Profile cover photo
Profile photo
Archu Mishra
360 followers -
hii friends
hii friends

360 followers
About
Archu Mishra's posts

Post has attachment
कविता
कविता "ज़िन्दगी में हर पल खुदको तनहा ही पाया हर किसी से ज़िन्दगी में बस धोखा ही खाया हम तो पहले ही घायल थे रिश्तों की चोट से ऐसा हर शख्स मेरी ही ज़िन्दगी में क्यों आया अश्को के सिवा यहाँ कुछ भी हमने न पाया अपना बता हर शख्स ने हमको तो रुलाया एक प्यार की ही चाहत...

Post has attachment
कविता-एक बार कहा था
"हम तो आज भी वही है ठहरे जहाँ तुमने कहा था जरा रुको हम बस अभी थोड़ी देर में आते है दिन, सप्ताह, बीतेे माह और साल गुज़र गयी उमर बीत गयी ज़िन्दगी तुम्हारे इंतज़ार में बैठे यहाँ आज भी जहाँ तुमने लौटने का वादा किया था वफ़ा के बदले बेवफाई निभाई तुमने करते रहे है फिर ...

Post has attachment
कविता-एक बार कहा था
"हम तो आज भी वही है ठहरे जहाँ तुमने कहा था जरा रुको हम बस अभी थोड़ी देर में आते है दिन, सप्ताह, बीतेे माह और साल गुज़र गयी उमर बीत गयी ज़िन्दगी तुम्हारे इंतज़ार में बैठे यहाँ आज भी जहाँ तुमने लौटने का वादा किया था वफ़ा के बदले बेवफाई निभाई तुमने करते रहे है फिर ...

Post has attachment
कविता-एक बार कहा था
"हम तो आज भी वही है ठहरे जहाँ तुमने कहा था जरा रुको हम बस अभी थोड़ी देर में आते है दिन, सप्ताह, बीतेे माह और साल गुज़र गयी उमर बीत गयी ज़िन्दगी तुम्हारे इंतज़ार में बैठे यहाँ आज भी जहाँ तुमने लौटने का वादा किया था वफ़ा के बदले बेवफाई निभाई तुमने करते रहे है फिर ...

Post has attachment
कविता-एक बार कहा था
"हम तो आज भी वही है ठहरे जहाँ तुमने कहा था जरा रुको हम बस अभी थोड़ी देर में आते है दिन, सप्ताह, बीतेे माह और साल गुज़र गयी उमर बीत गयी ज़िन्दगी तुम्हारे इंतज़ार में बैठे यहाँ आज भी जहाँ तुमने लौटने का वादा किया था वफ़ा के बदले बेवफाई निभाई तुमने करते रहे है फिर ...

Post has attachment
कविता-ज़िन्दगी मेंरी ठहर सी गयी
"ठहरे हुए पानी की तरह, ज़िन्दगी मेरी ठहर सी गयी अतीत में खोया है आज, कैसे इश्क में ज़हर पीती गयी करती हूँ याद आज भी, जो गुज़ारी थी शामें इंतज़ार में सोचती हूँ आज मैं, कैसे इतनी बड़ी भूल में करती गयी इश्क की रंगीनियों को, बस झरोखो से ही देखती थी मोहब्बत को जींदगी...

Post has attachment
कविता
तेरे इश्क में, भुलाई मैंने दुनिया तुझसे क्यों न ये, भुलाई जाये याद में तेरी, कितना तड़पती है 'मीठी' 'ख़ुशी' इन लबो पर, तुझसे न लायी जाये 'मीठी' बातो से दिल, चुराने वाले 'ख़ुशी' की बात, तुझसे न बताई जाये मेरी मोहब्बत को, कर दिया बदनाम तुमने फिर भी मिलाते हो आँख...

Post has attachment
मुक्तक
"खोया था कभी दिल मेरा भी इन वादियो में पाया था मैंने भी उन्हें ही इन वादियो में मोहब्बत के सौदागर निकले वो मेरे हमदम मिले थे कभी हम उनसे भी इन वादियो में" "रह रह कर मुझे तेरी याद आती है पल पल मुझे ये कितना सताती है दूर जा कर मुझसे खुश है कितना तू याद तेरी इ...

Post has attachment
मुक्तक
"जाने कैसे सबको उनका प्यार मिल जाता है जाने कैसे सबको उनका यार मिल जाता है हमको तो मिलते है मोहब्बत में ठग हर मोड़ पर जाने कैसे सबको उनका दिलदार मिल जाता है"

Post has attachment
ईद मुबारक
"ऐ खुदा कुछ ऐसी रहमत कर दे  इस ईद पर गरीब का पेट तो भर दे  रोये न भूख से बिलखकर कोई फिर खुदा करिश्मा तू आज ऐसा कर दे"
Wait while more posts are being loaded