Profile cover photo
Profile photo
Arvind Kumar
91 followers -
poet,three collection published,presently working with dte .
poet,three collection published,presently working with dte .

91 followers
About
Arvind's posts

एक कविता अभी अभी
तुम्हारी वज़ह से ही सच सच बना रहता है -------
--------------------------------------अरविन्द पथिक
सच एकाकी रहने को अभिशप्त है
फिर भी तुम सच के साथ खड़े हो
भले ही तुमने कुछ भी कहा सुना नहीं झूठ से
पर झूठ के सीने में शूल से गड़े हो
सच तो योद्धा है, पहलवान है
उसका तो कोई कुछ नहीं बिगाड पायेगा
हा उसकी पीठ पर पड़ने वाला हर पत्थर
अब तुम्हारी तरफ आएगा
सच की सेहत पर क्या फर्क पड़ता -?
तुम साथ होते न होते
सब के साथ मिलकर सच को गलियां नहीं भी देते
तो कम से कम मौन ही रहते ‘
पर, नहीं तुम तो कुछ ज्यादा ही बेख़ौफ़ हो गये
सच के कपड़े पहनकर इतरा रहे झूठ को सरे बाज़ार
बार- बार नंगा कर दिया
तुमने इस उदासीन सच के लिए
इस मगरूर सच के लिए
साहित्य की , राजनीति की हाट में
कितनी ही बार दंगा कर दिया
पर क्या हुआ?
झूठ ही नहीं
सच के सारे ठेकेदार
अब तुम्हारी सुपारी लिए बैठे हैं
निदा ,लांछन ,चापलूसी ,अहम ,कुंठा के हरबो से लैस
एक ही झटके में तुम्हारा काम तमाम करने को
कटिबद्ध तक्षक से ऐंठे हैं
जरा सी चूक हुयी कि
ये तुम्हे अज्ञात के
बियावान में दफना आयेंगे
और सब को चीख चीखकर बताएँगे
कि वो जो गुम हो गया
झूठ के साथ नहीं
झूठ ही था
अरे वह सच के साथ होगा
तो कबीर की साखी और सबद सा
पांच सौ साल बाद लौट आएगा
और तब वह खुद ही बताएगा कि
सच कौन है, और क्या है ---?
प,र हमें पता है
जो रातोरात भाग गया है
वह मिथ्या है—
-------------------
पर मैं जानता हूँ
सच के साथ रहते रहते
तुम्हे भी कुंठा ,निंदा और
घुटन की आदत हो गयी है
अफ़सोस क्या करूँ तुम्हारे लिए ‘
तुम्हारे जैसो की पहले भी
खामोश शहादत हो गयी है
और सच भी तो
तुम जैसो की वजह से ही तना रहता है
तुम जियो अपने ढंग से
तुम्हारी वज़ह से ही सच सच बना रहता है -

एक पाकिस्तान ही है जहाँ कलाकार पैदा होते हैं बाकी सब तो कूढ़ मगज हैं ,इतने संवेदन शील कलाकार जो जर्मनी से लेकर अमरीका और सीरिया से लेकर फिलिस्तीन तक के आतंकवाद पर टसुये बहाते हैं पर भारत में आतंकवादी वारदात होने पर इनके मुह में दही जम जाता है --,आखिर भारत इनके लिए नोट कमाने की मंडी है -दारूल हरब है ,यहाँ बसने वाले सब काफ़िर हैं ,इनकी मौत पर अल्लाह के बन्दों को जश्न मनाना है--तो क्यों करे पाकिस्तान की या आतंकवाद की निंदा -

Post has attachment
रामनवमी  पर विशेष

कब कहा मैंने कि ये पहचान दो दिन की अमर हो
साँस इन बेहोश घड़ियों की ना लौटे बेखबर हो 
कब कहा मैंने कि मेरी याद की बुझती शमां पर 
एक पल को भी तुम्हारी लाज से नीची नजर हो 
---------------------रामेश्वर शुक्ल अंचल

Post has attachment
**
वर्ष २००६ में प्रकाशित मेरे महाकाव्य 'बिस्मिल चरित ' से - पं० रामप्रसाद बिस्मिल की अंतिम यात्रा जंगल में आग फैलती ज्यों ,फैली बिस्मिल बलिदान खबर  जेल स्वयम ही कैद हुयी ,आहत हो दौड़ा पूरा नगर जिसने भी सुना ,रह गया सन्न,मन खिन्न, हृदय था भग्न हुआ अग्रेजी न्य...

Post has attachment
मेरे  शीघ्र प्रकाश्य -व्यंग्य संग्रह -"आवरण " में संकलित व्यंग्य -पीली दाल

Post has attachment
पीली दाल
   होगा कभी दाल रोटी
आम आदमी का भोजन पर जिस तरह से इस बार दाल ने भाव खाया है   बेचारे  चिकन की तो मानों इज्ज़त ही कुछ नहीं रही .दिल्ली
की कई सरका रें प्याज के आंसुओं में बह गयीं पर दाल ने तो
मानों प्याज के छिलके ही उतार कर रख दिए .साबिर मियां  मिल गये कल बाज़...

Post has attachment
व्यंग्य -----------------------------पीली दाल
पीली दाल  होगा कभी दाल रोटी
आम आदमी का भोजन पर जिस तरह से इस बार दाल ने भाव खाया है   बेचारे  चिकन की तो मानों इज्ज़त ही कुछ नहीं रही .दिल्ली
की कई सरका रें प्याज के आंसुओं में बह गयीं पर दाल ने तो
मानों प्याज के छिलके ही उतार कर रख दिए .साबिर मियां  मिल गये...

Post has attachment
व्यंग्य -----------------------------पीली दाल
पीली दाल  होगा कभी दाल रोटी
आम आदमी का भोजन पर जिस तरह से इस बार दाल ने भाव खाया है   बेचारे  चिकन की तो मानों इज्ज़त ही कुछ नहीं रही .दिल्ली
की कई सरका रें प्याज के आंसुओं में बह गयीं पर दाल ने तो
मानों प्याज के छिलके ही उतार कर रख दिए .साबिर मियां  मिल गये...

Post has attachment
व्यंग्य -----------------------------पीली दाल
पीली दाल  होगा कभी दाल रोटी
आम आदमी का भोजन पर जिस तरह से इस बार दाल ने भाव खाया है   बेचारे  चिकन की तो मानों इज्ज़त ही कुछ नहीं रही .दिल्ली
की कई सरका रें प्याज के आंसुओं में बह गयीं पर दाल ने तो
मानों प्याज के छिलके ही उतार कर रख दिए .साबिर मियां  मिल गये...
Wait while more posts are being loaded