Profile cover photo
Profile photo
Kavita Rawat
1,369 followers -
http://kavitarawat.in
http://kavitarawat.in

1,369 followers
About
Kavita Rawat's posts

Post has attachment
संत कबीर के गुरु विषयक बोल
गु अँधियारी जानिये, रु कहिये परकाश । मिटि अज्ञाने ज्ञान दे, गुरु नाम है तास ॥ जो गुरु को तो गम नहीं, पाहन दिया बताय । शिष शोधे बिन सेइया, पार न पहुँचा जाए ॥ सोचे गुरु के पक्ष में, मन को दे ठहराय । चंचल से निश्चल भया, नहिं आवै नहीं जाय ॥ गुरु नाम है गम्य का,...

Post has attachment
हमारे गाँव नऊँ (रसिया महादेव) द्वारा दिनाक 26 जून 2017 को आयोजित प्रथम विशाल भगवती जागरण के अवसर पर गढ़रत्न सुप्रसिद्ध लोकगायक श्री नरेन्द्र सिंह नेगी जी एवं पार्टी द्वारा प्रस्तुत एक रोचक प्रस्तुति।
इस जागरण के बाद नेगी जी को हार्ट अटैक आया किन्तु माँ भगवती की कृपा और उनके समस्त चाहने वालों की दुआएं ईश्वर ने सुन ली और वे धीरे-धीरे स्वस्थ होकर जल्दी ही हम सभी के बीच होंगे, यह अत्यन्त ख़ुशी की बात हैं। माँ भगवती की कृपा यूँ ही सब पर बनी रहें। जय माता दी।

Post has attachment
हेमलासत्ता (भाग-2)
नाई की बात सुनकर खेतासर के लोग बोले- हेमला से हम हार गए, वह तो एक के बाद एक को मारे जा रहा है, बड़े गांव में भी हम लोगों को चैन से नहीं रहने दे रहा है। हम कुछ नहीं कर सकते। अब तो बड़े शहर जाकर वहाँ से मियां मौलवी को लाना होगा। सुना है वहां एक खलीफा जी बड़े सिद...

Post has attachment
हेमलासत्ता [भाग- एक]
एक छोटे से गांव खेतासर में हेमला जाट रहता था। उसके घर में दूध, पूत, धन, धान्य सभी था। सभी तरह से उसकी जिन्दगी सुखपूर्वक कट रही थी। उसकी अपनी प्रिय पत्नी से हमेशा प्रेमपूर्वक खूब पटती थी। वह हमेशा अपने बाल-बच्चों और नाती-पोतों से घिरा रहता था। सब कुछ होते ह...

Post has attachment
विश्व तंबाकू निषेध दिवस

Post has attachment
कई रोगों की जड़ तम्बाकू/धूम्रपान
तम्बाकू/धूम्रपान जनित कुछ प्रमुख रोगों के बारे में जानिए और  आज ही छोड़ने का संकल्प कीजिए  कैंसर:  तम्बाकू के धुएं से उपस्थित बेंजपाएरीन कैंसर जनित रोग होता है। लगभग 95 प्रतिशत फेफड़ों के कैंसर के मरीज धूम्रपान के कारण होते हैं। विपरीत धूम्रपान मुख कैंसर का ...

Post has attachment
बहानों के कमी कभी नहीं रहती है

Post has attachment
तानाशाह का काम किसी भी बहाने से चल सकता है
अनाड़ी कारीगर अपने औजारों में दोष निकालता है। पकाने का सलीका नहीं जिसे वह देगची का कसूर बताता है।। कातना न जाने जो वह चर्खे को दुत्कारने चला। लुहार बूढ़ा हुआ तो लोहे को कड़ा बताने लगा।। जिसका मुँह टेढ़ा वह आइने को तमाचा मारता है। कायर सिपाही हमेशा हथियार को कोस...

Post has attachment

Post has attachment
कब साकार होगा नशा मुक्त देवभूमि का सपना
Photo
Wait while more posts are being loaded