Profile cover photo
Profile photo
Ganesh Pandey
4 followers
4 followers
About
Posts

Post has attachment
गाय पर तीन कविताएं
- गणेश पाण्डेय  ----------------------------- मैं उस गाय को जानता हूं ------------------------------ मैं उस गाय को जानता हूं जो मेरी मां की सखी थी ठीक मेरी मां की तरह गोरी और सीधी मां जैसे ही  उस गाय के पास  छोटी-सी बाल्टी चाहे भगोना लेकर पहुंचती थी वह गाय ...
Add a comment...

Post has attachment
गाय पर तीन कविताएं
- गणेश पाण्डेय  ----------------------------- मैं उस गाय को जानता हूं ------------------------------ मैं उस गाय को जानता हूं जो मेरी मां की सखी थी ठीक मेरी मां की तरह गोरी और सीधी मां जैसे ही उस गाय के पास छोटी-सी बाल्टी चाहे भगोना लेकर पहुंचती थी वह गाय जा...
Add a comment...

Post has attachment
बिटिया सीरीज
 - गणेश पाण्डेय एक/ बिटिया धोखा वही देगा ---------------------------- बिटिया जिससे बहुत उम्मीद करोगी धोखा वही देगा बिटिया जिससे नजदीकी रिश्ता रखोगी धोखा वही देगा बिटिया जिस पर ज्यादा भरोसा करोगी धोखा वही देगा बिटिया जिससे तनिक हंसकर बोलोगी धोखा वही देगा बिट...
बिटिया सीरीज
बिटिया सीरीज
ganeshpandeyyatra.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
जब आप रिटायर हो रहे हों
- गणेश पाण्डेय मेरे भीतर  कोई है कोई है जो मुझे झिंझोड़-झिंझोड़कर कहता है बार-बार जब आप रिटायर हो रहे हों तो साहित्य की बड़ी से बड़ी  लड़ाई भूलकर घर के छोटे-बड़े जरूरी काम  निबटाएं मकान हो तो ठीक  पुराना हो तो मरम्मत कराएं न हो तो जल्द से जल्द बनवाएं गांव-गिरांव ...
Add a comment...

Post has attachment
जब आप रिटायर हो रहे हों
- गणेश पाण्डेय मेरे भीतर  कोई है कोई है जो मुझे झिंझोड़-झिंझोड़कर कहता है बार-बार जब आप रिटायर हो रहे हों तो साहित्य की बड़ी से बड़ी  लड़ाई भूलकर घर के छोटे-बड़े जरूरी काम  निबटाएं  मकान हो तो ठीक  पुराना हो तो मरम्मत कराएं न हो तो जल्द से जल्द बनवाएं गांव-गिरांव...
Add a comment...

Post has attachment
गरीब सीरीज
- गणेश पाण्डेय  गरीब 1/ गरीब का दिल --------------- कितनी अजीब बात है कि तमाम लोगों ने मिलकर  किसी गरीब का दिल दुखाया और उस गरीब ने बेबसी में तमाम लोगों का दिल दुखाया कितना उदास है  बेचारे गरीब का दिल दुख के इस खेल में एक ही जिन्दगी तो मिली थी उसने यों ही उ...
गरीब सीरीज
गरीब सीरीज
ganeshpandeyyatra.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
इतनी अच्छी क्यों हो चंदा
- गणेश पाण्डेय                                 तुम अच्छी हो तुम्हारी रोटी अच्छी है तुम्हारा अचार अच्छा है तुम्हारा प्यार अच्छा है  तुम्हारी बोली-बानी  तुम्हारा घर-संसार अच्छा है तुम्हारी गाय अच्छी है उसका थन अच्छा है तुम्हारा सुग्गा अच्छा है तुम्हारा मिट्ठू...
Add a comment...

Post has attachment
कवि की पोशाक
- गणेश पाण्डेय हाथी को दिक्कत नहीं होती है घोड़े को दिक्कत नहीं होती है गधे को दिक्कत नहीं होती है आदमी कपड़ा क्यों पहनता है इस शहर के कवियों को दिक्कत होती है कि एक कवि उनकी तरह कपड़ा क्यों नहीं पहनता है उनकी तरह उठता-बैठता क्यों नहीं है महाजनों के पीछे-पी...
कवि की पोशाक
कवि की पोशाक
ganeshpandeyyatra.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
शहर बदर
-  गणेश पाण्डेय एक को मैं इसलिए पसंद नहीं था कि मैं कोई श्रीवास्तव नहीं था दूसरे को मैं इसलिए पसंद नहीं था कि मैं कोई ओबीसी नहीं था तीसरे को मैं इसलिए पसंद नहीं था कि मैं किसी लेखक संघ में नहीं था चौथे को मैं इसलिए पसंद नहीं था कि मैं किसी मठाधीश का भक्त नह...
शहर बदर
शहर बदर
ganeshpandeyyatra.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
प्रिय कवि सीरीज
- गणेश पाण्डेय प्रिय कवि 1/ प्रिय कवि की कारस्तानी ------------------------------- वह बहुचर्चित कवि जो बहुभाषी कविता पाठ के मंच पर अपने पाठ से ठीक पहले बड़ी विनम्रता से देर तक हाथ जोड़े खड़ा था नहीं दिखने के बावजूद कई दशकों से  दिल्ली दरबार में वैसे का वैसा खड़...
प्रिय कवि सीरीज
प्रिय कवि सीरीज
ganeshpandeyyatra.blogspot.com
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded