Profile

Cover photo
GYANDEEP KUMAR
Works at CRY IIT Kharagpur Volunteer Chapter
Attends Indian Institute of Technology Kharagpur
Lives in Kharagpur
138 followers|32,266 views
AboutPostsPhotosYouTube

Stream

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
मुलाकात !!
पिछले कुछ महीनो से थोड़ी उथल पुथल चल रही है मेरी ज़िन्दगी में शायद, कोई है जो मेरे ज़ेहन में बस्ता जा रहा है, वैसे तो उसके साथ समय काटना मुझे रास आता है और दिन का एक हिस्सा उसके बारे में सोचते हुए ही निकल जाता है. जानता हूँ मैं की उसे पाना थोड़ा टेढ़ी खीर चखने क...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
69th स्वतंत्रता दिवस एक CRY Volunteer की नज़र से..
स्वतंत्रता दिवस, हमारे कैंपस में लोग इसका इस्तेमाल काफी सोच समझ कर करते है.कुछ नींद के बेचैन कतरों को पलकों के किनारों पर विश्राम देते है तो कोई पढाई पूजा में दिन व्यतीत करता है, कुछ ऐसे ही लैपटॉप्स,फ़ोन पर पूरा दिन ज़ाया कर देते है तो कुछ थोड़े-बहुत बचे-खुचे ...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
अतीत !!
एक साल हो गया पर ऐसा लगता है जैसे कल की ही बात हो, हम खेलते कूदते, एक दूसरे को तंग करते रहते थे, मज़ाक उड़ाते रहते थे, छेड़ा करते थे, शबाशिया भी देते थे, एक दूसरे को समझते थे और बहुत प्यार करते थे. हाँ कुछ परेशानियाँ भी आई, कुछ को हमने मिलकर हराया, तो कुछ को ह...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
पुराने पल..
कभी कभी मुझे वो ख़ास लम्हें बहुत ज्यादा याद आते है जिन्हे मैंने किसी विशेष व्यक्तियों के साथ ज़ाया किया था.उनकी बातें,उनके अंदाज़ और तौर तरीके जिस पर हम घंटों अपनी दलीलों के पेंच लड़ाते रहते थे.उनकी ख़ुशी और उनकी हर एक छोटी छोटी खुशियों का हिसाब रखते थे.क्युकी व...
 ·  Translate
5
SIDDHARTHA KUMAR's profile photo
 
Kya bhaiya kaise ho?
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
सपनों का शहर...मुंबई !
लोग कहते हैं की मुंबई सपनों का शहर है.यहाँ लोग अनेकों सपने लेकर आते हैं.कोई बॉलीवुड में अपनी किस्मत आज़माने आता है तो कोई अपने बच्चों का पेट पलने की उम्मीद लगाये,कोई अपना भविष्य सवारने आता है तो कोई पापा के कारोबार को आगे बढ़ने.सबके अपने अपने सपने होते हैं जि...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
ज़िन्दगी रॉक्स ...!!!
ज़िन्दगी का खेल होता है ऐसे बिन मौसम बरसात हो जैसे पल भर में ये बदलती है ऐसे धुप और छाए दिन में हो जैसे कभी गम के आंसू टपकती है तो कभी खुशियों की बारिश कर देती है कभी निराशा की शाम करती है तो कभी उम्मीदों की किरण बिखेरती है कभी यारो से लडवा देती है तो कभी नय...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
इल्लुमिनेशन !!
मेरी आँखों में नींद के कतरे काम और ज़ुनून ज्यादा है शायद. ज़ुनून है बस उस १५ मिनट में अपनी ज़िन्दगी जीने का जिसकी कीमत शायद १५ दिन के नींदों से ज्यादा है.हाँ शायद मैंने नींद का सौदा किया है वो चीज़ के लिए जिसे दुनिया महसूस करना चाहती है, सामने से देखना चाहती है...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
69th स्वतंत्रता दिवस एक CRY Volunteer की नज़र से..
स्वतंत्रता दिवस, हमारे कैंपस में लोग इसका इस्तेमाल काफी सोच समझ कर करते है.कुछ नींद के बेचैन कतरों को पलकों के किनारों पर विश्राम देते है तो कोई पढाई पूजा में दिन व्यतीत करता है, कुछ ऐसे ही लैपटॉप्स,फ़ोन पर पूरा दिन ज़ाया कर देते है तो कुछ थोड़े-बहुत बचे-खुचे ...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
एक नज़र !!
बादलों को पर्वतों पर, टूटते देखा है मैंने सूरज को आसमान में, डूबते देखा है मैंने पंछियों को हवाओं में, तैरते देखा है मैंने गर्मियों में फतिंगों को, जलते देखा है मैंने रौशनी को पत्तों पर, बिखरते देखा है मैंने दोस्तों को वक़्त पर, रंग बदलते देखा है मैंने माँ क...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
दोस्ती:एक एटीएम (ऐनी टाइम मदद )
ऐसा क्यों होता है की हम लोगों की अच्छाइयों को छोड़ उनके बुराइयों पर ज्यादा गौर कर बैठते है जब हमारी बारी आती है उनके लिए कुछ करने की.हम अगर किसी की निस्वार्थ भाव से मदद करें और कभी कभार किसी कारण के वजह से उसकी मदद न कर पाये तो उसे सिर्फ वही बात क्यों याद रह...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
स्प्रिंग फेस्ट'15
कॉलेज में बाहर के दोस्तों के साथ वक़्त बिताने का मौका बार बार नहीं मिलता.पर इस बार मुझे भी ऐसे ही कुछ मौका मिल गया था.मैं शुरू से सोचता था कि स्प्रिंग फेस्ट में होता क्या है लड़कियों को ताड़ने के अलावा पर ताड़ने का मज़ा और भी बढ़ जाता है जब आपके साथ आपके दोस्त हो...
 ·  Translate
1
Add a comment...

GYANDEEP KUMAR

Shared publicly  - 
 
ज़िन्दगी रॉक्स ...!!!
ज़िन्दगी का खेल होता है ऐसे बिन मौसम बरसात हो जैसे पल भर में ये बदलती है ऐसे धुप और छाए दिन में हो जैसे कभी गम के आंसू टपकती है तो कभी खुशियों की बारिश कर देती है कभी निराशा की शाम करती है तो कभी उम्मीदों की किरण बिखेरती है कभी यारो से लडवा देती है तो कभी नय...
 ·  Translate
1
Add a comment...
Work
Occupation
Student
Employment
  • CRY IIT Kharagpur Volunteer Chapter
    Strategic Team Head, 2015 - present
  • Awaaz,IIT Kharagpur
    Editor, 2013 - present
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Kharagpur
Previously
Ranchi - Jajpur - Kota - Bhuj
Links
Other profiles
Education
  • Indian Institute of Technology Kharagpur
    Mining Engineering, 2012 - present
  • Jawahar Vidya Mandir,Shyamli
    +2, 2009 - 2011
Basic Information
Gender
Male