Profile cover photo
Profile photo
Lokendra Singh
1,208 followers -
लेखक, कहानीकार, कवि, मीडिया शिक्षक
लेखक, कहानीकार, कवि, मीडिया शिक्षक

1,208 followers
About
Posts

Post has attachment
"जिस दिन सोया राष्ट्र जागेगा..."
---
फाल्गुनी पुरोहित की मधुर आवाज में इस प्रेरक गीत को सुनिए, अच्छा लगेगा। फाल्गुनी दिव्यांग है। देख नहीं सकती। उसके हौसले बुलंद है। दिव्यांगता को वह अपने मार्ग में बाधा नहीं बनने देती। प्रतिभा की धनी इस बेटी का जीवन उसकी आवाज से रौशन हो...
---
#विश्व_संवाद_केंद्र #VSK #राष्ट्रगीत
---
https://m.youtube.com/watch?v=FmIsReeeMBo
Add a comment...

Post has attachment
हामिद अंसारी का शरीयत और जिन्ना प्रेम
- लोकेन्द्र सिंह  पूर्व उपराष्ट्रपति और कांग्रेस के मुस्लिम नेता हामिद अंसारी एक बार फिर अपनी संकीर्ण सोच के कारण विवादों में हैं। कबीलाई समय के शरीयत कानून और भारत विभाजन के गुनहगार मोहम्मद अली जिन्ना के संदर्भ में उनके विचार आश्चर्यजनक हैं। यह भरोसा करना ...
Add a comment...

Post has attachment
कठघरे में चर्च से संचालित संस्थाएं
- लोकेन्द्र सिंह  भारत में ईसाई मिशनरीज संस्थाएं सेवा की आड़ में किस खेल में लगी हैं, अब यह स्पष्ट रूप से सामने आ गया है। वेटिकन सिटी से संत की उपाधि प्राप्त 'मदर टेरेसा' द्वारा कोलकाता में स्थापित 'मिशनरीज ऑफ चैरिटी' की संलिप्तता मानव तस्करी में पाई गई है।...
Add a comment...

Post has attachment
भाई सुदर्शन वीरेश्वर प्रसाद व्यास के काव्य संग्रह #रिश्तों_की_बूंदों आपके मन को कहाँ तक तरबतर कर सकती हैं... #पुस्तक_चर्चा के माध्यम से समझिये और उसके बाद ऑनलाइन खरीद कर पढ़िए...
--
https://apnapanchoo.blogspot.com/2018/07/blog-post.html
Add a comment...

Post has attachment
युवा कवि और पत्रकार मित्र सुदर्शन वीरेश्वर प्रसाद व्यास के काव्य संग्रह #रिश्तों_की_बूंदों की चर्चा आज स्वदेश ( Swadesh News ) के रविवारीय परिशिष्ट #सप्तक में विस्तार से की गई है...
-
आप इसे #हिंदीब्लॉग #अपनापंचू पर भी पढ़ सकते हैं...
-
https://apnapanchoo.blogspot.com/2018/07/blog-post.html
Photo
Add a comment...

Post has attachment
पहली बारिश की सौंधी सुगंध-सी हैं 'रिश्तों की बूंदें'
- लोकेन्द्र सिंह   कवि के कोमल अंतस् से निकलती हैं कविताएं। इसलिए कविताओं में यह शक्ति होती है कि वह पढऩे-सुनने वाले से हृदय में बिना अवरोध उतर जाती हैं। कवि के हृदय से पाठक-श्रोता के हृदय तक की यात्रा पूर्ण करना ही मेरी दृष्टि में श्रेष्ठ काव्य की पहचान है...
Add a comment...

Post has attachment
ऋषितुल्य और मेरे लिए तीर्थरूप श्री जगदीश तोमर जी को मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी ने अखिल भारतीय पुरस्कार "राजा वीरसिंह देव" से सम्मानित किया है। यह "राष्ट्रीय पुरस्कार" उपन्यास के लिए दिया जाता है। पिछले दिनों मैंने श्री तोमर के एक उपन्यास की चर्चा की थी, उसी श्रेष्ठ उपन्यास को वर्ष-2017 का यह सम्मान दिया गया है। वर्तमान समय में उपन्यास " #नीलकंठ_का_स्वप्न " न केवल हमारे चिंतन को दिशा देता है, अपितु यह उपन्यास अपने पाठक को सब प्रकार से संस्कारित भी करता है।
इस समाचार से मन आनंदित है।
इस उपन्यास की विस्तृत चर्चा जल्द ही करेंगे।
---
#लेखन_का_सम्मान #साहित्य #हिंदी_का_मान #आदर्श_लेखन #नई_किताब
Photo
Add a comment...

Post has attachment
#खूंटीगैंगरैप
--
चूँकि शोषणकर्ता/आरोपी के वस्त्रों का रंग गेरुआ नहीं है, इसलिए रंगकर्मी भी 'शर्मिंदगी का बोर्ड' थाम कर फोटोसेशन नहीं करा रहे हैं। जबकि पाँचों लड़कियां और उनके साथी लड़के उनके कर्मक्षेत्र से ही आते हैं। पीडि़त रंगकर्मी हैं और वनवासी समाज को जागरूक करने के लिए नुक्कड़ नाटक करते हैं। कथित प्रबुद्ध वर्ग की यह प्रवृत्ति सभ्य समाज के लिए दु:खद ही नहीं, अपितु खतरनाक ही है। चूँकि इस अपराध में प्रगतिशील बुद्धिजीवियों के प्रिय कम्युनिस्ट-नक्सली और चर्च शामिल है, इसलिए वह अपना मुंह नहीं खोल पा रहे हैं। त्रिशूल को कॉन्डम पहनाने जैसी सृजनशीलता भी नहीं दिखा पा रहे हैं।
https://apnapanchoo.blogspot.com/2018/06/behind-the-khoonti-gangrape-is-church-naxal-alliance.html
Add a comment...

Post has attachment
#खूंटीगैंगरैप
---
देश के विभिन्न हिस्सों में अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोगों के साथ होने वाली मारपीट की घटनाओं एवं उनके शोषण पर जिस प्रकार आवाजें बुलंद होती हैं, उनसे एक उम्मीद जागती है कि वर्षों से शोषित इस समाज हो ताकत देने के लिए देशभर में एक वातावरण बन रहा है। सभी वर्गों के लोग पीडि़तों के साथ खड़े हैं। ऐसी स्थिति में खूंटी गैंगरेप और शोषण के मामले पर पसरा सन्नाटा खतरनाक लगता है। यह डराता है। देश का तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग और टीआरपी के लिए भूखे बैठे समाचार चैनल्स भी एक अजब-सी चुप्पी साधे हुए हैं। मानो हमारी संवेदनाओं पर भी अब राजनीति हावी हो गई है।
https://apnapanchoo.blogspot.com/2018/06/behind-the-khoonti-gangrape-is-church-naxal-alliance.html
Add a comment...

Post has attachment
खूंटी सामूहिक बलात्कार के पीछे चर्च और नक्सलियों का खतरनाक गठजोड़
- लोकेन्द्र सिंह झारखंड के खूंटी जिले में पाँच महिला सामाजिक कार्यकर्ताओं से सामूहिक बलात्कार और पुरुष कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट एवं उन्हें पेशाब पिलाने का अत्यंत घृणित कृत्य सामने आया है। यह बहुत दु:खद और डरावनी घटना है। पीडि़त महिलाएं एवं पुरुष अनुसूचित ...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded