Profile cover photo
Profile photo
bharat singh chuphal
252 followers
252 followers
About
bharat singh's posts

Post has attachment
क्यों मैडम, मजा तो आया ना?
भरी बस में लड़की- ऐ मिस्टर, तुम्हारी जेब में कुछ टच हो रहा है। लड़का- वो, पॉकेट में मेरी सैलरी रखी है। लड़की- तेरी सैलरी पांच मिनट में तीन गुना बढ़ती है क्या? इस चुटकुले या इस जैसे दूसरे चुटकुलों को न हममें से न जाने कितने लोगों ने कितनी बार कई लोगों को फॉर...

Post has attachment
उम्मीद की निर्भयाएं: हजारों चीखें दबी-कुचली हैं जिनका सुना जाना बाकी है...
 भारतीय परिवार, समाज और संस्कृति में बलात्कार नई बात नहीं है। यहां न जाने कितनी घरों की दीवारें, रिश्ते, समाज हैं जो सदियों से बलात्कार की चीखों के गवाह बने आ रहे हैं पर इसके आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक कारकों, कारणों और परिणामों की पड़ताल करती कि...

Post has attachment
पंजाबी हीरो, बिहारी गुंडा
फिल्में मेरे लिए हमेशा अजूबा सी ही रहीं। बचपन में टीवी या सिनेमा का चलता-फिरता पर्दा जैसी गजब चीज देखकर, लड़कपन में सिनेमाई हीरोज के बाल-चाल-ढाल की नकल की कोशिशों के चलते और बाद में फिल्मों को देखने और सीखने के लिहाज से। हाल ही में एक फिल्म को दोस्तों के सा...

Post has attachment
उम्मीद की निर्भयाएं: हजारों चीखें दबी-कुचली हैं जिनका सुना जाना बाकी है...
 भारतीय परिवार, समाज और संस्कृति में बलात्कार नई बात नहीं है। यहां न जाने कितनी घरों की दीवारें, रिश्ते, समाज हैं जो सदियों से बलात्कार की चीखों के गवाह बने आ रहे हैं पर इसके आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक कारकों, कारणों और परिणामों की पड़ताल करती कि...
Wait while more posts are being loaded