Profile cover photo
Profile photo
Arya Samaj
56 followers -
आर्य समाज अमर रहे
आर्य समाज अमर रहे

56 followers
About
Posts

Post has attachment
यदि एक पल को मान भी लिया जाये कि साध्वी दोषी थी तो क्या उनके साथ जांच के दौरान हुई इस निर्ममता की पार हुई हदों को भारतीय संविधान इज़ाजत देता है? यदि नहीं तो एक महिला और साध्वी के साथ यह पाप क्यों किया गया।
Add a comment...

Post has attachment
हाँ यदि बात धर्म की ही हो रही है तो मुझे याद है बुलंदशहर में 35 वर्षीय हिन्दू महिला व उसकी नाबालिग बेटी के साथ हुए रेप के मुख्य आरोपी सलीम बावरिया, जुबैर और साजिद के नाम सामने आये थे।
Add a comment...

Post has attachment
आर्य कुमारो! अब तो जागो, आगे कदम बढ़ाओ तुम।

कहने का अब समय नहीं है, करके काम दिखाओ तुम
Add a comment...

Post has attachment
ऋषि दयानन्द वेदों व वैदिक साहित्य के मर्मज्ञ विद्वान थे। वह सच्चे योगी थे जिन्होंने ईश्वर का साक्षात्कार किया हुआ था।
Add a comment...

Post has attachment
ईश्वर अनादि व स्वयंभू सत्ता है। जो पदार्थ अनादि होता है वह अविनाशी व अमर भी अवश्य होता है। जिस पदार्थ का आदि होता वह अन्त अर्थात् नाशवान होता है।
Add a comment...

Post has attachment
मनुष्य जीवन श्रेष्ठ है जो हमें श्रेष्ठ कर्मों से मिला है। हमें इस जन्म में भी श्रेष्ठ कर्म करके जन्म व मरण से मुक्ति प्राप्त करने का प्रयत्न करना चाहिये। यदि जन्म मरण के दुःखों से मुक्ति न भी मिले तो कम से कम श्रेष्ठ मनुष्य जीवन तो मिलना ही चाहिये।
Add a comment...

Post has attachment
स्वामी दयानन्द ने अपने गुरू के स्वप्नों को साकार करने के लिए अपने जीवन का एक एक क्षण व्यतीत किया और देश को सन्मार्ग पर आगे बढ़ाया जिस पर चलकर देश का अनन्त उपकार हुआ।
Add a comment...

Post has attachment
समाज में पहले वर्ण व्यवस्था थी, जिसमें मनुष्य की पहचान उसके कर्म स्वभाव के आधार पर थी, उचित थी। मनुष्य को अपनी योग्यता के अनुसार ब्राहमण, क्षत्रिय, वैश्य या शूद्र स्थान प्राप्त होता था।
Add a comment...

Post has attachment
इतिहास इसका गवाह है कि आर्य समाज मूर्ति पूजा के पक्ष में नहीं रहा लेकिन मूर्तियों को इस तरह से नुकसान पहुंचाना बहुत ही गंभीर बात है क्योंकि ये सिर्फ चुनाव की राजनीति नहीं है, यह समाज और सभ्यता के नाम पर एक जंग की तैयारी हो रही है।
Add a comment...

Post has attachment
इसी कारण ही एक बार फिर कलमकारों ने असली सवाल दबा दिए। क्योंकि जो चेहरे और तस्वीरें सामने आईं हैं जो संशय पैदा करती हैं
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded