Profile

Cover photo
unmukt S
Lives in India
3,463,277 views
AboutPostsPhotosVideos

Stream

unmukt S

Shared publicly  - 
 
यह चिट्ठी महावीर सिंह फोगट की जीवनी 'अखाड़ा' एवं उनके जीवन पर बनी फिल्म 'दंगल' की समीक्षा है। 
 ·  Translate
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
क्या अन्तरजाल की गोपनीयता भंग होगी
इस चिट्ठी में - अभाज्य अंक (prime number), अन्तरजाल पर गोपनीयता, इन दोनो के बीच संबन्ध, और प्रोफेसर मार्कस डू सौतॉय (Marcus du Sautoy) के एक विडियो, जहां वे इसे समझा रहे हैं - पर चर्चा है। अभाज्य अंक, वे अंक होते हैं जो केवल १ अथवा स्वयं के द्वारा विभाजित क...
 ·  Translate
1
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
नोटबन्दी हाय हाय - नोटबन्दी हिप हिप हुर्रे
इस चिट्ठी में, कुछ चर्चा नोट बन्दी के बारे में।
सोशल मीडिया, अखबार, टीवी जहां देखो वहां बस नोट बन्दी की चर्चा है। लगता है कि समाज के दो धड़े हो गये हैं - एक नोट बन्दी के पक्ष में, तो दूूसरा नोट बन्दी के विपक्ष में। दोनो अपनी अपनी बात कहे जा रहे हैं - मुनासिब...
 ·  Translate
1
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
 
Many years ago - at the inauguration of JK Institute of Applied Physics Allahabad - Two greats at two end of the photograph: one in my life and the other in nation's life :-) Just thought to post it on 14th November.
बहुत साल पहले - जेके इंस्टिट्यूूट के उद्घाटन पर - चित्र के दो कोनो पर, दो महान व्यक्ति: एक मेरे जीवन में, एक देश के जीवन में :-) मुझे लगा कि इसे आज १४ नवम्बर को पोस्ट करूं।
 ·  Translate
5 comments on original post
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
द इमिटेशन गेम
Alan Turing is father of computer. It was because of him that German messages could be decoded during second world was and it could be won. The link below is review of the film 'The Imitation Game' based on his life.

ऐलेन ट्यूरिंग आधुनिक कंप्यूटर के पिता कहे जाते हैं। दूसरे विश्व युद्ध में उनका योगदान महत्वपूर्ण था। नीचे की लिंक में, उनकी जीवनी 'ऐलेन ट्यूरिंग - द एनिगमा' (Alan Turing: The Enigma) पर बनी फिल्म 'द इमिटेशन गेम' की (The Imitation Game) की समीक्षा है। 
 ·  Translate
1
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
*गलती अपनी, लांछन किसी और पर *
हर मोबाइल, हर देश में काम नही करते। इसका अनुभव मुझे अमेरिका में हुआ। गलती मेरी थी और में दोष नेटवर्क वालों को दे रहा था। इसी की चर्चा इस चिट्ठी में है। 
 ·  Translate
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
akhada-dangal
यह चिट्ठी महावीर सिंह फोगट की जीवनी 'अखाड़ा' एवं उनके जीवन पर बनी फिल्म 'दंगल' की समीक्षा है। छः बहने, अन्तरराष्ट्रीय स्तर की पहलवान, वह भी हरयाणा जैसे प्रदेश, जहां स्त्री-पुरुष अनुपात देश में सबसे कम, के एक गांव से - असंभव। लेकिन इसे संभव कर दिखाया महावीर ...
 ·  Translate
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
"My husband was more than happy as he got his time alone so-called ‘space’ :) , they had messed up the whole house, watched TV uninterrupted, slept till late, ate whatever they want and did what not"
सच में, इसका अनुभव मुझे तब हुआ जब मेरी पत्नी शुभा मुुजे और बेटे मुन्ना को छोड़ कर अमेरिका गयी। इसकी चर्चा भी मैं ने अपने चिट्ठे उन्मुक्त पर की।
http://unmukt-hindi.blogspot.in/2007/07/love-is-faith-can-not-be-bound.html
मेरे विचार से, हर पत्नियों को ऐसा करना चाहिये।
 ·  Translate
Kids play schools, events, birthday party venues, shops, family entertainment, mommy blogs in Delhi NCR, Mumbai, Bangalore, Pune, Hyderabad, Chennai on mycity4kids
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
दस खरब असाधारण शून्य सीधी पंक्ति में हैं
इस चिट्ठी में, बॉन रीमैन और रीमैन अनुमान की चर्चा है। बॉन रीमैन -चित्र विकिपीडिया से अभाज्य नम्बर अन्नत है। लेकिन यह नहीं मालुम कि वे कब, कहां, और कैसे मिलते हैं। इनको पता करने का कोई भी सूत्र नहीं है।  बॉन रीमैन का जन्म १७ सितम्बर १८२६ में हुआ था। वह एक जर...
 ·  Translate
इस चिट्ठी में, बॉन रीमैन और रीमैन अनुमान की चर्चा है। बॉन रीमैन -चित्र विकिपीडिया से अभाज्य नम्बर अन्नत है। लेकिन यह नहीं मालुम कि वे कब, कहां, और कैसे मिलते हैं। इनको पता करने का कोई भी सूत्र नहीं है। बॉन रीमैन का जन्म...
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
*लबड़धोंधो ही रहोगे *

The link below is about an incident during my trip to South Africa that I could not write earlier :-)
नीचे की लिंक में, साउथ अफ्रीका की यात्रा के दौरान एक घटना का जिक्र है जो यात्रा संस्मरण लिखते समय शर्म के मारे नहीं लिख सका था :-) 
 ·  Translate
इस चिट्ठी में, साउथ अफ्रीका की यात्रा के दौरान एक घटना का जिक्र है जो यात्रा संस्मरण लिखते समय शर्म के मारे नहीं लिख सका था। मैं कुछ साल पहले, अपनी पत्नी शुभा के साथ, एक सम्मेलन में, साउथ अफ्रीका गया था। इसका संस्मरण मैंने...
1
2
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
 
Many years ago - at the inauguration of JK Institute of Applied Physics Allahabad - Two greats at two end of the photograph: one in my life and the other in nation's life :-) Just thought to post it on 14th November.
बहुत साल पहले - जेके इंस्टिट्यूूट के उद्घाटन पर - चित्र के दो कोनो पर, दो महान व्यक्ति: एक मेरे जीवन में, एक देश के जीवन में :-) मुझे लगा कि इसे आज १४ नवम्बर को पोस्ट करूं।
 ·  Translate
5 comments on original post
1
Add a comment...

unmukt S

Shared publicly  - 
 
 
At the end of my judicial career, I was a frustrated; unhappy about my decision in late 1990's for accepting judgeship: teaching 'Information Technology and Intellectual Property Rights for a semester in the Allahabad University did not elevate my spirits.
But joining back the legal profession, starting prctise in the Supreme Court reinvigorated me. I met lawyers who had argued their cases in my court, clients whose cases I dealt with. This gave fulfillment and new meaning. Life often throws surprises in unexpected ways. Link below is to one of them.

न्यायाधीश का कार्यकाल समाप्त करते समय, मैं अपने अन्दर टूूट चुका था; नाखुश था अपने उस निर्णय से कि मैं न्यायाधीश क्यों बना: इलाहाबाद विश्वविदयालय में एक सेमेस्टर 'सुचना प्रौद्योगिकी और बौद्धिक सम्पदा अधिकार' कानून पढ़ाने के बाद भी कुछ नहीं बदला।लेकिन सुप्रीम कोर्ट में, वकालत शुरू करने से सब बदल गया। उन वकीलों से मिलना, जिन्होंने मेरे सामने बहस की, उन मुव्वकिलों से टकराना, जिनके मुकदमें किये - इसने जीवन में नये रंग भरे, लगा जीवन बेकार नहीं हुआ। हर मोड़ पर ज़िन्दगी, नये गुल खिलाती है। नीचे की लिंक, उन्ही खुशनुमा अनुभवों में से एक।
 ·  Translate
At the end of my judicial career, I was a frustrated; unhappy about my decision in late 1990's for accepting judgeship: teaching 'Information Technology and Intellectual Property Rights for a semester in the Allahabad Univers...
View original post
1
Add a comment...
Story
Tagline
मै हूं उन्मुक्त - हिन्दुस्तान के एक कोने से एक आम भारतीय।
Introduction
मै हूं उन्मुक्त - हिन्दुस्तान के एक कोने से एक आम भारतीय। मैं हिन्दी मे तीन चिट्ठे लिखता हूं - 'उन्मुक्त', 'छुट-पुट', और 'लेख'। मैं एक पॉडकास्ट भी 'बकबक' नाम से करता हूं। मेरे तीनो चिट्ठों, पॉडकास्ट फीड एग्रेगेटर की सारी चिट्ठियां, कौपी-लेफ्टेड हैं। मेरी पत्नी शुभा भी एक चिट्ठा 'मुन्ने के बापू' के नाम से ब्लॉगर पर लिखती है।
Basic Information
Gender
Male
Other names
उन्मुक्त