँ लगता है चीख चीख कर,
वीर शिवाजी बोले हैं,

पुरखों का बलिदान, घास की,
रोटी भी शर्मिंदा है,

कटी जंग में सांगा की,
बोटी बोटी शर्मिंदा है,

खुद अपनी पहचान मिटा दी,
कायर भूखे पेटों ने,

टोपी जालीदार पहन ली,
हिंदुओं के बेटों ने,

सिर पर लानत वाली छत से,
खुला ठिकाना अच्छा था,

टोपी गोल पहनने से तो,
फिर मर जाना अच्छा था,

मथुरा अवधपुरी घायल है,
काशी घिरी कराहों से,

यदुकुल गठबंधन कर बैठा,
कातिल नादिरशाहों से,

कुछ वोटों की खातिर लज्जा,
आई नही निठल्लों को,

कड़ा-कलावा और जनेऊ,
बेंच दिया कठमुल्लों को,

मुख से आह तलक न निकली,
धर्म ध्वजा के फटने पर,

कब तुमने आंसू छलकाए,
गौ माता के कटने पर,

लगता है पूरी आज़म की,
मन्नत होने वाली है,

हर हिन्दू की इस भारत में,
सुन्नत होने वाली है,

जागे नही अगर हम तो ये,
प्रश्न पीढियां पूछेंगी,

गन पकडे बेटे, बुर्के से,
लदी बेटियाँ पूछेंगी,

बोलेंगी हे आर्यपुत्र,
अंतिम उद्धार किया होता,

खतना करवाने से पहले
हमको मार दिया होता

सोते रहो सनातन वालों,
तुम सत्ता की गोदी में,

देखते रहो बस तुम,
गलतियाँ अपने मोदी में,

पर साँस आखिरी तक भगवा की,
रक्षा हेतु लडूंगा मैं,

शीश कलम करवा लूँगा पर,
कलमा नही पढूंगा मैं।

~ Anonymous
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded