Profile cover photo
Profile photo
Chitra Agrawal
178 followers -
An ordinary person with a wish to scale extraordinary heights
An ordinary person with a wish to scale extraordinary heights

178 followers
About
Chitra's posts

Post has attachment
लद्दाख.. यानि ठण्डे मरुस्थल का सफर...
" इस आठ जून की सुबह को जब हमारे कदम लद्दाख के रिनपोछे हवाई अड्डे पर पड़े तो हम दिल्ली के साथ-साथ उसकी गर्मी को भी पीछे छोड़ ही चुके थे। यहीं नहीं, राजधानी की चौड़ी सपाट सड़को को, दोनों तरफ दिखती सीमेंट की इमारतों को और सड़को पर दौड़ते वाहनों से उठते धुंए को...

Post has attachment
भारत के भविष्य से खिलवाड़ करने वाले असली अपराधी कौन हैं?
भारत देश के बच्चों की पढ़ाई, उन्हें योग्य बनाने से लेकर उनसे कई महत्वपूर्ण प्रवेश परीक्षाएं दिलवाने का काम सीबीएसई करती है। पूरे देश में स्कूलों को मान्यता देना, विभिन्न कक्षाओं के लिए कोर्स निर्धारित करना, स्कूलों के ऑडिट करना, किताबें और स्टडी मैटीरियल तै...

Post has attachment
बिन दु:ख सब सून
आप मानें या ना मानें, एक समय ऐसा था जब इस धरती पर हर खास-ओ-आम को भगवान बनने का मौका मिलता था। यह वो समय था जब भगवान दूर स्वर्ग में नहीं रहते थे बल्कि यहीं ज़मीन पर विचरण करते थे। तब दरअसल देवलोक, धरतीलोक या पाताललोक जैसी अलग अलग जगहें थी ही नहीं। इसी धरती प...

Post has attachment
एब्स्ट्रेक्ट थॉ
हमेशा हर चीज़ हासिल करना आसान नहीं होता। लेकिन इन तमन्नाओं का क्या किया जाए जो गाहे-बगाहे, जब जी चाहा, बिना दस्तक दिए हर इंसान की ज़िदंगी में चली आती हैं। यह ना तो उम्र देखती हैं और ना ही दुनिया के रीति रिवाज़। कभी भी आपका मन किसी भी चीज़ के लिए मचल सकता है...

Post has attachment
जनता को कमअक्ल समझने वाले ध्यान दें...
चुनावों के नतीजे आ चुके हैं। शायद अब विपक्षी नेताओं और खासकर खुद को तुर्रम खां समझने वाले पत्रकारों को समझ आए कि आज की जनता निर्णय लेना जानती है, बेआवाज़ लाठी से जवाब देना जानती है। मुझे उम्मीद है कि उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में भाजपा की ज़बरदस्त जीत और पं...

Post has attachment
मीडिया की एजेंडा सेटिंग थ्योरी का शिकार बन रहे हैं हम... और हमें मालूम तक नहीं
हांलाकि देश में इस समय इतने ज़्यादा ज़रूरी मुद्दे हैं कि ग़ैरज़रूरी मुद्दों पर बहस की गुंजाइश नहीं होती लेकिन क्या किया जाए यह मीडिया का दौर है जहां उसी बात की बात होती है जिसे मीडिया हवा देता है, उन महत्वपूर्ण मुद्दों की नहीं जिन्हें मीडिया दबा देता है। मा...

Post has attachment
आओ सुनें एक कहानी (इस कहानी का वर्तमान हालातों से कोई संबंध नहीं है, वास्तविक तस्वीरों का प्रयोग कहानी को प्रभावी बनाने के लिए किया गया है)


Post has attachment
रंगमंच की बात, तमाशा-ए-नौटंकी की बात


Post has attachment

Post has attachment
'मन की बात'... लेकिन मोदी जी की नहीं, फुटबॉल की :-)
बहुत दिनों से यह सवाल जीतू-मीतू के मन में था। जीतू-मीतू...अरे वो जुड़वा स्पोट्स जूते, जिन्हें पहनकर रोज़ अभिषेक अपने पांच दोस्तों के साथ फुटबॉल खेलने जाता है। दोनों ही बहुत प्यारे हैं। भाई हैं, बिल्कुल एक जैसे, आईडेंटिकल ट्विन्स। एक दूसरे की मिरर इमेज। एक द...
Wait while more posts are being loaded