Profile

Cover photo
Pawan Kumar
Works at Indian oil
Attended KV Inter Collage
35 followers|13,256 views
AboutPostsPhotosYouTubeReviews

Stream

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
#PAWAN KUMAR (@PAWANKU01540541) पर नजर डालें: https://twitter.com/PAWANKU01540541
 ·  Translate
The latest Tweets from #PAWAN KUMAR (@PAWANKU01540541). न किसी के अभाव मे जिता हू न किसी के प्रभाव मे जिता हु ! ए जिन्दगी मेरी है इसे मै अपने स्वभाव मे जिता हु. Visheshwarganj Bahraich
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
Me at home 
2
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
🚩जय माँ अम्बे 🚩
⛳️⛳️
सारे बोलो
जय माता दी 🚩

मिलकर बोलो
जय माता दी 🚩

जोर से बोलो
जय माता दी 🚩

आप भी बोलो
जय माता दी 🚩

हम भी बोले
जय माता दी 🚩

प्यार से बोलो
जय माता दी 🚩

सबसे बुलवाओ
जय माता दी 🚩

सुबह भी बोलो
जय माता दी 🚩

शाम भी बोलो
जय माता दी 🚩

दोपहर में बोलो
जय माता दी 🚩

रात में बोलो
जय माता दी 🚩

हर समय बोलो
जय माता दी 🚩

अब तो बोलो
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️
जयकारा शेरावाली का

शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये
🚩बोल सच्चे दरवार की जय 🚩


 ·  Translate
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
🚩जय माँ अम्बे 🚩
⛳️⛳️
सारे बोलो
जय माता दी 🚩

मिलकर बोलो
जय माता दी 🚩

जोर से बोलो
जय माता दी 🚩

आप भी बोलो
जय माता दी 🚩

हम भी बोले
जय माता दी 🚩

प्यार से बोलो
जय माता दी 🚩

सबसे बुलवाओ
जय माता दी 🚩

सुबह भी बोलो
जय माता दी 🚩

शाम भी बोलो
जय माता दी 🚩

दोपहर में बोलो
जय माता दी 🚩

रात में बोलो
जय माता दी 🚩

हर समय बोलो
जय माता दी 🚩

अब तो बोलो
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️
जयकारा शेरावाली का

शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये
🚩बोल सच्चे दरवार की जय 🚩


 ·  Translate
 
नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें। माँ जगदंबा सबके जीवन मे सुख, समृद्धि और शांति का वरदान दे। जय माता दी!

As the auspicious festival of Navratri begins, I convey my warm greetings to everyone. We bow to Maa Jagdamba & seek her blessings. May Maa Jagdamba enrich our lives with strength, well-being, good health & may she keep inspiring us to serve the poorest of the poor.
 ·  Translate
455 comments on original post
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार जब खुल कर मुस्लिमो की तरफदारी करती है तब न सेकुलर जमात को दिक्कत होती है न देश के विद्वानो को
मगर हिन्दूऔ की बात करने मात्र से वह साप्रदायिक हो जाता है

अगर किसी में हिम्मत है तो वह मौलानाओं के खिलाफ एक शब्द बोल कर देखे

 ·  Translate
1
Pawan Kumar's profile photo
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
मोदी जी आप अच्छा कार्य कर रहे हैं
 ·  Translate
 
Yesterday I had a very fruitful meeting with Ministers & Officials on Mission Swacch Bharat, which would be launched on 2nd October. Mission Swacch Bharat aspires to realise Gandhi ji's dream of a Clean India through Jan Bhagidari. Together we can make a big difference.

Please share your inputs in making Mission Swacch Bharat a success and laying the foundations of a Clean India. http://mygov.nic.in/group_info/swachh-bharat-clean-india
378 comments on original post
1
Add a comment...
Have him in circles
35 people
akshay baba's profile photo
Sweta Singh's profile photo
chinu zakhuda's profile photo
imtiazul haque's profile photo
Sandip Tiwari's profile photo
Prajapat Jagdish's profile photo
AamAadmi PartyRaipur's profile photo
Ankith Kumar's profile photo
RanGite Singh's profile photo

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
आइए महसूस करिए ज़िन्दगी के ताप को
मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको

जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर
मर गई फुलिया बिचारी कि कुएँ में डूब कर

है सधी सिर पर बिनौली कंडियों की टोकरी
आ रही है सामने से हरखुआ की छोकरी

चल रही है छंद के आयाम को देती दिशा
मैं इसे कहता हूं सरजूपार की मोनालिसा

कैसी यह भयभीत है हिरनी-सी घबराई हुई
लग रही जैसे कली बेला की कुम्हलाई हुई

कल को यह वाचाल थी पर आज कैसी मौन है
जानते हो इसकी ख़ामोशी का कारण कौन है

थे यही सावन के दिन हरखू गया था हाट को
सो रही बूढ़ी ओसारे में बिछाए खाट को

डूबती सूरज की किरनें खेलती थीं रेत से
घास का गट्ठर लिए वह आ रही थी खेत से

आ रही थी वह चली खोई हुई जज्बात में
क्या पता उसको कि कोई भेड़िया है घात में

होनी से बेखबर कृष्ना बेख़बर राहों में थी
मोड़ पर घूमी तो देखा अजनबी बाहों में थी

चीख़ निकली भी तो होठों में ही घुट कर रह गई
छटपटाई पहले फिर ढीली पड़ी फिर ढह गई

दिन तो सरजू के कछारों में था कब का ढल गया
वासना की आग में कौमार्य उसका जल गया

और उस दिन ये हवेली हँस रही थी मौज़ में
होश में आई तो कृष्ना थी पिता की गोद में

जुड़ गई थी भीड़ जिसमें जोर था सैलाब था
जो भी था अपनी सुनाने के लिए बेताब था

बढ़ के मंगल ने कहा काका तू कैसे मौन है
पूछ तो बेटी से आख़िर वो दरिंदा कौन है

कोई हो संघर्ष से हम पाँव मोड़ेंगे नहीं
कच्चा खा जाएँगे ज़िन्दा उनको छोडेंगे नहीं

कैसे हो सकता है होनी कह के हम टाला करें
और ये दुश्मन बहू-बेटी से मुँह काला करें

बोला कृष्ना से बहन सो जा मेरे अनुरोध से
बच नहीं सकता है वो पापी मेरे प्रतिशोध से

पड़ गई इसकी भनक थी ठाकुरों के कान में
वे इकट्ठे हो गए थे सरचंप के दालान में

दृष्टि जिसकी है जमी भाले की लम्बी नोक पर
देखिए सुखराज सिंग बोले हैं खैनी ठोंक कर

क्या कहें सरपंच भाई क्या ज़माना आ गया
कल तलक जो पाँव के नीचे था रुतबा पा गया

कहती है सरकार कि आपस मिलजुल कर रहो
सुअर के बच्चों को अब कोरी नहीं हरिजन कहो

देखिए ना यह जो कृष्ना है चमारो के यहाँ
पड़ गया है सीप का मोती गँवारों के यहाँ

जैसे बरसाती नदी अल्हड़ नशे में चूर है
हाथ न पुट्ठे पे रखने देती है मगरूर है

भेजता भी है नहीं ससुराल इसको हरखुआ
फिर कोई बाँहों में इसको भींच ले तो क्या हुआ

आज सरजू पार अपने श्याम से टकरा गई
जाने-अनजाने वो लज्जत ज़िंदगी की पा गई

वो तो मंगल देखता था बात आगे बढ़ गई
वरना वह मरदूद इन बातों को कहने से रही

जानते हैं आप मंगल एक ही मक़्क़ार है
हरखू उसकी शह पे थाने जाने को तैयार है

कल सुबह गरदन अगर नपती है बेटे-बाप की
गाँव की गलियों में क्या इज़्ज़त रहे्गी आपकी

बात का लहजा था ऐसा ताव सबको आ गया
हाथ मूँछों पर गए माहौल भी सन्ना गया था

क्षणिक आवेश जिसमें हर युवा तैमूर था
हाँ, मगर होनी को तो कुछ और ही मंजूर था

रात जो आया न अब तूफ़ान वह पुर ज़ोर था
भोर होते ही वहाँ का दृश्य बिलकुल और था

सिर पे टोपी बेंत की लाठी संभाले हाथ में
एक दर्जन थे सिपाही ठाकुरों के साथ में

घेरकर बस्ती कहा हलके के थानेदार ने -
"जिसका मंगल नाम हो वह व्यक्ति आए सामने"

निकला मंगल झोपड़ी का पल्ला थोड़ा खोलकर
एक सिपाही ने तभी लाठी चलाई दौड़ कर

गिर पड़ा मंगल तो माथा बूट से टकरा गया
सुन पड़ा फिर "माल वो चोरी का तूने क्या किया"

"कैसी चोरी, माल कैसा" उसने जैसे ही कहा
एक लाठी फिर पड़ी बस होश फिर जाता रहा

होश खोकर वह पड़ा था झोपड़ी के द्वार पर
ठाकुरों से फिर दरोगा ने कहा ललकार कर -

"मेरा मुँह क्या देखते हो ! इसके मुँह में थूक दो
आग लाओ और इसकी झोपड़ी भी फूँक दो"

और फिर प्रतिशोध की आंधी वहाँ चलने लगी
बेसहारा निर्बलों की झोपड़ी जलने लगी

दुधमुँहा बच्चा व बुड्ढा जो वहाँ खेड़े में था
वह अभागा दीन हिंसक भीड़ के घेरे में था

घर को जलते देखकर वे होश को खोने लगे
कुछ तो मन ही मन मगर कुछ जोर से रोने लगे

"कह दो इन कुत्तों के पिल्लों से कि इतराएँ नहीं
हुक्म जब तक मैं न दूँ कोई कहीं जाए नहीं"

यह दरोगा जी थे मुँह से शब्द झरते फूल से
आ रहे थे ठेलते लोगों को अपने रूल से

फिर दहाड़े, "इनको डंडों से सुधारा जाएगा
ठाकुरों से जो भी टकराया वो मारा जाएगा

इक सिपाही ने कहा, "साइकिल किधर को मोड़ दें
होश में आया नहीं मंगल कहो तो छोड़ दें"

बोला थानेदार, "मुर्गे की तरह मत बांग दो
होश में आया नहीं तो लाठियों पर टांग लो

ये समझते हैं कि ठाकुर से उलझना खेल है
ऐसे पाजी का ठिकाना घर नहीं है, जेल है"

पूछते रहते हैं मुझसे लोग अकसर यह सवाल
"कैसा है कहिए न सरजू पार की कृष्ना का हाल"

उनकी उत्सुकता को शहरी नग्नता के ज्वार को
सड़ रहे जनतंत्र के मक्कार पैरोकार को

धर्म संस्कृति और नैतिकता के ठेकेदार को
प्रांत के मंत्रीगणों को केंद्र की सरकार को
 ·  Translate
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
🚩जय माँ अम्बे 🚩
⛳️⛳️
सारे बोलो
जय माता दी 🚩

मिलकर बोलो
जय माता दी 🚩

जोर से बोलो
जय माता दी 🚩

आप भी बोलो
जय माता दी 🚩

हम भी बोले
जय माता दी 🚩

प्यार से बोलो
जय माता दी 🚩

सबसे बुलवाओ
जय माता दी 🚩

सुबह भी बोलो
जय माता दी 🚩

शाम भी बोलो
जय माता दी 🚩

दोपहर में बोलो
जय माता दी 🚩

रात में बोलो
जय माता दी 🚩

हर समय बोलो
जय माता दी 🚩

अब तो बोलो
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
जय माता दी 🚩
⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️⛳️
जयकारा शेरावाली का

शेर पे सवार होके आजा शेरावालिये
 ·  Translate
1
1
Komal yadav's profile photo
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
 
कलि युग में भी ऐसा होता है !!!!
मेरठ में हुई एक युवक की मौत का गम बांटने
पहुंचे बंदर की उपस्थिति वहां सभी को हैरान कर
गयी।
मृतक के साथ उस बंदर ने ऐसा व्यवहार
किया कि मानों वह मृतक का बहुत
करीबी रहा हो।
बंदर के हाव-भाव, प्रतिक्रिया और हरकतें
बिल्कुल इंसानों जैसी रही।
एनएएस कालेज में वरिष्ठ लिपिक सुरेंद्र सिंह
86/3 शास्त्री नगर में रहते हैं।
सुरेंद्र सिंह का बड़ा बेटा सुनील तोमर (31) तीस
हजारी कोर्ट दिल्ली में वकील था।
कैंसर की बीमारी से सुनील की शुक्रवार रात
दिल्ली में मृत्यु हो गई।
परिजन शनिवार सुबह करीब साढ़े चार बजे
उसका शव लेकर घर पहुंचे।
घर पहुंचने के बाद जब परिजन और आसपास के लोग
गमगीन माहौल में अंतिम यात्रा की तैयारी में
जुटे थे।
तभी करीब पांच बजे एक बंदर भीड़ के बीच से
होकर शव के पास जा बैठा।
बंदर ने पहले सुनील के पैरों को छुआ और फिर उसके
सिर के पास जाकर बैठा।
जब शव को स्नान कराया गया तो इस बंदर ने
भी एक व्यक्ति के हाथ से लोटा लेकर पानी शव के
ऊपर डाला।
---शवयात्रा में भी हुआ शामिल...
शवयात्रा में शामिल होते हुए बंदर सूरजकुंड स्थित
शमशान घाट तक जा पहुंचा।
उसने चिता पर लकड़ी तक रखने का प्रयास
किया।
बंदर ने कफन में ढके शव का चेहरा उघाड़ कर
अंतिम दर्शन करते हुए एक बार फिर उसके पैर
छुए, अंतिम क्रिया में परिजनों की मदद की।
अंतिम संस्कार के बाद जब गमगीन लोग हैंड-पंप
पर हाथ पांव धोकर पानी पी रहे थे,
वहीं क्रिया बंदर ने भी की।
अंतिम क्रिया के बाद अन्य लोगों के साथ बंदर फिर
सुरेंद्र सिंह के घर वापस आ गया।
---मां और पत्नी से लिपटकर रोया...
घर पहुंच कर बंदर ने अपने हाथों से गमगीन
लोगों को पानी पीने के लिए गिलास दिए।
उसके बाद रोती हुई सुनील
की मां प्रेमवती की गोद में बैठकर और सुनील
की पत्नी पूनम को गले लगकर सांत्वना दी।
लोगों के घर से जाते ही बंदर भी चला गया।
लोगों के अनुसार उन्होंने इस बंदर को पहले
कभी भी मोहल्ले में नहीं देखा था।
---हनुमान भक्त था सुनील...
सुरेंद्र सिंह ने बताया कि सुनील हनुमान भक्त था।
मेहंदीपुर स्थित बालाजी के दरबार में वह अक्सर
जाता था।
बालाजी की बहुत ही श्रद्धा और नियम से
पूजा किया करता था।
सुरेंद्र सिंह के अनुसार यह बंदर पहले
कभी यहां नहीं देखा था।
जय श्री हनुमान ~~~
 ·  Translate
 
BREAKING NEWS: महाराष्ट्र: बीजेपी-शिवसेना में समझौता, शिवसेना 151 सीट और 130 पर बीजेपी लड़ेगी
 ·  Translate
11 comments on original post
1
Add a comment...

Pawan Kumar

Shared publicly  - 
1
Add a comment...
People
Have him in circles
35 people
akshay baba's profile photo
Sweta Singh's profile photo
chinu zakhuda's profile photo
imtiazul haque's profile photo
Sandip Tiwari's profile photo
Prajapat Jagdish's profile photo
AamAadmi PartyRaipur's profile photo
Ankith Kumar's profile photo
RanGite Singh's profile photo
Work
Employment
  • Indian oil
    Selsman, 2008 - present
Basic Information
Gender
Male
Other names
shailendra
Story
Tagline
भारत का रहने वाला है भारत बात सुनाता हूँ
Education
  • KV Inter Collage
    2007 - 2009
Links
Other profiles
Vest city a uttar pardesh
Public - a year ago
reviewed a year ago
1 review
Map
Map
Map