Profile cover photo
Profile photo
अमित बहोरे (ज्योतिषाचार्य )
11 followers -
Vedic Astrology, Vastu, Numerology
Vedic Astrology, Vastu, Numerology

11 followers
About
Posts

Post has attachment
#‎साढ़ेसाती‬ का नाम सुनते ही लोगों की हालत ख़राब हो जाती है, जानिए क्या है ‪#‎शनि‬ की साढ़ेसाती शनि की ‪#‎ढईया‬ / ‪#‎पनौती‬ और उनसे बचने के ‪#‎उपाय‬
वर्तमान में ‪#‎धनुराशि‬, ‪#‎वृश्चिकराशि‬ और ‪#‎तुलाराशि‬ में साढ़ेसाती का प्रभाव है और
‪#‎मेषराशि‬ और ‪#‎सिंहराशि‬ ढईया से पीड़ित है
नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और पढ़ें
क्या है ‪#‎शनि_साढ़ेसाती‬ ?
http://www.amitbehorey.com/astrology/sadesati/

Post has attachment
#श्रीयंत्र माता लक्ष्मी का अद्भुत स्वरुप घर में प्रतिष्ठित #श्रीयंत्र का होना और उसकी प्रतिदिवसीय पूजन और वार्षिक पूजन होना अतिआवशयक होती है |
इस वर्ष भी हमारी संस्था प्रत्येक वर्ष की भांति श्रीयंत्र प्रतिष्ठा पूजन और #माता_लक्ष्मी पूजन का आयोजन कर रही है |
आप भी अपने नाम से श्रीयंत्र प्रतिष्ठित करवा सकते है उसके लिए संपर्क करें |
विगत वर्षों में हमारे साथ सैकड़ों लोगों ने हमारे यहाँ श्रीयंत्र प्रतिष्ठा करवाई और प्रत्येक वर्ष बिना कहे वो वार्षिक पूजन के लिए हमको याद दिलाते हैं अर्थात वह श्रीयंत्र उनको निरंतर लाभ प्रदान करा रहा है |
नीचे दिए गए लिंक पर संक्षित्प्त रूप से श्रीयंत्र की महिमा बताई गयी है
जरूर पढ़ें
http://www.amitbehorey.com/astrology/vedic-pujan/shri-yantra-pratistha/  

Post has attachment
आप निरंतर आगे बढ़ना और तरक्की करना चाहते  हैं, तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और पढ़ें जरुर
http://www.amitbehorey.com/inspirational-story/update/

और कैसा लगा यह भी जरुर बताएं ..  

Post has attachment

Post has shared content

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

पितृपक्ष में करें पितरों का पूजन

आश्विन कृष्णपक्ष की प्रतिप्रदा तिथि से पूर्वजों की स्तुति का पर्व पितृपक्ष आरम्भ होगा जो कि कल यही २० सितम्बर से प्रारंभ होगा | इसमें जिस तिथि में पूर्वजों का निधन होता है उसी तिथि पर पिंडदान करने का नियम है, दान पुण्य और ब्राहमण भोजन कराया जाता है | २० सितम्बर से प्रारंभ हो कर पितृपक्ष ४ अक्टूबर तक चलेगा, इसमें प्रतिप्रदा से अमावस्या तक सभी तिथियाँ मिलती है परन्तु यदि किसी पूर्वज का निधन पूर्णिमा तिथि पर हुआ है तो पितृपक्ष आज से ही प्रारंभ मान कर पूर्णिमा का श्राद करना होगा  |
शास्त्रों में इसे " महालयारम्भ :" कहा गया है, इसमें साधक स्वयं कि सुख शांति व पूर्वजों कि आत्मा कि शांति के लिए पिंडदान, तिलदान, जल दे कर पूजन करते हैं |

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded