Profile cover photo
Profile photo
Manish Sisodia
14,670 followers -
....dying to be happy...
....dying to be happy...

14,670 followers
About
Manish's posts

Post has attachment
टीचिंग शाॅप की अनुमति नहीं
दिल्ली के सरकारी स्कूलों में नये कमरे बनने, इंफ्रास्ट्रक्चर सुधरने, टीचर्स और प्रिंसिपल्स की ट्रेनिंग, प्रिंसिपल्स के अधिकार बढ़ाने, मेंटर टीचर्स, मेगा पीटीएम, समर कैंप आदि के बाद सुखद परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। इसकी शुरुआत बजट बढ़ाने से हुई थी। आज दिल्...

Post has attachment
Here is an example of understanding oneself
This is an example widely used during Jeevan Vidya workshops. Let us say A and B are two people, and we make a record of what A feels about a mistake he/she has made and about a mistake B has made. This is what it would look like: A: I am a human being, and...

Post has attachment
स्वयं को जानने का एक उदाहरण
जीवन विद्या वर्कशॉप में एक उदाहरण बहुत प्रचलित है। मान लीजिए ए और बी दो आदमी हैं। और हम एक सूची बनाएं कि A अपनी किसी गलती के बारे में क्या सोचता है और B की गलती के बारे में क्या सोचता है। तो लिस्ट कुछ इस तरह बनेगी- A : मैं एक इनसान हूं। B भी एक इनसान है। A ...

Post has attachment
Can we transform the behavior of children?
Once a colleague asked me, While it is true that we can work on children's talent through education, can we similarly work on their behaviour? Can we influence their nature? I replied in the affirmative. But, for that, it is important that children are able...

Post has attachment
क्या बच्चों का व्यवहार बदला जा सकता है?
मुझसे एक दिन एक सहयोगी ने कहा कि शिक्षा के जरिये हम बच्चे के टैलेंट पर तो काम कर सकते हैं। लेकिन क्या हम उसके व्यवहार पर काम कर सकते हैं? क्या हम उसके स्वभाव पर काम कर सकते हैं? मैंने कहा, बिलकुल कर सकते हैं। लेकिन उसके लिए स्व-भाव यानी स्वयं को जानना जरूरी...

Post has attachment
Education begins with understanding the self
If there are 40 children in one class, there would be many qualities that are common to all children. Habits, thought processes, ideas, questions.. and other such things. I have not come across a single book that helps identify what these common qualities a...

Post has attachment
शिक्षा की शुरुआत, स्वयं को समझने से
एक क्लासरूम में अगर 40 बच्चे पढ़ते हैं तो बहुत सारे ऐसे गुण होंगे जो हर बच्चे में होंगे। कुछ आदतें, कुछ प्रतिक्रियाएं, सोचने का तरीका, मन में उठने वाले विचार...ऐसा ही बहुत कुछ। मुझे कोई किताब नहीं दिखती जो एक क्लास के सारे बच्चों की कॉमन क्वालिटीज को पहचानन...

Post has attachment
What should we value - Uniqueness or Commonality?
I have observed that in many schools, good teachers put in a lot of effort into all children. They believe every child has some unique quality that sets him or her apart. Our good teachers expend all their efforts in trying to bring out those unique abiliti...

Post has attachment
किसे महत्त्व दें - जो ख़ास है या जो सब में सामान है?
मैंने कई स्कूलों में देखा है कि बहुत से अच्छे अध्यापक बच्चों के साथ बहुत मेहनत करते हैं। वो कहते हैं कि हर बच्चे में कुछ खास है। यूनीक है। वह यूनीक ही बच्चे की प्रतिभा है। हमारे अच्छे अध्यापकों की पूरी मेहनत बच्चे की यूनीक प्रतिभा को निखारने में लगी रहती है...

Post has attachment
The World is Changing. And our schools?
The world is rapidly changing. Yet in our classrooms, our textbooks and curricula are still living in the past – with knowledge that is 20-25 years old. But the child studying in the classroom today will live in the world of tomorrow. Do you remember how t...
Wait while more posts are being loaded