Profile cover photo
Profile photo
Book Bazooka
3 followers -
We Publish Your Dream
We Publish Your Dream

3 followers
About
Communities and Collections
View all
Posts

Post has attachment
दीप जलाये प्रकाश फैलाये। प्रकाश पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें। #Diwali #Dipawali #HappyDiwali #BookBazooka
https://www.youtube.com/watch?v=-SDBDfU87CU&feature=youtu.be

Post has attachment
#बुकबज़ूका परिवार की ओर से आप सभी को प्रकाश पर्व #दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें। दीप जलाये प्रकाश फैलाये।
#Diwali #Dipawali #Crackers #diwalicrackers #BookBazooka
Photo

Post has attachment
पत्थर से दोस्ती ना कर, अमन से प्यार कर
मोहब्बत तो इबादत है, नमन से प्यार कर
ये मज़हब के ठेकेदार, सुन ले जरा अब
वोट का गणित छोड़, वतन से प्यार कर
#OrderNow #सुकूनकीतलाश by #शैलेशकुमारमेश्राम #शैलेशइनायत #SukunKiTalash #ShaileshKumarMeshram #ShaileshInayat
https://goo.gl/wqyKFQ

Post has attachment
ZEE न्यूज़ बिहार झारखण्ड पर युवा कवि विनोद सागर रचित काव्य संग्रह यादों में तुम के विमोचन कार्यक्रम का समाचार दिनांक 4 अक्टूबर 2017 दिन बुधवार को प्रसारित।
https://www.youtube.com/watch?v=oMNOsjDxEXE

Post has attachment
युवा कवि विनोदसागर द्वारा रचित काव्य संग्रह यादों में तुम का विमोचन कार्यक्रम सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।
#यादोंमेंतुम #विनोदसागर #YaadonMenTum #VinodSagar #DainikBhaskar #BookBazooka
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
10/5/17
5 Photos - View album

Post has attachment
बुक बज़ूका परिवार की ओर से आप सभी को दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें
#HappyDashahara #BookBazooka
Photo

Post has attachment
‘‘जहाँ इक रंग का फूल खिलता है, उसे खेत कहते हैं!
जिसे बाग की चाहत होगी, हिन्दुस्तान पसन्द आएगा!!‘‘
Order Now ज़ज़्बात-ए-कलम एक खूबसूरत एहसास by डॉ मोबीन खान
http://www.bookbazooka.com/book-store/jazbaat-a-kalam-ek-khoobsurat-ehsaah.php
#OrderNow #JazbaatAKalam #DrMobeenKhan

Post has attachment
अरविन्द जी द्वारा रचित उपन्यास खलिश के विमोचन की खबर हिंदी दैनिक समाचार पत्र हरिभूमि में प्रकाशित
http://epaper.haribhoomi.com/?mod=1&pgnum=1&edcode=131&pagedate=2017-09-18
#खलिश #अरविन्दगौतमबेंदी #अरविंदसिंगल #हरिभूमि #बुकबजूका #khalish #HariBhoomi #BookBazooka
Photo

Post has attachment

Post has attachment
भाषा से हमारी योग्यता और अयोग्यता सिद्ध होती है। आज जबकि अन्तर्जाल और सोशल मीडिया का जमाना है लोग पुस्तक से ज्यादा इन्टरनेट से जुड़े हुए हैं कि पुस्तक लिखना और प्रकाशित करवाना फिर उससे लोगों को जोड़ना एक टेढ़ी खीर है किन्तु यथार्थ और मौलिकता के लिये, अच्छी भाषा के लिये यह जरूरी है। जहाँ अच्छी भाषा हमें समाज में सम्मान दिलाती है वहीं अशुद्ध और फूहड़ भाषा हमें अपमानित करती है। कोई अपमानित नहीं होना चाहता। अतएव, हमें सदैव सुन्दर और प्रभावकारिणी भाषा का प्रयोग करना चाहिए। आज आम बोलचाल और साहित्यिक भाषा में नाम मात्र का फर्क रह गया है।
आज हिन्दी माता का जिस तरह से अपमान और अवहेलना हो रही है, यह एक चिन्ता का विषय हैं। लोगों का हिन्दी से पलायन हो रहा है और अँग्रेजी का निरन्तर लोगों में आतुरता स्पष्ट दिखाई पड़ रहा है। हममें सभी भाषाओं को सीखने की उत्सुकता हो ये बुरी बात नहीं है किन्तु जब राष्ट्रीयता की बात आए तो सबसे आगे हिन्दी माता का ही जिक्र होना चाहिए।
मेरे इस काव्य-संग्रह का मुख्य उद्देश्य हिन्दी से लोगों को जोड़ना है। हमें तमाम भाषाओं को सीखने की आजादी है किन्तु हमारी राष्ट्रभाषा का अनादर करके कतई नहीं। - अमिय प्रकाश गौतम
https://goo.gl/4MPtku
#अनकहेपहलू #AnkahePahlu #OrderNow #अमियप्रकाशगौतम #अमरेशगौतम #AmiyaPrakashGautam #AmreshGautam #BookBazooka
Photo
Wait while more posts are being loaded