Profile

Cover photo
Dr.Raghunath Misra 'Sahaj'
Worked at Advocate and personality development consultant.
Attended R.N.Tagore higher secondary school,BHIND(M.P.)
Lives in KOTA(RAJASTHAN)
634 followers|134,458 views
AboutPostsPhotosVideos

Stream

1
Dr.Raghunath Misra 'Sahaj''s profile photo
 
साहित्यकारों के लिए ' साहित्य समाचार ' से जुॾिए और साहित्यिक जगत की हलचल अपडेटेड रहिए।अखंड गहमरी को कोटिशः बधाई।
-डा०रघुनाथ मिश्र 'सहज' 
 ·  Translate
Add a comment...

Dr.Raghunath Misra 'Sahaj'

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
यहाँ भारतीय मुद्रा -महिला -प्यार -विश्वास सभी का घोर अपमान देख कर अंदर से आहत महसूस कर रहा हूँ।सोनम-आनन्द दोनों को सोहरत-पैसे-धन-वैभव दोनों चाहिए थे। आनन्द का प्यार सच्चा था,जो सोहरत-धन-प्रसिद्धि के आगे झुका नहीं और हर हाल में वह सोनम के प्यार में कमी नहीं आने दी।प्यार तो प्यार के बदले प्यार भी नहीं चाहता।प्यार में अपेक्षा-माँग-लोभ-लालच विष हैं।प्यार का सच्चा उदाहरण/आदर्श राधा -मीरा और ऐसे अनेक हैं।मित्रता का उदाहरण ,महाभारतीय परिशिष्ट में, अर्जुन एक बेमिसाल है,जिसके लिए स्वयम् क्रिष्ण ने यहाँ तक कह दिया कि, 'यदि मेरा पुनर्जन्म मनुष्य के रूप में हो तो मैं मनुष्य बनूं"। वाकई सोनम का इस तरह , धन-वैभव -पदक-प्रतिषठा के लिए बदल जाना, प्यार का गला घोंटना है।बहुत ही नकारात्मक संदेश देता है और सीख भी कि प्यार में लोभ-लालच-अपेक्षा-माँग को कोई स्थान नहीं।आनन्द अपनी जगह सही होते हुए भी सवाल खड़ा करता है कि भले ही सोनम का प्यार बिका लेकिन उसने जो सोनम पर नोटों की बारिश की, वह धन का अपमान है। हालांकि यह कहानी हर तरह से नकारात्मक संदेश देती है, लेकिन प्रेमियों के लिए सकारात्मक संदेश भी है कि प्यार समर्पण चाहता है-स्वार्थ नहीं।अब देखें दोनों में से दोनों के हाध निराशा ही लगी-अपेक्षाओं के चलते।
मेरी राय में ऐसी नकारात्मक कहानियों को मंजरे आम करना ही गैर समझदारी है।
-डा०रघुनाथ मिश्र 'सहज' 
 ·  Translate
सोनम गुप्ता बेवफा है! सोनम और आनंद बचपन से ही एक साथ खेलते-कूदते बड़े हुए बड़े हुए और साथ ही स्कूल भी गये और फिर कॉलेज तक पढाई पूरी की. इनदोनो की बचपन की दोस्ती कब प्यार में बदल गई किसी को पता ही नहीं चला. पर इनके रिश्ते को...
1
Add a comment...
 
साहित्यमंडल, श्री नाथद्वारा में ५-६ जनवरी १६ को दो दिवसीय साहित्योत्सव
सहित्यमंडल, श्री नाथद्वारा में ५-६ जनवरी२०१६ को संपन्न, दो दिवसीय अखिल भारतीय साहित्योत्सव, जो दो साहित्य मनीषियों -श्री भारतेंदु बाबू हरिश्चंद (५ को) एवं सहित्यमंडल के संस्थापक श्री भगवती प्रसाद देवपुरा (६को) की पुन्यस्मृति को समर्पित था, में दोनों दिन विच...
 ·  Translate
सहित्यमंडल, श्री नाथद्वारा में ५-६ जनवरी२०१६ को संपन्न, दो दिवसीय अखिल भारतीय साहित्योत्सव, जो दो साहित्य मनीषियों -श्री भारतेंदु बाबू हरिश्चंद (५ को) एवं सहित्यमंडल के संस्थापक श्री भगवती प्रसाद देवपुरा (६को) की पुन्यस्मृति ...
2
Add a comment...
 
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' पर केन्द्रित शेशाम्रित के 'सहज' विशेषांक में 'आकुल' की प्रस्तुति
’सहज’ सहज हैं सहज से, कह देते हैं बात। धारा-प्रवाह सहज से, कहने में निष्‍णात। कहने में निष्‍णात, विषय कोई सा भी हो। कहते हैं बेबाक, सदन कोई सा भी हो। कविपुंगव ने काव्‍य, रचे वे ‘सहज’ सहज हैं। मेरे हैं प्रिय दोस्‍त, बिलाशक ‘सहज’ सहज हैं। 2- सागर सा व्‍यक्तित...
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
please visit here to learn meditatio with our global guide of HEARTFULNESS RELEXATION- MEDITATION.THIS IS FOR TODAY-TOMORROW -DAY AFTER ( 2-3-4 JANUARY 16) ..CONVENIENTLY SIT IN THE SAID PROGRAMME FOR 40-45 MINUTES AND LEARN DIRECTLY WITH DAAJI
1
Add a comment...
 
तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो लखनऊ: यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने गुरुवार को सुपर 30 के संचालक आनंद कुमार पर लिखी किताब ‘सुपर 30 आनंद की संघर्ष गाथा’ का विमोचन किया। इस किताब को कनाडा के बीजू मैथ्यू ने लिखी है। इस दौरान सीएम अखिलेश ने सुपर-30 को यूपी में लाने के लिए आनंद कुमार को बधाई दी और कहा …
1
Add a comment...

Dr.Raghunath Misra 'Sahaj'

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
डॉ.साधना प्रधान जी की समीक्षा का स्वागत करते हुए गर्वान्वित महसूस कर रहा हूँ.मुझे इसलिए भी गर्व है की आदरणीय दादा ओम नीरव जी द्वारा सम्पादित, इस अद्भुत शोध ग्रन्थ , ''गीतिकलोक' के सुल्तानपुर में संपन्न लोकार्पण समारोह का मैं साक्षी हूँ. डॉ. साधना प्रधान की विषद-शोधपरक-गंभीर समीक्षा अति सराहनीय और समीक्षकर्मियों के लिए सीख है.
समीक्षक को सादर बधाई.
-डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज '
 ·  Translate
गीतिकालोक- गीतिका विधा एवं गीतिका संकलन ( शिल्प विधान सहित ) लेखक एवं सम्पादक-ओम नीरव प्रकाशक-पारस प्रकाशन-एन-81, नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032 पृष्ठ--280 पेपरबैक मूल्य-300 रुपये । Dr. Sadhana Pra...
2
Add a comment...
 
मकर संक्रांति- गुरुपर्व -लोहरी की शुभ कमाना
मकर संक्रांति -गुरुपर्व - लोढ़ी की समस्त देशवासियों को हार्दिक बधाई. गुड -तिल के लड्डू मिलें, खाएं -बाँटें प्रेम. पर्वों का सन्देश हैं, चलें न गंदे गेम . सद्भावी , डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
डॉ.रघुनाथ मिश्र 'सहज' के व्यक्तित्व - कृतित्व पर केन्द्रित 'सहज' विशेषांक में गोपाल क्रिसन भट्ट 'आकुल के दो कुण्डलिया छंद
’सहज’ सहज हैं सहज से, कह देते हैं बात। धारा-प्रवाह सहज से, कहने में निष्‍णात। कहने में निष्‍णात, विषय कोई सा भी हो। कहते हैं बेबाक, सदन कोई सा भी हो। कविपुंगव ने काव्‍य, रचे वे ‘सहज’ सहज हैं। मेरे हैं प्रिय दोस्‍त, बिलाशक ‘सहज’ सहज हैं। 2- सागर सा व्‍यक्तित...
 ·  Translate
4
Add a comment...
Story
Tagline
name: raghunath misra, advocate and personality development advisor.I am a poet, writer, author dramatist, literary and cultural critic, honourary literary editor and publisher.
Education
  • R.N.Tagore higher secondary school,BHIND(M.P.)
    1966
    bhadawar vidyamandir inter college 1969 RBS college, AGRA-agra university,AGRA 1970 1973 THE UNIVERSITY OF RAJASTHAN JAIPUR
Basic Information
Gender
Male
Work
Occupation
ADVOCATE AND PERSONALITY DEVELOPMENT CONSULTANT
Employment
  • Advocate and personality development consultant.
    address motivational seminars -interactive sessions-counselling for students-faculties-admins in schools/ colleges (technical/non technical)/corporate sectors.
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
KOTA(RAJASTHAN)