Profile

Cover photo
Chanakya sharma
Lived in Sara Jaha Hai Hamara
716 followers|447,033 views
AboutPostsPhotosYouTube+1's

Stream

 
 
I want reply from Indian Govt. ???
View original post
1
Add a comment...

Chanakya sharma

विचार-विमर्श  - 
 
 
I want reply from Indian Govt. ???
View original post
4
Harmohinder Singh Deol's profile photo
 
Friend,you are right.
Add a comment...

Chanakya sharma

धर्म  - 
 
 
भारतीय त्यौहार औऱ उनका वैज्ञानिक रहस्य 


होली -  होली का नाम लेते ही रंग रंगीला उत्सव आपके मन में आता है।  पर क्या मालुम है कि 
इस त्यौहार को मनाने के पीछे हमारे सनातन ऋषि -मुनियो का क्या विज्ञान था , वह समयाभाव और अज्ञानता की वजह से लुप्त हो गया


जैसा क़ि आप जानते हैं कि हमारे देश में चार ऋतुएँ होती है , शरद ऋतु के अंत और ग्रीष्म ऋतू के 
आरम्भ में फागुण  महीने में यह त्यौहार मनाया जाता है।  जो स्वरूप आज इस त्यौहार का है वह 
प्राचीन काल नहीं था , और न ही रासायनिक रंगो का प्रयोग होता था। 


सभी पड़े लिखे लोग जानते हैं कि यदि शरीर से उत्सर्जन पदार्थ नहीं निकालेंगे तब वह शरीर में 
हानिकारक तत्व को पैदा कर देते हैं , और जब वह बाहर निकलते हैं तब बहुत कष्ट होता है। 
शरद ऋतुओ में हमारी त्वचा से पसीना जो एक उत्सर्जन पदार्थ है रुक जाता है जिससे त्वचा के 
रन्द्र यानि छेद रुक जाते है और जब बाहर के वातावरण का तापमान बढ़ जाता है तब त्वचा में 
छोटे छोटे दाने दाने निकलने लगते है , जो बहुत कष्टकारी होते हैं , बच्चो में अक्सर चैत्र मॉस में 
चेचक और खसरा भी इसी का परिणाम है। 


इसी कष्टकारी पीड़ा को दूर करने के लिए हमारे ऋषियों ने होली नामक उत्सव को मनाने की 
परम्परा का प्रारम्भ किया था ,


इसमें पूर्णिमा को चांदनी रात में आग जलाकर हवन करके वातावरण को इतना गर्म कर दिया जाता है कि शरीर से पसीना निकलने लगे और शरीर के रन्द्र खुल जाए , फिर क़िसी 
भीगे कपडे से शरीर को साफ कर लिया जाता है। 


अगले दिन टेसू /पलाश के फूल जो पहले दिन पानी में भिगो दिए जाते है उनको पिचकारी 
की सहायता से एक दुसरे पर डालकर होली मनाते है जिसमे कपडे फूलो के रंग से काफी टाइम तक भीगे रहने की वजह से पसीना जो अम्लीय होता है और टेसू जो क्षारीय होता है ,
त्वचा को उदासीनीकरण कर देते हैं।  आपने देखा होगा कि घमौरियों के लिए भी केल्शियम 
कार्बोनेट पाउडर लगाकर उदासीनीकरण करके (जो कि ठोस रूप में होता है ) त्वचा को 
और नुक्सान पहुचाते है रंद्र को रोक देते हैं , जबकि तरल रूप में होली खेलकर हम पूरे साल में एक बार अपने शरीर की शुद्धि ही नहीं पूरे समाज को स्वस्थ रखते है , पर ध्यान रहे रासायनिक रंगो से नहीं। 


देर से ही सही पर अपने ऋषियों की परम्परा को सनातन वैज्ञानिकता से जीवित रखिये 
और सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय का सन्देश का दुनिया को दीजिये !!
 ·  Translate
4 comments on original post
13
1
Ashik Alom's profile photoAshok Bishnoi's profile photoChanakya sharma's profile photoprem pun's profile photo
4 comments
Add a comment...

Chanakya sharma

Festivals, Culture & Religion  - 
 
 
भारतीय त्यौहार औऱ उनका वैज्ञानिक रहस्य 


होली -  होली का नाम लेते ही रंग रंगीला उत्सव आपके मन में आता है।  पर क्या मालुम है कि 
इस त्यौहार को मनाने के पीछे हमारे सनातन ऋषि -मुनियो का क्या विज्ञान था , वह समयाभाव और अज्ञानता की वजह से लुप्त हो गया


जैसा क़ि आप जानते हैं कि हमारे देश में चार ऋतुएँ होती है , शरद ऋतु के अंत और ग्रीष्म ऋतू के 
आरम्भ में फागुण  महीने में यह त्यौहार मनाया जाता है।  जो स्वरूप आज इस त्यौहार का है वह 
प्राचीन काल नहीं था , और न ही रासायनिक रंगो का प्रयोग होता था। 


सभी पड़े लिखे लोग जानते हैं कि यदि शरीर से उत्सर्जन पदार्थ नहीं निकालेंगे तब वह शरीर में 
हानिकारक तत्व को पैदा कर देते हैं , और जब वह बाहर निकलते हैं तब बहुत कष्ट होता है। 
शरद ऋतुओ में हमारी त्वचा से पसीना जो एक उत्सर्जन पदार्थ है रुक जाता है जिससे त्वचा के 
रन्द्र यानि छेद रुक जाते है और जब बाहर के वातावरण का तापमान बढ़ जाता है तब त्वचा में 
छोटे छोटे दाने दाने निकलने लगते है , जो बहुत कष्टकारी होते हैं , बच्चो में अक्सर चैत्र मॉस में 
चेचक और खसरा भी इसी का परिणाम है। 


इसी कष्टकारी पीड़ा को दूर करने के लिए हमारे ऋषियों ने होली नामक उत्सव को मनाने की 
परम्परा का प्रारम्भ किया था ,


इसमें पूर्णिमा को चांदनी रात में आग जलाकर हवन करके वातावरण को इतना गर्म कर दिया जाता है कि शरीर से पसीना निकलने लगे और शरीर के रन्द्र खुल जाए , फिर क़िसी 
भीगे कपडे से शरीर को साफ कर लिया जाता है। 


अगले दिन टेसू /पलाश के फूल जो पहले दिन पानी में भिगो दिए जाते है उनको पिचकारी 
की सहायता से एक दुसरे पर डालकर होली मनाते है जिसमे कपडे फूलो के रंग से काफी टाइम तक भीगे रहने की वजह से पसीना जो अम्लीय होता है और टेसू जो क्षारीय होता है ,
त्वचा को उदासीनीकरण कर देते हैं।  आपने देखा होगा कि घमौरियों के लिए भी केल्शियम 
कार्बोनेट पाउडर लगाकर उदासीनीकरण करके (जो कि ठोस रूप में होता है ) त्वचा को 
और नुक्सान पहुचाते है रंद्र को रोक देते हैं , जबकि तरल रूप में होली खेलकर हम पूरे साल में एक बार अपने शरीर की शुद्धि ही नहीं पूरे समाज को स्वस्थ रखते है , पर ध्यान रहे रासायनिक रंगो से नहीं। 


देर से ही सही पर अपने ऋषियों की परम्परा को सनातन वैज्ञानिकता से जीवित रखिये 
और सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय का सन्देश का दुनिया को दीजिये !!
 ·  Translate
4 comments on original post
12
1
Pooja Balotiya's profile photoTK Mathur's profile photoOm Prakash Verma's profile photoChanakya sharma's profile photo
4 comments
 
Good morning
Add a comment...

Chanakya sharma

Discussion  - 
 
 
Come Join Us in Nation Building ...
You are aware that LPG is a highly subsidized commodity in India and the subsidy amount was a whopping Rs. 40,000 crores during 2013-14.
Any subsidy provided translates to money out of the exchequer. The same money if not given out as subsidy could be used for development purposes benefitting the nation.
We call upon all LPG consumers who can afford to pay the market price for their LPG supply to be a part of this nation building exercise by giving up LPG subsidy.
We value your involvement and would like to have your permission to put your name in the ‘Scroll of Honour’ for opting out of Subsidy
1 comment on original post
1
Add a comment...

Chanakya sharma

News & Politics  - 
 
Pahle 4 wheelars waale subsidy chode aur Juta Maare in Kangaalo ke siR par .....Fir media yah kaam kare sare aam pooche ki kya vah sabsidy lete hain ...Maza aayega ...
1
Add a comment...
Have him in circles
716 people
Dinkar Bind's profile photo
LUIS TOVAR's profile photo
Sk Shukla's profile photo
Rahul Karaiya's profile photo
Young in's profile photo
RAM KUMAR Sharma's profile photo
abhimanyu biswal's profile photo
Amit Sinha's profile photo
Ashok kumar SHAW Kumar's profile photo

Chanakya sharma

News & Politics  - 
 
 
I want reply from Indian Govt. ???
View original post
6
1
ishaan sharma's profile photo
Add a comment...

Chanakya sharma

Shared publicly  - 
 
I want reply from Indian Govt. ???
3
2
Chanakya sharma's profile photoishaan sharma's profile photo
Add a comment...

Chanakya sharma

Religion , Festivals &Culture  - 
 
 
भारतीय त्यौहार औऱ उनका वैज्ञानिक रहस्य 


होली -  होली का नाम लेते ही रंग रंगीला उत्सव आपके मन में आता है।  पर क्या मालुम है कि 
इस त्यौहार को मनाने के पीछे हमारे सनातन ऋषि -मुनियो का क्या विज्ञान था , वह समयाभाव और अज्ञानता की वजह से लुप्त हो गया


जैसा क़ि आप जानते हैं कि हमारे देश में चार ऋतुएँ होती है , शरद ऋतु के अंत और ग्रीष्म ऋतू के 
आरम्भ में फागुण  महीने में यह त्यौहार मनाया जाता है।  जो स्वरूप आज इस त्यौहार का है वह 
प्राचीन काल नहीं था , और न ही रासायनिक रंगो का प्रयोग होता था। 


सभी पड़े लिखे लोग जानते हैं कि यदि शरीर से उत्सर्जन पदार्थ नहीं निकालेंगे तब वह शरीर में 
हानिकारक तत्व को पैदा कर देते हैं , और जब वह बाहर निकलते हैं तब बहुत कष्ट होता है। 
शरद ऋतुओ में हमारी त्वचा से पसीना जो एक उत्सर्जन पदार्थ है रुक जाता है जिससे त्वचा के 
रन्द्र यानि छेद रुक जाते है और जब बाहर के वातावरण का तापमान बढ़ जाता है तब त्वचा में 
छोटे छोटे दाने दाने निकलने लगते है , जो बहुत कष्टकारी होते हैं , बच्चो में अक्सर चैत्र मॉस में 
चेचक और खसरा भी इसी का परिणाम है। 


इसी कष्टकारी पीड़ा को दूर करने के लिए हमारे ऋषियों ने होली नामक उत्सव को मनाने की 
परम्परा का प्रारम्भ किया था ,


इसमें पूर्णिमा को चांदनी रात में आग जलाकर हवन करके वातावरण को इतना गर्म कर दिया जाता है कि शरीर से पसीना निकलने लगे और शरीर के रन्द्र खुल जाए , फिर क़िसी 
भीगे कपडे से शरीर को साफ कर लिया जाता है। 


अगले दिन टेसू /पलाश के फूल जो पहले दिन पानी में भिगो दिए जाते है उनको पिचकारी 
की सहायता से एक दुसरे पर डालकर होली मनाते है जिसमे कपडे फूलो के रंग से काफी टाइम तक भीगे रहने की वजह से पसीना जो अम्लीय होता है और टेसू जो क्षारीय होता है ,
त्वचा को उदासीनीकरण कर देते हैं।  आपने देखा होगा कि घमौरियों के लिए भी केल्शियम 
कार्बोनेट पाउडर लगाकर उदासीनीकरण करके (जो कि ठोस रूप में होता है ) त्वचा को 
और नुक्सान पहुचाते है रंद्र को रोक देते हैं , जबकि तरल रूप में होली खेलकर हम पूरे साल में एक बार अपने शरीर की शुद्धि ही नहीं पूरे समाज को स्वस्थ रखते है , पर ध्यान रहे रासायनिक रंगो से नहीं। 


देर से ही सही पर अपने ऋषियों की परम्परा को सनातन वैज्ञानिकता से जीवित रखिये 
और सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय का सन्देश का दुनिया को दीजिये !!
 ·  Translate
4 comments on original post
1
Add a comment...

Chanakya sharma

Shared publicly  - 
 
भारतीय त्यौहार औऱ उनका वैज्ञानिक रहस्य 


होली -  होली का नाम लेते ही रंग रंगीला उत्सव आपके मन में आता है।  पर क्या मालुम है कि 
इस त्यौहार को मनाने के पीछे हमारे सनातन ऋषि -मुनियो का क्या विज्ञान था , वह समयाभाव और अज्ञानता की वजह से लुप्त हो गया


जैसा क़ि आप जानते हैं कि हमारे देश में चार ऋतुएँ होती है , शरद ऋतु के अंत और ग्रीष्म ऋतू के 
आरम्भ में फागुण  महीने में यह त्यौहार मनाया जाता है।  जो स्वरूप आज इस त्यौहार का है वह 
प्राचीन काल नहीं था , और न ही रासायनिक रंगो का प्रयोग होता था। 


सभी पड़े लिखे लोग जानते हैं कि यदि शरीर से उत्सर्जन पदार्थ नहीं निकालेंगे तब वह शरीर में 
हानिकारक तत्व को पैदा कर देते हैं , और जब वह बाहर निकलते हैं तब बहुत कष्ट होता है। 
शरद ऋतुओ में हमारी त्वचा से पसीना जो एक उत्सर्जन पदार्थ है रुक जाता है जिससे त्वचा के 
रन्द्र यानि छेद रुक जाते है और जब बाहर के वातावरण का तापमान बढ़ जाता है तब त्वचा में 
छोटे छोटे दाने दाने निकलने लगते है , जो बहुत कष्टकारी होते हैं , बच्चो में अक्सर चैत्र मॉस में 
चेचक और खसरा भी इसी का परिणाम है। 


इसी कष्टकारी पीड़ा को दूर करने के लिए हमारे ऋषियों ने होली नामक उत्सव को मनाने की 
परम्परा का प्रारम्भ किया था ,


इसमें पूर्णिमा को चांदनी रात में आग जलाकर हवन करके वातावरण को इतना गर्म कर दिया जाता है कि शरीर से पसीना निकलने लगे और शरीर के रन्द्र खुल जाए , फिर क़िसी 
भीगे कपडे से शरीर को साफ कर लिया जाता है। 


अगले दिन टेसू /पलाश के फूल जो पहले दिन पानी में भिगो दिए जाते है उनको पिचकारी 
की सहायता से एक दुसरे पर डालकर होली मनाते है जिसमे कपडे फूलो के रंग से काफी टाइम तक भीगे रहने की वजह से पसीना जो अम्लीय होता है और टेसू जो क्षारीय होता है ,
त्वचा को उदासीनीकरण कर देते हैं।  आपने देखा होगा कि घमौरियों के लिए भी केल्शियम 
कार्बोनेट पाउडर लगाकर उदासीनीकरण करके (जो कि ठोस रूप में होता है ) त्वचा को 
और नुक्सान पहुचाते है रंद्र को रोक देते हैं , जबकि तरल रूप में होली खेलकर हम पूरे साल में एक बार अपने शरीर की शुद्धि ही नहीं पूरे समाज को स्वस्थ रखते है , पर ध्यान रहे रासायनिक रंगो से नहीं। 


देर से ही सही पर अपने ऋषियों की परम्परा को सनातन वैज्ञानिकता से जीवित रखिये 
और सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय का सन्देश का दुनिया को दीजिये !!
 ·  Translate
28
15
Arvind Singh's profile photovinod kumar's profile photopraful patel's profile photoRajesh Kumar Barange's profile photo
4 comments
 
This is save skin festival not the destroy festival .
Add a comment...

Chanakya sharma

मेरे विचार  - 
 
Come Join Us in Nation Building ...
You are aware that LPG is a highly subsidized commodity in India and the subsidy amount was a whopping Rs. 40,000 crores during 2013-14.
Any subsidy provided translates to money out of the exchequer. The same money if not given out as subsidy could be used for development purposes benefitting the nation.
We call upon all LPG consumers who can afford to pay the market price for their LPG supply to be a part of this nation building exercise by giving up LPG subsidy.
We value your involvement and would like to have your permission to put your name in the ‘Scroll of Honour’ for opting out of Subsidy
7
1
Chanakya sharma's profile photo
 
http://dcmstransparency.hpcl.co.in/myHPGas/HPGas/ScrollOfHonour.aspx
On this link you can go and taken part to build your country .
Add a comment...

Chanakya sharma

विचार-विमर्श  - 
 
Do you donate one day fuel cost to your country ?  Don't eat subsidy otherwise every subsidy record available on on line and poor persons ask you . This is national campaign to stop subsidy , who are not illegible to taken . Then start share in country faith to improve our economy .
8
1
Chanakya sharma's profile photo
 
Pahle 4 wheelars waale subsidy chode aur Juta Maare in Kangaalo ke siR par .....Fir media yah kaam kare sare aam pooche ki kya vah sabsidy lete hain ...Maza aayega ...
Add a comment...
People
Have him in circles
716 people
Dinkar Bind's profile photo
LUIS TOVAR's profile photo
Sk Shukla's profile photo
Rahul Karaiya's profile photo
Young in's profile photo
RAM KUMAR Sharma's profile photo
abhimanyu biswal's profile photo
Amit Sinha's profile photo
Ashok kumar SHAW Kumar's profile photo
Links
Contributor to
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Previously
Sara Jaha Hai Hamara - Kabhi Bulakar Dekho
Basic Information
Gender
Male
Chanakya sharma's +1's are the things they like, agree with, or want to recommend.
सब्सिडी खत्म नहीं करेंगे: नरेंद्र मोदी ने सामने रखा आर्थिक एजेंडा
hindi.moneycontrol.com

नरेंद्र मोदी का कहना है कि अगर भाजपा की सरकार सत्ता में आती है तो वो सब्सिडी खत्म नहीं करेंगें।

मोदी विरोध व समर्थन
chandkhem.blogspot.com

प्रधानमन्‍त्री पद के प्रत्‍याशी के रुप में नरेन्‍द्र मोदी के नाम की घोषणा से देश में एक साथ कई प्रतिक्रियाएं उभरने लगी हैं। शरद यादव भाजपा क

HC issues notices to Centre on PIL against petrol price hike - India - DNA
www.dnaindia.com

The petitioner contended that the raise in petrol prices was

Bigg Boss Season 6 News –India shares its dreams with Bigg Boss, Bigg Bo...
colors.in.com

Bigg Boss Season 6 News -India shares its dreams with Bigg Boss, Bigg Boss Season 6 Reality TV Show News, Latest updates of Bigg Boss 6 at C

आचार्य जी को CBI Court देहरादून में पेश किया गया , स्वामी जी भी हरिद्वार...
www.bharatswabhimansamachar.in

Home · 3 June Live · Banner Poster · To The Point Video · Bharat Swabhiman · News Channels Video · Yoga Camp Video · Contact Us · Other · So

Web Hosting |Web Hosting India | Website Hosting | Linux Hosting
www.bigrock.in

Bigrock.in provides linux web hosting in India for your domain. Our Website hosting offers Cpanel with full support to LAMP stack with 24/7

Trapped Mahi brough out of borewell after 84 hours - Hindustan Times
www.hindustantimes.com

Rescuers today managed to reach Mahi and pulled her out of a 70-feet-deep borewell near Manesar in Haryana. The rescue team rushed the four-

मौत महास्वावलंबी है
baalmajdur.blogspot.com

This Blog is dedicated to all the Child Labor's of India..We are trying to remove the Child Labor System from India and build a healthy Indi

...वरना नहीं मिलेगी माफी!
atulshrivastavaa.blogspot.com

बारह साल। ढाई बार पीएससी परीक्षा! वह भी अधर में! छत्तीसगढ़ में सरकार की नाकामी का यह बड़ा उदाहरण है। साथ ही यह बताने के लिए भी काफी है कि यह

'Kaun Banega Mukhyamantri' from Balia of UP
www.youtube.com

Welcome to YouTube! Suggested Location Filter (we have set your preference to this): India. The location filter shows you popular videos fro

Veena Malik poses for FHM cover page-photos, videos
www.fundoosale.com

For a lady who hasn't ever stripped on camera, Veena Malik was surprisingly at ease at the FHM India cover shoot on Nov 22, 2011. Posin

श्री कृष्ण गीत कौमुदी: कृष्ण जन्म की बधाई
panditshiamsundersharmamalgarhwale.blogspot.com

कृष्ण जन्म की बधाई. जन्मो जसुदा कै घर लाल ब्रिज में घर घर बजत बधाई ! महरि यशोदा ड़ोटा जायो महरी यशोदा के दोता जायो !! हों एक नई बात सुन आई ब