Profile cover photo
Profile photo
Brajendra Gupta
67 followers
67 followers
About
Posts

Post has attachment
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाऍं ....
Photo

Post has attachment
Vasant Navratra 2015

नवरात्र शब्द से ‘नव अहोरात्रों (विशेष रात्रि) का बोध’ होता है। इस समय शक्ति के नव रूपों की उपासना की जाती है क्योंकि ‘रात्रि’ शब्द सिद्धि का प्रतीक माना जाता है। भारत के प्राचीन ऋषि-मुनियों ने रात्रि को दिन की अपेक्षा अधिक महत्व दिया है। यही कारण है कि दीपावली, होलिका, शिवरात्रि और नवरात्र आदि उत्सवों को रात में ही मनाने की परंपरा है। यदि, रात्रि का कोई विशेष रहस्य न होता तो ऐसे उत्सवों को रात्रि न कह कर दिन ही कहा जाता। जैसे- नवदिन या शिवदिन। लेकिन हम ऐसा नहीं कहते।

इस बार चैत्र नवरात्र नौ की जगह आठ दिन का होगा। इसका शुभारंभ 21 मार्च से हो रहा है । इस दिन गुड़ी पड़वा और विक्रम नवसंवत्सर का शुभारंभ भी होगा । शुक्ल पक्ष प्रारंभ होने पर चंद्रमा इस दिन मीन राशि में रहेगा, जो शुभ फलदायक रहेगा । स्थापना के दिन 21 मार्च को दिन-रात बराबर होंगे। सूर्योदय सुबह छह बजे होगा और सूर्यास्त शाम छह बजे होगा। यानी दिनरात की अवधि 12-12 घंटे की होगी। ऐसी स्थिति कई वर्षो बाद होगी। नवरात्र के पहले दिन घट स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6:30 बजे से 7:30 बजे तक है। इसके बाद सुबह 9 बजे से 12 बजे तक है। तीसरे और चौथे नवरात्र की पूजा एक ही दिन होगी। इस बार के नवरात्र में पूरे सप्ताह भर राजयोग बन रहा है जो अति शुभ है। हालांकि नवरात्र हमेशा ही शुभ होते हैं, लेकिन शुभ दिनों में यदि राजयोग का मुहूर्त बन जाए तो पर्व के प्रति लोगों का श्रद्धा भाव और बढ़ जाता है। राम नवमी 28 मार्च को मनाई जाएगी।
Photo

Post has attachment
गंगा मैया झलमला, बालोद छ.ग.
Photo

Post has attachment
राधे राधे
Photo

Post has shared content
Jai Jai Shri Ram
बिरादरी से जुड़े और दोस्तों को भी जोड़े 
सभी बिरादरी के सदस्यों से निवेदन है की इस बिरादरी में राम या रामायण के पात्र की ही पोस्ट करें और मॉडरेटर से भी निवेदन है आपको कोई गलत पोस्ट नजर आये उसे आप हटा दे ,,अगर राम या अन्य देवताओं की बिरादरी का कोई सदस्य #मॉडरेटर बनना चाहे तो आपका स्वागत है ,,आप इसके लिए बिना संकोच कह सकते है,,,, पिन की गई पोस्ट से मॉडरेटर छेड़खानी नहीं करें  
Community involved and add friends
Members of the community in the community character of Ram or Ramayana and moderators of the Post's request to remove any wrong,, if you ram it appeared posts or any other member of the community of gods # Moderator If one wanted to welcome,, you can say without hesitation
सभी राम में आस्था रखने वाले श्रीराम की बिरादरी से जुड़े और अपने दोस्तों को भी जोड़ें ,और राम या रामायण की पोस्ट अपना नाम लिख कर जेसा भी आपको उचित लगे ज्यादा से ज्यादा पोस्ट करें ,,अन्य देवी देवताओं की मैने अन्य बिरादरी बना रखी है अत: बिरादरी में राम या राम के पात्र की पोस्ट साझा करें यह आपसे निवेदन और सलाह दोनों है आप जिस रूप में लेना चाहो ,,यह इंडियन की नहीं हिन्दुस्तानी की बिरादरी है ,,,,जय श्रीराम ,,भगवान राम आपका अपने बच्चों की तरह ध्यान रखे और मेरा भी ध्यान रखे यह मेरी श्रीराम से निवेदन है ,,आपसे मांगने की मेरी हिम्मत नहीं आपके प्रति मेरे से कोई गलती हो गई आप हनुमानजी का सेवक समझकर माफ़ कर देना ,,आप के प्रति मेरे प्रेम में कोई कमी नहीं आये यही चाहता हूँ ,,,अन्य देवी देवताओं के लिए मैने दूसरी बिरादरी बना रखी है आप मेरी id से बिरादरी देख कर उनमें भी पोस्ट कर सकते हो 

Post has shared content
Radhe Radhe
🎺🎺मोर पंख की कथा🎺🎺
एक समय गोकुल में एक मोर रहता था🎺🎺
वह रोज़ जब कृष्ण भगवान आते 🎺🎺और जाते तो उनके द्वार पर बैठा एक ही भजन गाता🎺🎺
"🎺🎺मेरा कोई ना सहारा बिना तेरे🎺🎺
गोपाल सांवरिया मेरे🎺🎺
माँ बाप सांवरिया मेरे"🎺🎺
🎺🎺वो इस तरहा रोज़ यही गुनगुनाता रहता 🎺🎺
एक दिन हो गया 2 दिन हो गये
इसी तरहा 1 साल व्यतीत हो गया🎺🎺
परन्तु कृष्ण ने एक ना सुनी
तब वहा से एक मैना उडती जा रही थी🎺🎺
उसने मोर को रोता हुआ देखा और अचम्भा किया🎺🎺
उसे मोर के रोने पर अचम्भा नही हुआ ,🎺🎺उसे ये देख के अचम्भा हुआ की क्रष्ण के दर पर कोई रो रहा है🎺🎺

🎺🎺वो मोर से बोली
मैना: हे मोर तू क्यों रोता हैं🎺🎺
तो मोर ने बताया की
मोर :पिछले एक साल से में इस छलिये को रिझा रहा हु परन्तु इसने आज तक मुझे पानी भी नही पिलाया🎺🎺

🎺🎺ये सुन मैना बोली
मैना: में बरसना से आई हु
तू भी वहा चल 🎺🎺
और वो दोनों उड़ चले और उड़ते उड़ते बरसाने पहुच गये 🎺🎺
जब मैना वहा पहुची तो उसने गाना शुरू किया 🎺🎺
🎺🎺श्री राधे राधे राधे बरसाने वाली राधे 🎺🎺
परन्तु मोर तो बरसाने में आकर भी यही दोहरा रहा था 🎺🎺
🎺🎺 मेरा कोई ना सहारा बिना तेरे
गोपाल सांवरिया मेरे
माँ बाप सांवरिया मेरे"🎺🎺
🎺🎺जब राधा ने ये सुना तो वो दोड़ी चली आई और मोर को गले लगा लिया🎺🎺
राधा: तू कहा से आया हैं
तो मोर ने बोला 🎺🎺
🎺🎺मोर: जय हो राधा रानी आज तक सुना था की तू करुणामयी हो और आज साबित हो गया🎺🎺
🎺🎺राधा: वो कैसे
मोर: में पिछले 1 साल से श्याम नाम की बिन बजा रहा हु और उसने पानी भी नही पिलाया 🎺🎺
🎺🎺राधा: ठीक हैं अब तुम गोकुल जाओ और यही रटो 🎺🎺
🎺🎺जय राधे राधे राधे
बरसाने वाली राधे🎺🎺
🎺🎺मोर फिर गोकुल आता हैं और
गाता हैं🎺🎺जय राधे राधे....🎺🎺
🎺🎺जब कृष्ण ने ये सुना तो भागते हुए आये और बोले🎺🎺
कृष्ण : हे मोर तू कहा से आया हैं🎺🎺
🎺🎺मोर: वाह छलिये जब एक साल से तेरे नाम की बिन बजा रहा था तो पानी भी नही पूछा 🎺🎺और जब आज party बदली तो भागता हुआ आगया🎺🎺
🎺🎺कृष्ण: अरे बातो में मत उलझा बात बता🎺🎺
🎺🎺मोर: में पिछले एक साल से तेरे द्वार पर यही गा रहा हु 🎺🎺
🎺🎺मेरा कोई ना सहारा बिना तेरे
गोपाल सांवरिया मेरे
माँ बाप सांवरिया मेरे"🎺🎺
🎺🎺कृष्ण : तूने राधा का नाम लिया ये तेरा वरदान हैं
और मेने पानी नही पूछा ये मेरे लिए श्राप हैं🎺🎺
🎺🎺इसलिए जब तक ये स्रष्टि रहेगी तेरा पंख सदेव मेरे शीश पर विराजमान होगा🎺🎺
और जो राधा का नाम लेगा वो भी मेरे शीश पर रहेगा🎺🎺
🎺🎺जय हो मोर मुकुट बंशी वाले की🎺🎺

🎺🎺 राधे राधे🎺
Photo

Post has attachment
Shri Kalahasti Temple, A. P.
Bramhvotsav me Bhagwan Shri Kalahasti ki Sobha yatra .
Photo

Post has attachment
इष्‍ट देव श्री बागेश्‍वर बाबा की स्‍थापना
श्री बागेश्‍वराय नम:  हमारे
पूर्वज कश्‍मीर के निवासी रहे है आज से लगभग पॉंच सौ वर्ष पूर्व मुगल बादशाहों के
अत्‍याचारों से पीडीत होकर वहॉं से हटने का विचार बनाया, किवदंतियों के अनुसार
पहले यहॉं से एक सौ इक्‍कीस बैलगाडियॉं लेकर चले, पहले साधन भी कुछ नही बैलगा...
Wait while more posts are being loaded